पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

21 अगस्त के बाद मेह हुए मेहरबान:धरियावद में पौन घंटे में 28 एमएम, प्रतापगढ़ में 3 घंटे में 1 इंच बरसात

प्रतापगढ़20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर में तेज बारिश के दौरान गांधी चौराहे पर इस तरह भरा हुआ दिखा पानी। - Dainik Bhaskar
शहर में तेज बारिश के दौरान गांधी चौराहे पर इस तरह भरा हुआ दिखा पानी।
  • दोपहर तक उमस के कारण तापमान में फिर भी आधा डिग्री की बढ़ोतरी, खेतों में भरा पानी

जिले में 21 अगस्त के बाद मेह मेहरबान हुए। सोमवार को धरियावद क्षेत्र में केवल पौन घंटे में ही 28 एमएम बारिश रिकार्ड की गई। प्रतापगढ़ में दोपहर 3 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक करीब 1 इंच बरसात हुई। लेकिन दोपहर तक गर्मी इतनी तेज रही कि तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की गई।

मौसम विभाग के अनुसार सोमवार को दिन का तापमान 36 डिग्री से बढ़कर 36.5 डिग्री तथा रात्रि का तापमान 25 डिग्री से बढ़कर 25.5 डिग्री दर्ज किया गया। सोमवार सुबह दिन की शुरुआत खुले आसमान से हुई।

आसमान में बादल नजर नहीं आए। दोपहर तक तेज गर्मी और उमस ने लोगों को परेशान किया। दोपहर करीब 2:30 बजे मौसम में परिवर्तन हुआ और देखते-देखते आसमान में काले बादल छा गए। करीब 3 बजे शहर सहित आस-पास के क्षेत्रों में बरसात का दौर शुरू हुआ।

इस दौरान शहर में गलियों और सड़कों पर पानी बहने लगा। लोग बारिश से बचने के लिए इधर-उधर भागते हुए दिखे। मौसम विभाग ने सितंबर के पहले सप्ताह में अच्छी बारिश की उम्मीद जताई थी। पिछले 5 दिनों से बारिश नहीं हो रही थी, लेकिन सोमवार को आखिरकार बारिश हुई।

धरियावद में दिन को बारिश व शाम को खुशनुमा मौसम

धरियावद धरियावद क्षेत्र में सुबह से तेज धूप का असर रहा, लेकिन दोपहर को सवा दो बजे के पश्चात अचानक हवाओं के साथ आसमान में बरसाती बादलों ने डेरा जमा लिया। पौन घंटे तक झमाझम बरसात हुई। जिसके किसानों को राहत मिली।

बरसात होने से शाम को मौसम ठंडा हो गया। जिसके कारण आमजन को उमस से राहत मिली। अचानक तेज बरसात होने से नालियों का गंदा पानी सड़कों पर बहने लगा। नदी, नालों में देर शाम को पानी की आवक शुरू हो गई। पौन घंटे में 28 एमएम बरसात दर्ज की।

अवलेश्वर : खेतों में भर गया पानी

अवलेश्वर कस्बे सहित आसपास क्षेत्र में बारिश से फसलों को जीवनदान मिला। इस दौरान प्याज की क्यारियों में पानी भरा हुआ दिखाई दिया। किसानों का कहना है कि फसलों में पानी भरने की वजह से अब अगर कुछ और दिन तक बारिश नहीं भी होगी तो भी समस्या नहीं आएगी। सप्ताह भर से काफी अधिक गर्मी रहने के कारण फसलें सूखने के कगार पर थी। बारिश होने से सोयाबीन, उड़द और मक्का को फलने फूलने में फायदा मिलेगा।


खबरें और भी हैं...