पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्यभार सौंपा:तहसीलदार की एक साल, एसडीएम की दो महीने से जीप खराब, कभी प्राइवेट वाहन तो कभी बाइक से दौरा

कोटड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ब्लॉक के सबसे बड़े अधिकारी एसडीएम व तहसीलदार के वाहन ही जब बेकार हो तो क्षेत्र की व्यवस्था कैसे चल पाएगी। लेकिन कोटड़ा में ये बड़े अधिकारियों के पास वाहन केवल नाम के है। तहसीलदार को मिली जीप करीब एक साल से बेकार पड़ी है। इंजन बॉडी सहित टायर खराब होने से ये चलने लायक नहीं है। ये जीप सालभर से तहसील परिसर में धूल फांक रही है। हालांकि तहसीलदार का पद यहां लंबे समय से रिक्त है। फिलहाल यहां फलासिया तहसीलदार सुरेश मेहता को अतिरिक्त कार्यभार सौंपा हुआ है।

लेकिन यहां तहसील का कार्य तो होता है ऐसे में स्टाफ को भी परेशानी हो रही है। इसके अलावा एसडीएम की जीप भी दो महीने से खराब है। ऐसे मंे वर्तमान में एसडीएम पद पर कार्यरत साधुराम जाट अन्य प्राइवेट वाहन, बाइक तथा कभी पैदल भी देखा जा सकता है। बेकार पड़ी जीप को एसडीएम ने कार्मिक नरेश कुमार, सुधीर कुमार के साथ शुक्रवार को उदयपुर भेजी। फिलहाल एसडीएम के पास अभी कोई वाहन नहीं है।

30-35 की स्पीड से ऊपर जाम हो जाता है इंजन : एसडीएम की जीप की कंडीशन इतनी बुरी है की उसका इंजन तीस से ऊपर की स्पीड पर जाते ही बंद हो जाता है। ऐसे जब जीप को उदयपुर रवाना किया तो एसडीएम ने चालक को 30-35 से ऊपर की स्पीड में जीप को नहीं चलाने की बात कही।

जीप करीब दो महीने से खराब पड़ी है। परेशानी होने पर शुक्रवार को उदयपुर भेजा है। तहसीलदार की जीप भी एक साल से खराब है। वाहन नहीं होने पर सहयोग से काम चलाया जा रहा है।

साधुराम जाट, एसडीएम, कोटड़ा

खबरें और भी हैं...