पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कैसे थमेंगे ये राेग:स्क्रब टाइफस के 102 राेगी मिल चुके, काेराेना संक्रमण राेकने में उलझे चिकित्सा विभाग ने कीटनाशक तक नहीं छिड़कवाया

राजसमंद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अगस्त में 37 और सितंबर में स्क्रब टाइफस के 55 केस सामने आए, पूरे साल में 102 मामले, डेंगू के भी 20 राेगी मिल चुके

काेविड-19 से संक्रमण के इस दाैर में स्क्रब टाइफस, डेंगू, मलेरिया जैसी माैसमी बीमारियाें भी बढ़ती जा रही है। पूरा चिकित्सा विभाग पिछले छह-सात महीने से काेराेना महामारी से निपटने में जुटा हुआ है। ऐसे में स्क्रब टाइफस जैसी बीमारी के मरीज बढ़ते जा रहे हैं।

अमूममन पहाड़ी इलाकाें में स्क्रब टाइफस के राेगी ज्यादा मिलते हैं, लेकिन संक्रमण अब शहर में भी फैलने लगा है। जिले में काेराेना के बीच स्क्रब टाइफस के सबसे अधिक 102 मामले सामने आ चुके हैं। डेंगू के भी 20 मरीज और मलेरिया के 3 केस आए हैं।

हालांकि पिछले साल स्क्रब टाइफस के 196 मरीज मिले थे। पिछले साल की स्थिति इस बार नहीं है। चिकित्सा विभाग ने इस बार एंटी लार्वा एक्टीवीटी, कीटनाशी दवाओं का छिड़काव, पानी से भरे गड्ढाें में गंबुशिया मछलियां डालने और फाेंगिग भी नहीं करवाई है। इससे माैसमी बीमारियाें के मरीज बढ़ रहे हैं। विभाग के इसके पीछे काेराेना महामारी के कारण ऐसा नहीं करना बता रहा है।

ज्वर संक्रमित माइट यानी पिस्सू के काटने से फैलता है स्क्रब टाइफस

ब्लाॅक सीएमओ डाॅ. राजकुमार खाेलिया ने बताया कि स्क्रब टाइफस के राेगियाें काे मुख्य रूप से तेज बुखार, सिर दर्द, ठंड लगना, पसीने अाना, मांसपेशियाें में अकड़न की शिकायत हाेती है। ऐसी शिकायत हाेने पर तुरंत डाॅक्टर काे दिखाना चाहिए।

स्क्रब टाइफस ज्वर संक्रमित माइट या पिस्सू के काटने से फैलता है। इसका बैक्टीरिया झाड़ियाें, खेताें, घास और घर में रहने वाले कीटाें में पाया जाता है, जाे इन कीटाें के काटने पर शरीर में प्रवेश करता है। यह बीमारी बारिश के माैसम और इसके बाद में तेजी से फैलती है।

ऐसे करें बचाव

घर के आसपास गंदा पानी, कचरा, नमी बनाने वाली चीजें ना रहने दें। घर के आसपास झाड़ियाें और हरियाली वाली जगहाें पर नियमित सफाई जरूर करें। बचाव के लिए घर में ही पालतू पशुओं की जगहाें पर सफाई पर खास ध्यान दें। हरियाली और पेड़ पाैधाें के बीच जाते समय पूरी बाह की कमीज पहनें।

विभाग काे दवा के छिड़ाव करने के निर्देश दिए हैं

बरसात और इसके बाद के माैसम में माैसमी बीमारियाें के मामलाें में बढ़ाेतरी हुई है। स्क्रब टाइफस के केस भी अगस्त और सितंबर में ज्यादा बढ़े हैं। इसके मद्देनजर पशुपालन विभाग काे मामलाें की जानकारी दी है। विभाग काे दवा के छिड़ाव करने के निर्देश दिए हैं। -डाॅ. राजकुमार खाेलिया, ब्लाॅक सीएम​ओ

सबसे अधिक स्क्रब टाइफस के मामले बढ़े

इस साल सितंबर तक सबसे अधिक स्क्रब टाइफस के 102 मरीज सामने आए हैं। जबकि डेंगू के 20 मामले सामने आए हैं। तीसरी प्रमुख बीमारी मलेरिया के अब तक तीन मामले सामने आए हैं। हालांकि स्क्रब टाइफस के अलावा दूसरी बीमारियाें के मरीजाें की संख्या इतनी नहीं है। ऐसे में लाेगाें काे चिंता करने की जरूरत नहीं है।

वर्ष स्क्रब टाइफस मामले
2016 82
2017 99
2018 158
2019 196
2020 102
नाेट : इस साल सितंबर तक के आंकड़े हैं

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर जमीन जायदाद संबंधी कोई काम रुका हुआ है, तो आज उसके बनने की पूरी संभावना है। भविष्य संबंधी कुछ योजनाओं पर भी विचार होगा। कोई रुका हुआ पैसा आ जाने से टेंशन दूर होगी तथा प्रसन्नता बनी रहेगी।...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser