धरना प्रदर्शन:शिक्षा सहयोगी व संविदा कार्मिकों ने कई मांगों को लेकर की हड़ताल

प्रतापगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला मुख्यालय के मिनी सचिवालय के सामने स्वच्छ परियोजना विभाग में मंगलवार को जिले भर के राजस्थान शिक्षा सहयोगी संघ, मां बाड़ी योजना संविदाकर्मियों ने विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल और धरना प्रदर्शन किया। जिलाध्यक्ष नारायणलाल डामोर ने बताया मां बाड़ी योजना का संचालन राजस्थान सरकार की तरफ से किया जा रहा है। वर्ष 2018-2019 के बजट में जनजाति क्षेत्रों में 2679 मां बाड़ी केंद्राें का संचालन किया जा रहा है। मां बाड़ी योजना का संचालन आंध्र प्रदेश सरकार दूरदराज के क्षेत्रों में कम आयु के बच्चों में शिक्षा का प्रचार-प्रसार करने के लिए कर रही थी।

इसी पैटर्न में यह योजना राजस्थान के सहरिया आदिवासी समूह, जनजाति क्षेत्रों के भील, मीणा, गरासिया, डामोर, कटारा के लिए स्वीकृत की गई है। लेकिन अभी तक इसमें कार्यरत शिक्षा सहयोगी के मानदेय में वृद्धि नहीं की गई है। सरकार के सामने सहयोगियों के मानदेय को बढ़ाकर उन्हें संविदा कर्मी का दर्जा देने, नियमित वेतन संकलक का लाभ देने, निधन हो जाने पर उनके स्थान पर उनके परिवार के सदस्यों को अनुकंपा नियुक्ति देने, स्वास्थ्यकर्मी योजना अंतर्गत कार्यरत समस्त स्वास्थ्य कर्मियों को न्यूनतम मानदेय 6 हजार रुपए करने, मानदेय में नियम अनुसार प्रतिवर्ष 10% वृद्धि की जा रही थी, जो पिछले 2 सालों से नहीं की गई है, इस को तत्काल प्रभाव से लागू करवाने की मांग रखी। जिलाध्यक्ष नारायणलाल डामोर ने बताया कि प्रतापगढ़ विधायक और जिला प्रशासन के माध्यम से मांगे रखी गई है। मांगे पूरी नहीं होने तक हड़ताल की जाएगी।

खबरें और भी हैं...