पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसानों को पट्टे जारी किए:पट्‌टे देने की सूचना से विभाग में जुटी किसानों की भीड़, अधिकारी बोले-अफीम समिति ने अफवाह फैलाई

प्रतापगढ़18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नारकोटिक्स विभाग की ओर से जारी सूचना - Dainik Bhaskar
नारकोटिक्स विभाग की ओर से जारी सूचना
  • नारकोटिक्स विभाग ने इस बार 7 हजार किसानों को पट्टे जारी किए हैं, जबकि 1 हजार पट्टे काटे हैं

चित्तौड़गढ़ शहर के नारकोटिक्स विभाग के ऑफिस, कलेक्ट्रेट एवं पोस्ट ऑफिस पर किसानों की भीड़ जुट गई। कारण यह था कि 6 जुलाई को एक विज्ञप्ति के माध्यम से अफवाह फैला दी गई थी कि जिन किसानों के अब तक पट्टे कट चुके हैं और जो पट्टे लेने से वंचित हैं, उन किसानों ₹200 रु. का शुल्क भारतीय अफीम किसान विकास समिति में जमा करवाना है। यह विज्ञप्ति भारतीय अफीम किसान विकास समिति के हवाले से दी गई थी।

इस विज्ञप्ति से अफवाह फैलने के बाद जिले के किसान नारकोटिक्स ब्यूरो ऑफिस के चक्कर लगाने लग गए। इसके बाद विभाग के अधिकारियाें ने कोटा नारकोटिक्स विभाग की ओर से नोटिस जारी करवाकर विज्ञप्ति का खंडन किया। भारतीय अफीम किसान विकास समिति ने बयान जारी कर कहा कि यह सूचना किसी और ने छपवाई है। विकास समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामनारायण झाझरिया ने कहा कि समिति की ओर से 22 जुलाई को बकाया पट्टों काे लेेकर शाहजहांपुर बॉर्डर पर होने वाले धरने-प्रदर्शन के एवज में किसानाें से रुपए लिए गए है। जबकि नारकोटिक्स विभाग का आरोप है कि यह काम भारतीय अफीम किसान विकास समिति का ही है।

प्रतापगढ़ के भी 10,000 से ज्यादा किसान

प्रतापगढ़ में करीब 10 हजार ऐसे किसान हैं जिनको पट्टे लेने है। इनमें से कई किसानाें के पट्टे कट चुके हैं और कई काे नए आवेदन करने है। इसकाे लेकर किसान 6 जुलाई से चित्तौड़गढ़ में चक्कर काट रहे है। गौरतलब है कि इस बार नारकोटिक्स विभाग ने 7 हजार किसानों को पट्टे जारी किए है। जबकि 1 हजार पट्टे काटे है। लगभग 400 किसानों ने अफवाह के आधार पर रसीद कटवा ली।

इस प्रकार थी विज्ञप्ति : विज्ञप्ति में यह सूचना जारी की गई थी कि वर्ष 1998 के बाद जिन किसानों को पट्टे नहीं मिले या कट गए है। उन्हें नारकोटिक्स विभाग चित्तौड़गढ़ की तरफ से नए पट्टे दिए जा रहे हैं। इसकी एवज में ₹200 रू की रसीद कटवाई जा रही है। जब किसान नारकोटिक्स विभाग और कलेक्ट्री पहुंचने लगे तो उन्हें जवाब मिला कि इस तरह से पट्टे नहीं दिए जा रहे। इसको लेकर किसान नाराज हाे गए और प्रदर्शन करने लगे।

समिति की ओर से इस तरह की कोई विज्ञप्ति नहीं निकाली: झाझरिया

कुछ लोग झूठी अफवाह फैला रहे हैं। समिति की ओर से इस तरह की कोई विज्ञप्ति नहीं निकाली गई। किसानों से ₹200 रु. लेकर जो रसीद दी गई है वह 22 जुलाई को शाहजहांपुर में होने वाले धरने के खर्च की एवज में है। ऐसा पहले भी हाेता आया है। पट्टे को लेकर समिति का संघर्ष 7 साल से चल रहा है। हम सब लोग मिलकर लड़ेंगे और पट्टे लेकर आएंगे।

-राम नारायण झाझरिया, राष्ट्रीय अध्यक्ष, भारतीय अफीम किसान विकास समिति।

यह विज्ञप्ति अफीम समिति की ओर से ही निकाली गई। इसकी एवज में किसानों से रुपए लिए गए हैं। मामले को रोकने के लिए कोटा नारकोटिक विभाग की ओर से सूचना निकालकर किसानों को धोखाधड़ी से बचाया जा रहा है।

-एडवर्ड रोजारियो, जिला अफीम अधिकारी, प्रतापगढ़।​​​​​​​




खबरें और भी हैं...