पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विवाद:शमशान लकड़ी व्यवस्था कमेटी के हॉल पर आयुर्वेदिक औषधालय का बोर्ड लगाया, कमेटी ने किया विरोध

छोटीसादड़ी20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नगर पालिका ने लकड़ी व्यवस्था कमेटी की दुकान और गोदाम को 30 मार्च को किया था सीज

नगर पालिका ने गांधी चौराहा स्थित श्मशान लकड़ी व्यवस्था कमेटी की दुकानों के ऊपर बने हाॅल एवं दुकानों के पीछे बने गोदाम को 30 मार्च को सीज कर दिया था। सोमवार को नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी अब्दुल वहीद पुलिस जाब्ते के साथ पहुंचे और आयुर्वेदिक औषधालय का बोर्ड लगा दिया। जिसका कमेटी पदाधिकारियों ने विरोध किया।

श्मशान कमेटी के पदाधिकारियों एवं सदस्यों ने विरोध करे हुए कहा कि इस जमीन का उच्च न्यायालय में मामला विचाराधीन है। इस हॉल को नगर पालिका किसी अन्य को अस्थाई रूप से किराए पर नहीं दे सकती। इसके बाद अधिशासी अधिकारी अब्दुल वहीद एवं सीआई रोहित कुमार ने नगर पालिका के दीनदयाल उपाध्याय सभा भवन में श्मशान लकड़ी व्यवस्था कमेटी के प्रतिनिधिमंडल के साथ वार्ता की। वार्ता में कोई निर्णय नहीं निकल पाया।

कमेटी के अध्यक्ष पाटीदार ने कराया अधिशासी अधिकारी के खिलाफ दी रिपोर्ट

शमशान लकड़ी व्यवस्था कमेटी के अध्यक्ष सुरेश चंद पुत्र मथुरा लाल पाटीदार ने थाना अधिकारी को रिपोर्ट देकर बताया कि अधिशासी अधिकारी ने आयुर्वेदिक अस्पताल का साइन बोर्ड लगाया गया, जो गैर कानूनी है। पदाधिकारियों ने प्रशासन को नगर बंद एवं धरना प्रदर्शन की चेतावनी दी।

कमेटी ने सीढ़ियों पर ताला लगा दिया : शमशान कमेटी के पदाधिकारियों ने दुकानों के पास ऊपर जाने वाली नाल पर ताला लगा दिया और रास्ता बंद कर दिया। कमेटी के पदाधिकारियों ने बताया कि ऊपर जाने की सीढ़ियां उनकी संपत्ति है। इसलिए शमशान लकड़ी व्यवस्था कमेटी द्वारा ताला लगा दिया।

दो दुकान और सीढ़ियों का पट्टा कमेटी के पास

नगरपालिका के अनुसार शमशान लकड़ी व्यवस्था कमेटी के पास दो दुकानों का एवं नाल का पट्टा बना हुआ है। पीछे का गोदाम एवं ऊपर का हॉल का शमशान कमेटी के पास स्वामित्व संबंधित दस्तावेज नहीं होने से नगर पालिका की जमीन है। जिसे नगर पालिका ने 30 मार्च को अपने कब्जे में लिया था। जिस पर श्मशान लकड़ी व्यवस्था कमेटी ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था और मामला उच्चतम न्यायालय में मामला विचाराधीन है।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...