टीचर ने स्कूल ऐप पर शेयर की पॉर्न मूवी:2 घंटे तक नहीं हटा अश्लील वीडियो, ऑनलाइन क्लास के यूआरएल की जगह भेज दिया गलत लिंक

उदयपुर7 महीने पहले
घटना सरदारपुरा स्थित एक नामी निजी स्कूल की है। जहां टीचर ने स्कूल की ऐप पर यूआरएल शेयर किया।

उदयपुर के सेंट पॉल स्कूल के टीचर ने ऑनलाइन क्लास के दौरान ऐप पर पॉर्न वीडियो का लिंक डाल दिया। लिंक भेजते ही कई बच्चों ने उसे खोल भी लिया। कई स्टूडेंट्स के माता-पिता भी हैरान रह गए। आनन-फानन में ​बच्चों ने फोन कर शिक्षक को बताया, लेकिन स्कूल ऐप का सर्वर डाउन होने से घंटों तक लिंक नहीं हटा। शहर भर में इस कारनामें की चर्चा रही। हालांकि स्कूल टीचर और प्रबंधन इसे मानवीय भूल बताकर कुछ भी बोलने बचता रहा। दैनिक भास्कर ने स्कूल प्रबंधन और लिंक डालने वाले शिक्षक को फोन कर कई बार संपर्क करने की कोशिश की, मगर किसी ने भी फोन नहीं उठाया।

पूरा मामला सरदारपुरा स्थित सेंट पॉल स्कूल की ऑनलाइन 10वीं की क्लास चल रही थी। इस दौरान सुबह 8:30 बजे रोजाना की तरह स्कूल ऐप पर टीचर्स लिंक डाल रहे थे। इसी दौरान मैथ्स के टीचर ने भी लिंक डाला। बच्चों ने भी टीचर के डाले लिंक को खोलकर चेक किया तो वो पॉर्न मूवी का यूआरएल था। कई बच्चों ने अपने परिवार को जानकारी दी। इसके बाद पेरेन्ट्स ने स्कूल प्रबंधन और टीचर को फोन कर बताया।

स्कूल का सर्वर डाउन था, घंटों नहीं हटा लिंक

इसके बाद भी 2 घंटे तक लिंक नहीं हटाया जा सका। लगातार पेरेन्ट्स स्कूल के प्रिंसिपल और टीचर को इस करतूत के लिए फटकार लगाते रहे। स्कूल टीचर भी परिजनों से मानवीय भूल बताकर बार-बार सबसे माफी मांगता रहा। फिलहाल इस मामले में थाने में कोई रिपोर्ट नहीं दी गई है। न ही स्कूल प्रबंधन ने टीचर पर कोई कार्रवाई की है।

टीचर में स्कूल की ऐप पर शेयर की पॉर्न वीडियो का लिंक।
टीचर में स्कूल की ऐप पर शेयर की पॉर्न वीडियो का लिंक।

एक अभिभावक ने अपना नाम नहीं लिखने की बात कहते हुए भास्कर को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इसी स्कूल में उनका बेटा 10वीं क्लास में पढ़ता है। बेटे ने लिंक खोला तो अश्लील मूवी चलने लगी। इसके बाद उसने हमें बताया। वैसे मानवीय भूल मानी जा सकती है, मगर सैकड़ों बच्चों की क्लास में ऐसे लिंक को डाला जाना बेहद शर्मनाक है। स्कूल प्रबंधन को भी अपने टीचर्स को इस बारे में विशेष ट्रेनिंग दी जानी चाहिए।

पेरेंट्स ने स्कूल टीचर से भी बात की। उन्होंने भविष्य में ऐसा कभी नहीं करने की बात कहते हुए माफी मांगी है। टीचर ने इसे मानवीय भूल बताया। टीचर वॉट्सऐप के एक ग्रुप से मैथ्स क्लास का लिंक भेजना चाह रहा था। तभी किसी ग्रुप से उससे यह लिंक कॉपी हो गया था।