तीसरी लहर का पहला शतक खतरनाक:113 नए पॉजिटिव, इस सीजन के 23 दिन में सबसे ज्यादा, एक्टिव 385

प्रतापगढ़/धरियावद4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सैंपल लेते मेडिकल टीम। - Dainik Bhaskar
सैंपल लेते मेडिकल टीम।

जिले में कोरोना की तीसरी लहर में पाॅजिटिव मरीजाें का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। गुरुवार को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा की गई जांच में 113 नए कोरोना केस दर्ज किए गए हैं। यह इस सीजन के 23 दिन में मिले सबसे ज्यादा काेराेना मरीज हैं। इनकाे मिला कर जिले में अब तक कुल 424 कोरोना केस आ चुके हैं। 39 मरीजाें के रिकवर हाेने के साथ ही अब 385 एक्टिव केस हैं। वहीं ओमिक्राॅन के 7 केस केस हैं।मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. वीडी मीणा ने बताया कि जिले में 113 नए कोरोना रोगी आए हैं।

इनमें प्रतापगढ़ ग्रामीण में 13, प्रतापगढ़ शहरी क्षेत्र में 67, छोटीसादड़ी में 19, धरियावद में 6, पीपलखूंट में 4, अरनोद में 4 कोरोना के नए रोगी आए हैं। उन्होंने बताया कि जिले में 21 दिसंबर से लेकर अब तक कोरोना के कुल 424 केस मिल चुके हैं। कोरोना की तीसरी लहर में 13 जनवरी का पहला ऐसा दिन रहा, जब एक ही दिन में कोरोना के नए मामले 100 से ज्यादा हाे गए। इससे पहले 12 जनवरी को ही सर्वाधिक 68 नए पॉजिटिव मिले थे। वर्तमान में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्राॅन के भी प्रतापगढ़ में 7 मामले हैं। गुरुवार को एक रिपोर्ट में 6 लोग कोरोना से कवर भी हुए हैं। ऐसे में अब तक कोरोना से कुल 39 लोग रिकवर हो चुके हैं और वर्तमान में एक्टिव केस की संख्या 385 है।

कोरोना की पहली लहर के दौरान 4 महीने में सिर्फ 7 दिन ऐसे रहे थे, जब 1 दिन में कोरोना के मामले 100 या इससे अधिक रहे थे। हालांकि दूसरी लहर के दौरान तो 1 दिन में मरीज मिलने की संख्या 350 से पार भी हो गई थी। राहत की बात यह है कि अभी तक तीसरी लहर के दौरान कोरोना से किसी व्यक्ति की जिले में मौत नहीं हुई है, जबकि दूसरी लहर के दौरान प्रतापगढ़ में कोरोना से 50 लोगों की ऑन रिकॉर्ड मौत हुई थी।

हाॅस्पिटल में प्रत्येक मरीज की हो रही कोरोना जांच
धरियावद क्षेत्र में दिन प्रतिदिन कोरोना के मरीज बढ़ते देख चिकित्सा विभाग सतर्कता से कार्य कर रहा है। इसके चलते ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ. एसके जैन के निर्देश पर चिकित्सा प्रभारी डॉ. अवधेश बैरवा के नेतृत्व में धरियावद के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रेफरल हाॅस्पिटल में आने वाले सभी मरीजों की कोविड सैंपलिंग की जा रही है ताकि क्षेत्र में कोरोना संक्रमण फैलने से रोका जा सके। चिकित्सा प्रभारी डॉ. बैरवा ने बताया कि हाॅस्पिटल के मुख्य गेट पर कर्मचारियों की विशेष टीम लगाकर आने वाले सभी मरीज व परिजन सहित आमजन की कोविड सैंपलिंग करने के पश्चात ही अन्दर जाने दिया जा रहा है। इसके चलते गुरुवार को 200 से अधिक लोगों की सैंपलिंग की गई।

खबरें और भी हैं...