पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रतापगढ़ जिला क्रिकेट संघ चुनाव विवाद:नए पदाधिकारी और चुनाव से बेदखल पक्ष ने कोर्ट में रखे तर्क, उप रजिस्ट्रार कार्यालय से कोई नहीं आया, अब फैसला 28 को

प्रतापगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रतापगढ़ में जिला क्रिकेट संघ चुनाव में धांधली के आरोप के बाद मुंसिफ कोर्ट में लगाई गई याचिकाओं पर कोर्ट की तरफ से 23 अक्टूबर शुक्रवार को दोनों पक्षों की सुनवाई हुई। इस दौरान निर्वाचन अधिकारी और उप रजिस्ट्रार कार्यालय की तरफ से कोई भी वकील नहीं पहुंचा। इसको लेकर उप रजिस्ट्रार जयदेव सिंह देवल ने बताया कि सरकारी वकील के लिए अप्लाई किया है, जब तक वकील नहीं हो जाते तब तक जवाब नहीं दे पाएंगे। दूसरी तरफ कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रखा है। अब 28 अक्टूबर को कोर्ट इस मामले में फैसला देगा।

चुनाव में निर्वाचित हुए पक्ष की ओर से एडवोकेट अजय कुमार पिचोलिया ने तर्क दिया कि यह मामला कोर्ट के न्याय क्षेत्र से बाहर का है, क्योंकि इसमें मध्यस्थता अधिनियम लागू होता है। जबकि चुनाव से बेदखल हुए पक्ष की ओर से याचिका लगाने वाले संदीप शर्मा ने तर्क दिया कि यह कोई दो क्लब के बीच का विवाद नहीं है, जिसे मध्यस्थता अधिनियम के तहत सुलझाया जाए। पूरे चुनाव में धांधली हुई है, ऐसे में यह चुनाव ही अवैध हो जाता है। इसलिए इसे कोर्ट को ही सुनना चाहिए। इसी के साथ उन्होंने मांग रखी कि, जब तक कोर्ट फैसला नहीं दे देता तब तक निर्वाचित हुए पदाधिकारी को अपने पद के दुरुपयोग से भी रोका जाए। दूसरी तरफ चुनाव से बेदखल हुए पक्ष की ओर से 11 स्टार क्लब के सेक्रेटरी शैलेश सांखला की याचिका पर भी सुनवाई की गई। तीनों ही मामलों को लेकर 28 को फैसला आएगा।

फिर टला फैसला

गौरतलब है कि पहले इस मामले में 22 अक्टूबर को सुनवाई होनी थी। मामले को लेकर सुनवाई के लिए समय मांगा गया तो शुक्रवार को इस मामले में दोनों पक्षों की ओर से सुनवाई की गई। दोनों ही पक्षों ने एक-दूसरे पर सुनवाई को आगे बढ़ाने का आरोप लगाया था। चुनाव से बेदखल हुए पक्ष की तरफ से दो याचिकाएं 19 अक्टूबर को ही मुंसिफ कोर्ट में लगाई गई। इसमें एक याचिका पूर्व कोषाध्यक्ष संदीप शर्मा ने लगाई तो दूसरी याचिका 11 स्टार क्रिकेट क्लब के सेक्रेटरी शैलेश सांखला ने लगाई।

इसमें उन्होंने चुनाव अधिकारी द्वारा नामांकन की सूचना नहीं देकर गड़बड़ी करने का आरोप लगाया है। दोनों मामलों की कोर्ट ने अलग-अलग सुनवाई की है। 19 अक्टूबर को पूर्व कोषाध्यक्ष संदीप शर्मा की याचिका में प्रतापगढ़ क्रिकेट संघ के वर्तमान अध्यक्ष हेम प्रकाश, उप रजिस्ट्रार जयदेव सिंह देवल, निर्वाचन अधिकारी विवेकानंद को पार्टी बनाया गया है। इसको लेकर कोर्ट ने तीनों को नोटिस भी तामिल करवा दिए थे।

इधर पूर्व कोषाध्यक्ष संदीप शर्मा ने कहा- चुनाव संबंधी मेल सभी क्लब को भी नहीं भेजे

केवल 4 लोगों को ही जारी किए मेल, बाकी सभी को क्यों नहीं भेजे

मामले को लेकर प्रतापगढ़ क्रिकेट संघ के पूर्व कोषाध्यक्ष संदीप शर्मा ने निर्वाचन अधिकारी विवेकानंद की ओर से जारी चुनाव संबंधी 8 मेल पर सवाल खड़े कर दिए है। संदीप शर्मा ने बताया कि निर्वाचन अधिकारी उप रजिस्ट्रार कार्यालय के निरीक्षक विवेकानंद की ओर से 16 अक्टूबर शाम 5:12 बजे से लेकर 18 अक्टूबर दोपहर 3:29 बजे तक आठ अलग-अलग मेल जारी किए गए थे। यह सभी मेल उन्होंने पूर्व सचिव पिंकेश पोरवाल, आरसीए सचिव महेंद्र शर्मा, ऑब्जर्वर राजेश भड़ाना और उप रजिस्ट्रार जयदेव सिंह देवल को ही भेजे हैं। जबकि नियमानुसार चुनाव संबंधी मेल सभी क्लब को भेजे जाने चाहिए थे। खास तौर पर चुनाव में हिस्सा लेने वाले सभी सदस्यों को इन मेल का हिस्सा होना चाहिए था, लेकिन यह नहीं हुआ।

