माघ कृष्ण सप्तमी पर श्रीनाथजी का किया श्रृंगार:हीरे के आभूषण से सजाकर झांकी सजाई,हवेली के सभी गेटों को हल्दी से लीपा

नाथद्वारा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो

श्रीनाथजी प्रभु की हवेली में शुक्रवार को श्रीगोविंदलालजी महाराजश्री का जन्मोत्सव मनाया गया। मार्गशीर्ष कृष्ण सप्तमी पर प्रभु की सेवा श्रीरसालिकाजी और श्रीललिताजी के भाव से की गई। हवेली के सभी मुख्य गेटों की देहलीज को हल्दी से लीपा गया। आशापाल की सूत की डोरी से वंदनमाल बांधी गई। मंगला, राजभोग, संध्या और आरती थाली में की गई। बाललीला के पदों को गाकर उत्सव की बधाई दी।

श्रीनाथजी प्रभु का श्रृंगार कर झांकी सजाई गई। मुखिया बावा ने श्रीचरणों में पीले मलमल के मोजाजी धराए। श्रीअंग पर पतंगी तुईलैस किनारी वाला सूथन, घेरदार वागा और चोली अंगीकार कराई गई। पीला मलमल का रुपहली ज़री का किनारी वाला कटि-पटका धराया। प्रभु को छोटा (कमर तक) हल्का श्रृंगार किया गया। श्रीमस्तक पर पीले मलमल की छोरवाली गोल-पाग धराया। श्रीकंठ में हीरा की बद्दी और एक पाटन वाला हार पहनाया। श्रीकर्ण में कर्णफूल धराए। पीले पुष्पों की रंग-बिरंगी थागवाली एक माला पहनाई। तकिया और चरणचौकी पर सफेद बिछावट की गई।