24 घंटे बाद बच्चों का शव लेने को तैयार परिजन:सात साल के जुडवां भाइयों की हत्या का मामला, विधानसभा अध्यक्ष की समझाइश बाद धरना समाप्त, चार दिन में हत्या का खुलासा करने का दिया आश्वासन

राजसमंद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दो जुडवां भाई। - Dainik Bhaskar
दो जुडवां भाई।

खमनोर थाना क्षेत्र के सांयो का खेडा में वागा की वेर में दो जुड़वा भाईयों की हत्या मामले में 24 घंटे बाद परिजन शव लेने को राजी हुए। विधानसभा अध्यक्ष और विधायक डॉ. सीपी जोशी ने फोन पर ग्रामीणों और समाज के लोगों से समझाइश कर धरना समाप्त करवाया।

घर के आंगन में खेलते हुए गुरुवार दोपहर सात साल के जुड़वा भाई लापता हो गए थे। शनिवार दोपहर को करीब 2 बजे घर से एक किलोमीटर दूर कुएं में दोनों का शव मिला। पुलिस ने खमनोर सीएचसी में पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सुपुर्द करने का प्रयास किया था। परिजन हत्या का खुलासा नहीं होने तक शव नहीं लेने के लिए अडे रहें। रविवार सुबह 9 बजे ग्रामीण,परिवारजन और समाज के लोगों ने खमनोर पुलिस थाने के बाहर धरना दिया। एएसपी शिवलाल बैरवा, नाथद्वारा पुलिस डिप्टी जितेंद्र आंचलिया और खमनोर थानाधिकारी नवल किशोर ने ग्रामीणों से समझाइश की लेकिन ग्रामीण शव लेने के लिए तैयार नहीं हुए। ग्रामीणों का कहना था कि क्षेत्र में पूर्व में भी इस तरह की घटना हो चुकी है, जिनका पुलिस ने अभी तक खुलासा नहीं किया है।

रविवार दोपहर बाद विधानसभा अध्यक्ष ने मामले में दखल देते हुए परिजनों और ग्रामीणों से समझाइश की। इसके बाद परिजन शव लेने के लिए तैयार हुए। एएसपी शिवलाल बैरवा ने परिजनों को घटना का चार दिन में खुलासा करने का आश्वासन दिया। इस दौरान जिला परिषद सदस्य कुक सिंह गौड, खमनोर प्रधान भेरूलाल विरवाल, पूर्व प्रधान पुरुषोत्तम माली, जिला सरपंच संघ अध्यक्ष संदीप श्रीमाली, मदन सिंह परमार, योगेंद्र सिंह चौहान, उनवास पूर्व सरपंच मोहन सिंह, सायो का खेडा सरपंच प्रतिनिधि बंटी मुकेश पुरोहित, राजपूत करणी सेना जिला अध्यक्ष सोहन सिंह, कुठवाँ सरपंच शम्भूसिंह कडेचा, योगेंद्रसिंह चौहान, केसर सिंह गौड़ सहित समाज के लोग मौजूद थे

विधानसभा अध्यक्ष को निरस्त करना पडा कार्यक्रम विधानसभा अध्यक्ष और स्थानीय विधायक डॉ.सीपी जोशी का रविवार दोपहर 3 बजे सांयो का खेडा में ग्रामीणों के साथ संवाद कार्यक्रम प्रस्तावित था। जिसे विधानसभा अध्यक्ष ने निरस्त कर दिया।

यह है मामला
ग्राम पंचायत सांयो का खेड़ा के वागा की वेर निवासी बालू सिंह के दो जुड़वां सात साल के बेटे तंवर सिंह और भूपेंद्र सिंह गुरुवार दोपहर 3 बजे घर के आंगन में खेलते हुए लापता हो गए थे। मां चांदनी बाई ने आसपास तलाश के बाद खमनोर थाने में अपहरण का मामला दर्ज करवाया। बच्चों के नहीं मिलने से क्षेत्र के लोगों में आक्रोश पनप गया और शनिवार सुबह पुलिस और प्रशासन पर दबाव बनाने लगे। पुलिस ने डॉग स्क्वायड की सहायता से बच्चों की तलाश शुरू की तो शनिवार दोपहर घर से एक किलोमीटर दूर कुएं में शव तैरते हुए मिले। परिजनों ने शव लेने से इनकार कर दिया। रविवार को ग्रामीणों ने पुलिस थाने के बाहर धरना दिया।

खबरें और भी हैं...