पत्राचार का पता ही बदल दिया तो सूचना क्यों नहीं

संदीप शर्मा ने बताया कि निर्वाचन अधिकारी विवेकानंद ने 16 अक्टूबर को रात 11:53 पर एक मेल किया। इसमें एसपीएल 1 से 4 के तहत उप रजिस्ट्रार कार्यालय में नए पते पर नामांकन पत्र भेजने की सूचना दी गई है। लेकिन यह मेल केवल चार लोगों को ही किया गया है। इनमें पूर्व सचिव पिंकेश पोरवाल आरसीए सचिव महेंद्र शर्मा और जरूर राजेश भड़ाना और उप रजिस्ट्रार जयदेव सिंह देवल है। जबकि नियमानुसार नामांकन भरने वाले सभी 26 लोगों को इस मेल की कॉपी भेजी जानी चाहिए थी।

निर्वाचन नोटिस भी केवल 4 लोगों को

संदीप शर्मा ने बताया कि 17 अक्टूबर शाम 5:31 पर एसपीएल क्रमांक 13 से 16 जारी किया गया। इसमें 17 पदों पर होने वाले चुनाव को घटाकर 12 पद ही कर दिए गए, पांच उपाध्यक्ष के पद इसमें हटा दिए गए। इसमें पहली गड़बड़ यह है कि बिना आम सभा के चुनाव की घोषणा के बाद निर्वाचन अधिकारी इस तरह से पद नहीं हटा सकता तो वहीं दूसरी तरफ इस नोटिस को सभी चुनाव लड़ने वाले 26 लोगों को मेल करना चाहिए था, लेकिन यह मेल भी उपरोक्त सिर्फ चार लोगों को ही किया गया।

लेटर 16 का लेकिन मेल 17 को किया, तारीख से 1 दिन पूर्व नामांकन कैसे फाइनल

संदीप शर्मा ने बताया कि निर्वाचन अधिकारी ने 17 अक्टूबर को दोपहर 1:46 पर स्पेशल पत्र क्रमांक 9 से 12 जारी किया। इस पत्र पर 16 अक्टूबर की दिनांक अंकित है। लेकिन यह पत्र 17 को जारी किया गया है। इसमें सबसे बड़ी गड़बड़ यह है कि जब नामांकन पत्रों की सूची का प्रकाशन 17 को हुआ तो नामांकन फाइनल 16 अक्टूबर को ही कैसे हो सकते हैं।

निर्वाचित उम्मीदवारों की सूची तो आम सभा में ही घोषित हो सकती है

निर्वाचन अधिकारी की तरफ से एसपीएल 17 से 20 में 18 अक्टूबर दोपहर 3:29 पर ही निर्वाचित सभी 7 उम्मीदवारों की सूची जारी करने का मेल चलाया गया। जबकि नियमानुसार निर्वाचित उम्मीदवारों की सूची आम सभा में ही घोषित की जा सकती है। इस आमसभा में भी जिला खेल अधिकारी, उप रजिस्ट्रार कार्यालय का कोई व्यक्ति, निर्वाचन अधिकारी, आरसीए का ऑब्जर्वर होना जरूरी है। लेकिन इन नियम कायदों को भी ताक पर रख दिया गया। 12 पदों के चुनाव के लिए 7 पदाधिकारी कोरम कैसे पूरा कर सकते हैं यह भी एक बड़ा सवाल है।

राजस्थान क्रीड़ा अधिनियम के तहत सचिव देता है जानकारी

निर्वाचन अधिकारी पर मेल को लेकर उठाए जा रहे सवाल गलत हैं। क्योंकि राजस्थान स्पोर्ट्स रूल 2004 के नियम 11 (8) के तहत निर्वाचन अधिकारी केवल चुनाव की घोषणा करने वाले सचिव को ही कार्यक्रम भेजते हैं और उन्हें ही उम्मीदवारों को सूचित करना होता है। निर्वाचन अधिकारी ने नियमानुसार जिन लोगों को मेल से सूचना भेजनी थी, उनको भेजी है। चुनाव की तारीखों में जो गड़बड़ियां बताई जा रही है, कोर्ट में उसका जवाब देंगे। रही कोर्ट में सुनवाई के लिए हाजिर होने की बात तो हमने सरकारी वकील के लिए अप्लाई किया है, वकील होने के बाद वह कोर्ट में मौजूद रहेंगे।
जयदेव सिंह देवल, उप रजिस्ट्रार, प्रतापगढ़।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- यह समय विवेक और चतुराई से काम लेने का है। आपके पिछले कुछ समय से रुके हुए व अटके हुए काम पूरे होंगे। संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी समस्या का भी समाधान निकलेगा। अगर कोई वाहन खरीदने क...

और पढ़ें