पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना को हराने के लिए डांस थेरेपी:दवा के साथ डांस से किया जा रहा संक्रमित मरीजों का उपचार, वार्ड में खुशनुमा बनाया जा रहा माहौल

उदयपुर2 महीने पहले
डॉक्टर्स के साथ डांस करते कोरोना संक्रमित।

राजस्थान में कोरोना संक्रमण भयावह रूप ले चुका है। हर दिन संक्रमित मरीजों की मौत का आंकड़ा अपने ही रिकॉर्ड तोड़ रहा है। ऐसे में मरीज मानसिक तनाव और अवसाद में आ रहे हैं। जिसे दूर करने के लिए उदयपुर में अब डांस का सहारा लिया जा रहा है। ताकि मरीजों के मन में व्याप्त डर को खत्म किया जा सके।

आरएनटी मेडिकल कॉलेज की सुपर स्पेशलिटी विंग में कोरोना से ग्रसित डेढ़ सौ संक्रमित मरीज एडमिट हैं। जिनमें कई मरीज ऐसे हैं जो गंभीर रोगियों को अपने नजदीक देख मानसिक रूप से परेशान हो चुके हैं। ऐसे में उन्हें मानसिक रूप से स्वस्थ रखने के लिए डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ और रिकवर हुए मरीज वार्ड में ही नाच गाकर उन्हें प्रोत्साहित करते हैं। जिससे वार्ड में खुशनुमा माहौल बना रहे।

आरएनटी मेडिकल कॉलेज की सुपर स्पेशलिटी विंग के को-ऑर्डिनेटर डॉ राजवीर ने कहा कि संक्रमित मरीज मानसिक अवसाद में आ गए हैं। जिसका असर मरीजों की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर भीपढ़ रहा है। ऐसे में मरीजों को मानसिक रूप से स्वस्थ रखने के लिए मेडिकल स्टाफ द्वारा डांस और म्यूजिक का सहारा लिया जा रहा है। ऐसे आयोजनों से मानसिक रूप से मरीज स्वस्थ होते हैं, जो ज्यादा जरूरी है।

मरीजों को मोटिवेट करने के लिए कारगर म्यूजिक थेरेपी - डॉक्टर लाखन पोसवाल
आरएनटी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉक्टर लाखन पोसवाल ने बताया कि मरीज मानसिक तनाव में थे। जिसकी वजह से उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर इसका असर पड़ रहा था। ऐसे में म्यूजिक थेरेपी की मदद से सुपर स्पेशलिटी विंग में मरीजों को मोटिवेट किया जा रहा है। इसके सकारात्मक परिणाम भी सामने आ रहे हैं। जिसके बाद अब मरीज भी अब इसमें बढ़-चढ़कर शामिल हो रहे हैं।

कोरोना उपचार के दौरान डांस करता मेडिकल स्टाफ।
कोरोना उपचार के दौरान डांस करता मेडिकल स्टाफ।

मानसिक स्वस्थ रहना ज्यादा जरूरी - डॉ गौरव शर्मा

उदयपुर के डॉ गौरव ने बताया कि कोरोना मरीजों की मानसिक स्थिति को दुरुस्त रखना बेहद जरूरी है। पिछले कुछ वक्त में संक्रमित मरीज डर और अवसाद की वजह से अन्य बीमारियों के भी शिकार हो रहे हैं। जिसकी वजह से कुछ मरीजों की मौत भी हुई है। ऐसे में म्यूजिक, मेडिटेशन और प्रॉपर ट्रीटमेंट से ही कोरोना का उपचार किया जा सकता है।