41 ऑक्सीजन प्लांट का वर्चुअल लोकार्पण:रघु शर्मा ने नाथद्वारा सहित 41 प्लांट का किया लोकार्पण, बोले- कोरोना काल में सरकार ने किया बेहतरीन काम, संभावित तीसरी लहर के लिए भी तैयार

राजसमंद10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चिकित्सा मंत्री ने किया ऑक्सीजन प्लांट का वर्चुअल लोकार्पण। - Dainik Bhaskar
चिकित्सा मंत्री ने किया ऑक्सीजन प्लांट का वर्चुअल लोकार्पण।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा गुरुवार को राजसमंद आए। मंत्री ने कलेक्टर ऑफिस के वीसी रूम से पीएम केयर्स फंड से नवनिर्मित प्रदेश के 41 ऑक्सीजन प्लांट का वर्चुअल लोकार्पण किया। इस दौरान शर्मा ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने कोरोना से निपटने के लिए बेहतरीन प्रबंध किया है। महामारी की दूसरी लहर में प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी थी, लेकिन राज्य सरकार ने व्यवस्था कर किसी को भी दिक्कत नहीं होने दी। प्रदेश सरकार कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर भी सजग है और इसके लिए पूरी तैयारियां कर ली है।

कोरोना काल में किया बेहतरीन प्रबंधन
रघु शर्मा ने कहा कि कोरोना काल में राज्य सरकार ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के आधारभूत ढांचे को मजबूत किया है, जिसमें नए वार्ड, ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने के साथ ही 3 हजार डॉक्टर, 6500 ANM, GNM और 7810 CHO की भर्ती की गई। जिलों में सीएचए को नियोजित किया गया है। प्रदेश में कोरोना जांच की सुविधाओं को बढ़ाया गया है। 12 जगहों पर RTPCR टेस्ट लैब स्थापित किए, जिससे प्रदेश में प्रतिदिन की 1 लाख 45 हजार तक RTPCR जांच क्षमता है।

उन्होंने कहा कि कोरोना काल की भंयकर त्रासदी में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पूरी संवेदनशीलता एवं समर्पण के साथ कार्य किया है। मुख्यमंत्री ने सभी उपखंड अधिकारियों को निर्देश दिए कि उनके क्षेत्र में किसी दूसरे राज्य से आने वाला व्यक्ति पैदल नहीं जाए। उसके लिए परिवहन, खाने-पीने का इतंजाम किया गया। गांव-ढाणी में मेडिकल विभाग की टीमों ने घर-घर जाकर सर्दी, खांसी, जुखाम के लिए 18 लाख व्यक्तियों को निशुल्क दवाइयों का वितरण किया। जिससे प्रदेश में संक्रमण पर प्रभावी रोकथाम लगाई जा सकी।

तीसरी लहर की आंशका को लेकर की पूरी तैयारी
उन्होंने कहा कि देशभर का करीब 10 प्रतिशत भू-भाग राज्य में है, जिसमें बड़ी संख्या में लोग गांव-ढाणियों में बसते है। उनको इलाज के लिए बड़े शहरों में नहीं जाना पड़े, इसके लिए 332 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर कोरोना के इलाज की व्यवस्था की गई। प्रदेशभर में 400 नए ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों के संक्रमित होने की संभावना ज्यादा है, जिसको लेकर राज्य सरकार ने पूरी तैयारी की है। प्रदेश में शिशु चिकित्सा संस्थानों और विशिष्ठ शिशु इकाइयों, नवजात शिशु देखभाल इकाइयों को मजबूत किया गया है। इसके साथ ही चिकित्सा संस्थानो पर बच्चों के इलाज में आने वाले सभी उपकरण केंद्रीकृत ऑक्सीजन आपूर्ति लाइन और अन्य सभी उपाय सुनिश्चित किए है।

राजस्थान है पूरी तरह तैयार
शर्मा ने कोरोना काल की त्रासदी में सभी जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों, चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम, समस्त जिलों के प्रशासनिक व अन्य कोरोना वॉरियर्स को निष्ठा के साथ दिन-रात काम करने पर साधुवाद दिया और कहा कि हम सभी मिलकर इस भयावह महामारी से लड़ने में सक्षम हुए हैं और आगे भी हम सभी मिलकर संभावित तीसरी लहर का मुकाबला कर सकेंगे, जिसके लिए राजस्थान पूरी तरह तैयार है।

विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी समारोह को जयपुर से वर्चुअल संबोधित किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना महामारी से बचाव के लिए राज्य सरकार और सभी ने बेहतर समन्वय के साथ मिलकर प्रयास किए हैं, जिससे इस महामारी के संक्रमण को रोकने में कामयाबी मिली है। उन्होंने चिकित्सा मंत्री और उनकी विभागीय टीम का आभार जताया

वर्चुअल कार्यक्रम में राज्य स्तर से शासन सचिव स्वास्थ्य शिक्षा, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग वैभव गालरिया, निदेशक जनस्वास्थ्य डॉ. के के शर्मा, राजसमंद वीसी रूम में पूर्व राज्य बीज निगम के अध्यक्ष धर्मेंद्र राठौड़, कलेक्टर अरविंद कुमार पोसवाल, अतिरिक्त जिला कलेक्टर कुशल कुमार, सीएमएचओ डॉ. पीसी शर्मा, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. ललित पुरोहित, कैलाश भारद्वाज, आरसीएचओ डॉ सुरेश मीणा, डिप्टी सीएमएचओ परिवार कल्याण डॉ. ताराचंद गुप्ता, डिप्टी सीएमएचओ स्वास्थ्य डॉ. धर्मेन्द्र गुप्ता, डिप्टी कंट्रोलर सतीश सिंघल मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...