पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आरएएस-2018:पहली बार आरएएस में राजसमंद की सात प्रतिभाओं का चयन

राजसमंद17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
महेश, रैंक : 17वीं - Dainik Bhaskar
महेश, रैंक : 17वीं
  • राजसमंद के महेश गगोरिया ने 17वीं तो आमेट निवासी दिव्यराज ने 38वीं रैंक हासिल कर जिले का नाम रोशन किया

आरएएस में राजसमंद जिले की 7 प्रतिभाओं का चयन हुआ है। इसमें दो ने तो टॉप 50 मं अपनी जगह बनाई हैं। आरएएस में किसी ने बैंक मैनेजर रहते हुए तो किसी ने व्याख्याता होते हुए भी कड़ी मेहनत कर सफलता अर्जित की।

जिले से एक साथ 7 छात्राें का आरएएस में चयन पहली बार हुआ हैं। राजसमंद निवासी महेश गगोरिया ने तो टॉप 20 में अपना स्थान बनाया है। उन्होंने 17वीं रैंक हासिल की। इससे उनका एसडीएम बनना तय है। महेश गगोरिया के पिता एसबीआई में बैंक मैनेजर है।

देवगढ़ निवासी ऋतु जोशी, जो चार बहन हैं। इनके दादाजी भी प्रिंसिपल थे। पिता राजेंद्र प्रसाद जोशी शारीरिक शिक्षक थे। जिनका हाल ही 5 अक्टूबर को निधन हो गया था। ऋतु जोशी वर्तमान में बरजाल स्कूल में व्याख्याता के पद पर हैं। परिवार की प्रतिकूल परिस्थितियों में वह आरएएस बनी।

सेलागुढ़ा निवासी अक्षयवीर सिंह चूंडावत ने 394वीं रैंक हासिल की। इनके पिताजी लक्ष्मणसिंह चूंडावत राजसमंद में पशुपालन विभाग में संयुक्त निदेशक के पद से सेवानिवृत्त हुए। अक्षयवीर सिंह महाराष्ट्र के नागपुर में फ्रांस की कम्पनी में डिप्टी मैनेजर के पद पर कार्यरत है।

आमेट निवासी दिव्यराज सिंह चूंडावत ने 38वीं रैंक, गिलूंड के जितेंद्र शर्मा की 504वीं रैंक, नाथद्वारा निवासी नेहा राव ने 582वीं रैंक हासिल की। नेहा अभी बैंक कर्मी है। राजसमंद पुलिस लाइन निवासी मनीष कुमार रॉय की 886वीं रैंक आई।

खबरें और भी हैं...