गोवंश तस्करी का मामला:कूटरचित दस्तावेज पेश करने पर सीजेएम ने थानाधिकारी को दिए प्रकरण दर्ज करने के आदेश

प्रतापगढ़14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गोवंश तस्करी के मामले में कूटरचित दस्तावेज तैयार करने को लेकर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट पूरण सिंह ने पशु क्रूरता निवारण समिति के उपाध्यक्ष अधिवक्ता रमेश चंद्र शर्मा की ओर से प्रस्तुत परिवाद में थानाधिकारी को प्रकरण दर्ज कर अनुसंधान के आदेश दिए हैं। पशु क्रूरता निवारण समिति के उपाध्यक्ष ने बताया कि 19 नवंबर 2021 को थाना अधिकारी प्रतापगढ़ के निर्देश पर पुलिस द्वारा नाकाबंदी की गई एवं छोटीसादड़ी की तरफ से आ रहे एक ट्रक को रुकवाया, जिसमें निर्दयता पूर्वक 57 गोवंश को भर रखा था।

इसमें 2 गोवंश की ट्रक में ही मृत्यु हो गई थी एवं 55 गोवंश को कांठल गोशाला प्रतापगढ़ के सुपुर्द किया गया। पुलिस ने इस मामले में आरोपियों के खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध किया। इस पर वाहन मालिक माधव पुत्र बुधिया यादव ने अनुसंधान अधिकारी को एक कूटरचित मुख्तारनामा पेश किया, जो इस प्रकरण के दर्ज होने के बाद भीलवाड़ा में तैयार किया गया, जिसमें वाहन मालिक सहित आरोपी चालक दशरथ पुत्र मनोहर लाल बंजारा निवासी पिपलिया मंडी के फर्जी हस्ताक्षर किए गए।

स्टांप वेंडर द्वारा 28 अगस्त 2021 को स्टांप जारी करना एवं नोटरी पब्लिक द्वारा इसी दिन मुख्तारनामा तस्दीक करना पेश किया गया। यह दस्तावेज प्रकरण दर्ज होने के बाद इन सभी लोगों ने मिलकर वाहन मालिक माधव यादव को बचाने के लिए तैयार किया था। उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्टया मामला यह सामने आया कि वाहन मालिक माधव यादव एवं ट्रक ड्राइवर दशरथ दोनों ही मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं, लेकिन यह मुख्तारनामा उन्होंने भीलवाड़ा में जाकर तैयार कराया, जिससे शंका हुई।

बाद में दोनों के हस्ताक्षर का मिलान किया गया तो फर्जी प्रतीत हुए। दोनों ने न्यायालय में जो हस्ताक्षर किए उनका मिलान इस मुख्तारनामा से नहीं हुआ। स्टांप वेंडर का क्रमांक 81 अगस्त माह में आ रहा था, जिससे भी संख्या काफी कम लगी। इसके अलावा मुख्तारनामा पर माधव यादव एवं दशरथ के एक ही व्यक्ति द्वारा हस्ताक्षर किया जाना प्रतीत हो रहे हैं। भीलवाड़ा के किसी अधिवक्ता ने यह फर्जी दस्तावेज तैयार करवाया, जो कई वर्षों से गोवंश तस्करी के वाहन मालिक को बचाने के लिए कार्य कर रहे हैं। इस मुख्तारनामा के अनुसंधान एवं उस पर किए गए हस्ताक्षर के संबंध में एफएसएल जांच रिपोर्ट से सारी स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

खबरें और भी हैं...