मार्बल रॉयल्टी बढ़ाने का विरोध:राजसमंद में 1200 मार्बल व 300 ग्रेनाइट खदानें, 3 हजार कटर, 500 मार्बल गैंगसा तथा 300 ग्रेनाइट गैंगसा कटर में बंद रहा काम, 40 हजार श्रमिक हुए प्रभावित

राजसमंदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मार्बल की खदान। - Dainik Bhaskar
मार्बल की खदान।

राज्य सरकार की ओर से बढ़ाई मार्बल रॉयल्टी के विरोध में बुधवार को जिले की समस्त मार्बल इकाइयों में उत्पादन और लदान बंद रहा। राजसमंद में 1200 मार्बल व 300 ग्रेनाइट खदानें, 3 हजार कटर, 500 मार्बल गैंगसा तथा 300 ग्रेनाइट गैंगसा कटर में लदान बंद रहा। मार्बल व्यवसाय बंद होने से मार्बल व्यवसाय से जुड़े करीब 40 हजार श्रमिक प्रभावित हुए। लदान बंद होने से ट्रांसपोर्ट व्यवसाय भी प्रभावित रहा। इन खदानों से रोजाना 3500 ट्रकों और ट्रेलर से लदान होता है, जो बंद रहा।

हड़ताल के चलते खड़े ट्रक।
हड़ताल के चलते खड़े ट्रक।

एसोसिएशन अध्यक्ष गौरव सिंह ने बताया कि मार्बल व्यवसायी कोरोना काल में बढ़ती महंगाई में पेट्रोल, डीजल, बिजली की दरें, ई-रवन्ना, ऑनलाइन रिटर्न, जीएसटी के कारण पहले से परेशान हैं। ऐसे में राज्य सरकार ने 265 रुपए प्रति टन से 55 रॉयल्टी बढ़ाकर 320 रुपए प्रतिदिन रॉयल्टी कर दी है। सरकार द्वारा बढ़ाई गई 21 प्रतिशत रॉयल्टी के विरोध में मार्बल माइंस ऑनर्स एसोसिएशन द्वारा बैठक में अनिश्चितकालीन बंद रखने का निर्णय लिया था। एसोसिएशन ने रॉयल्टी की दरें यथावत रखने की मांग की। सरकार द्वारा रॉयल्टी की बढ़ी हुई दरें वापस नहीं लेने तक लदान बंद रखने का निर्णय लिया।

खबरें और भी हैं...