श्रीनाथजी को कमर तक हल्के शृंगार में सजाया:लाल साटन का चाकदार वागा, पचरंगी पाग और फिरोजा के गहने पहनाए

नाथद्वारा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीनाथजी (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
श्रीनाथजी (फाइल फोटो)

माघ कृष्ण चतुर्थी (शनिवार) को श्रीनाथजी की हवेली में बाल स्वरूपों को लाल साटन के वस्त्र में सजाया गया। प्रभु को विभिन्न सामग्रियों का भोग अरोगाया गया। राजभोग झांकी में मुखिया बावा ने बाल स्वरूपों की आरती उतारी। कीर्तनकारों ने विविध पदों का गान किया। शाम को संध्या-आरती दर्शन बाद श्रीकंठ के शृंगार बड़े (हटा) कर छेड़ान के (छोटे) शृंगार में सजाया जाएगा।

शृंगार झांकी में मुखिया बावा ने श्रीजी के श्रीचरणों में मोजाजी पहनाए। श्रीअंग पर लाल साटन पर किनारी वाला सूथन, चाकदार वागा और चोली अंगीकार कराई गई। लाल मलमल का पटका पहनाया गया। श्याम ठाड़े वस्त्र सजाए गए। श्रीजी को छोटा (कमर तक) हल्का शृंगार किया गया। फिरोजा के सभी गहने पहनाए गए। श्रीमस्तक पर पचरंगी पाग, सिरपैंच, जमाव का कतरा, रूपहरी तुर्री और बायीं ओर शीशफूल सुशोभित किया गया।

श्रीजी को श्रीकर्ण में दो जोड़ी कर्णफूल पहनाए गए। श्रीकंठ में कमल माला और सफेद फूलों की दो मालाजी पहनाई गई। श्रीहस्त में कमलछड़ी, फिरोजा के वेणुजी और वेत्रजी (एक स्वर्ण का) रखा गया। कंदराखंड में लाल सुरमा सितारा के कशीदे के ज़रदोज़ी काम वाली और हांशिया वाली शीतकाल की पिछवाई सजाई गई। गादी, तकिया और चरणचौकी पर सफेद बिछावट की गई।