तारे-सितार:खरमास आज से, एक महीने तक नहीं होंगे मांगलिक कार्य, इस महीने 21 बड़े विशेष योग, खरीदारी के लिए भी है खास

राजसमंदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना के बाद पहली बार सामान्य तौर पर मेहमानों के साथ खूब शादियां हुईं, लेकिन इस साल का अंतिम सावा 13 दिसंबर को रहा। इसके बाद एक महीने के लिए शादियों व मांगलिक कार्यों पर विराम लग गया है, क्योंकि 15 दिसंबर यानि आज से खरमास शुरू हो जाएगा। हालांकि इस बार आखिरी महीना दिसंबर खरीदारी और शुभ कार्यों के लिए खास रहा, क्योंकि 31 दिसंबर तक 15 दिन में 21 बड़े विशेष योग आए हैं। इससे पूर्व कोरोना के बाद शुरू हुए सावों में इस बार शहर के छोटे बड़े मैरिज हाल व गार्डन बुक रहे थे।

डेढ़ साल से बंद पड़े बैंडबाजा, कैटर्स, टेंट आदि व्यवसाय का काफी जोर रहा और लोगों ने 200 से 1000 तक संख्या की शादियां की हैं। दिसंबर के बाद अब जनवरी में शादियां शुरू होंगी, जो जुलाई तक चलेंगी। इन महीनों में भी शादियों की बुकिंग जमकर हैं। जनवरी व फरवरी के लिए सावे बुक हैं। इन दो महीने में भी जिले में एक हजार से अधिक शादियां होंगी। पंडित वरुण गोस्वामी ने बताया कि खरमास धनु मलमास की शुरुआत 15 दिसंबर की रात से होगी, जो कि 14 जनवरी तक रहेगा। इस दौरान लग्न नहीं होंगे। हालांकि इस दौरान विभिन्न कथाओं का दौर जारी रहेगा। मलमास में कई विशेष ग्रह नक्षत्र मिलकर अभीष्ट संयोग का निर्माण करते हैं।

इनमें कोई भी चीज खरीदने और बुकिंग के लिए कई विशेष योग संयोग रहेंगे। आस्था में विश्वास रखने वाले कई लोग मलमास में स्नान, दान, तीर्थ यात्रा करते हैं।मलमास दान पुण्य का महीना भी माना जाता है। इस दौरान भले ही शुभ कार्य वर्जित रहते हों, लेकिन दान पुण्य से काफी लाभ मिलता है। इस माह में जरूरतमंदों को गर्म कपड़े और भोजन आदि देने से ग्रहों का दोष दूर होता है।

खबरें और भी हैं...