32 घंटे बाद पुलिस के हत्थे चढ़ा आरोपी:दुष्कर्मी को युवाओं ने डबोक में पकड़कर पुलिस को सौंपा, गुजरात जाने की फिराक में था, एसपी बोले-7 दिन में चालान

राजसमंद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस गिरफ्त में दुष्कर्म का आराेपी। - Dainik Bhaskar
पुलिस गिरफ्त में दुष्कर्म का आराेपी।
  • दो दिन पहले 9 वर्षीय मासूम से दुष्कर्म करने का मामला, पुलिस की 7 टीमाें ने की तलाश

राजसमंद में 9 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म करने वाला दरिंदा 32 घंटे बाद पुलिस के हत्थे चढ़ गया। पुलिस ने मंगलवार रात काे जागरूक युवाओं की मदद से आराेपी काे भटेवर राेड से गिरफ्तार किया। आराेपी यहां से गुजरात जाने की फिराक में था।

आराेपी पिछले तीन दिनाें से मजदूरी के लिए राजसमंद आ रहा था। मजदूरी नहीं मिलने पर पैदल जाते समय मासूम लड़की काे अकेला देख घटना काे अंजाम दिया था। घटना के बाद पुलिस ने आराेपी के फाेटाे और वीडियाे जारी किए थे।

जिससे आराेपी की पहचान हाे पाई। एसपी सुधीर चाैधरी ने बताया कि पीपलवास, घाटी, केसूली खमनाेर निवासी संताेष 22 पुत्र कुकाराम भील काे शहर के पास 9 वर्षिय मासूम से दुष्कर्म के आराेप में गिरफ्तार किया। आराेपी संताेष भील काे उदयपुर के डबाेक थाना क्षेत्र के भटेवर राेड से गिरफ्तार किया।

आराेपी संताेष ट्रेन से पिछले दाे-तीन दिन से राजसमंद-कांकराेली आ रहा था। वहीं मजदूरी करने के बाद वापस नाथद्वारा चला जाता था। घटना वाले दिन साेमवार सुबह मंडियाणा से ट्रेन में बैठकर कांकराेली रेलवे स्टेशन आया।

वहां से सीधा मुखर्जी चाैराहा दिहाड़ी मजदूरी के लिए पहुंचा। लेकिन उस दिन मजदूरी नहीं मिली। इस पर आराेपी वापस नाथद्वारा जाने के लिए बस स्टैंड आया, लेकिन बस नहीं मिलने और पैसाें के अभाव में पैदल ही नाथद्वारा जाने के लिए जेके सर्कल की तरफ से जेके टायर फैक्ट्री हाेते हुए आरके अस्पताल के रास्ते की जाने की साेचकर वापस नाथद्वारा जाने के लिए निकला।

आराेपी जेके सर्कल हाेते हुए रेलवे स्टेशन पहुंचा, जहां शराब ठेके पर शराब पी और वापस जेके के रास्ते पैदल ही चल पड़ा। जेके फैक्ट्री गेट में घुसने के बाद जेके कर्मचारी काे बाइक पर आता देख लिफ्ट मांगी। बाइक से लिफ्ट लेकर जेके फैक्ट्री उतारा।

वहां से पैदल ही घटना स्थल की तरफ चल पड़ा। रास्ते में कुछ मकानाें से राेटी मांगने लगा ताे एक मकान मालिक ने आराेपी काे राेटी दी। राेटी खाने के बाद वापस नाथद्वारा जाने के लिए पैदल निकला।

बीड़े में मासूम काे अकेला देखकर दुष्कर्म कर दिया। मासूम के विराेध पर उठाकर नीचे पटक दिया। इससे सिर में पत्थर की चाेट लग गई। वहीं दुष्कर्म करने के दाैरान मासूम की पीठ में भी चाेट आई। इससे वह चिल्लाई ताे आस पास की महिलाएं दाैड़कर आई। इससे आराेपी माैके से फरार हाे गया। लेकिन आराेपी की टाेपी, पेन और कंघा माैके पर ही गिर गया।

इसके बाद ग्रामीण बच्ची काे अस्पताल ले गए और आराेपी पैदल ही वापस कांकराेली रेलवे स्टेशन आ गया। थाेड़ी देर बाद आराेपी वापस अपनी टाेपी, पेन व कंघा लेने घटना स्थल पर गया। घटना स्थल पर भीड़ देखकर पैदल ही रेलवे लाइन से बेजनाल चला गया। वहां से ट्रेन में बैठकर मंडियाणा चला गया।

वहां से वापस मंडियाणा से मावली पैदल गया और साेमवार रात वापस मावली से नाथद्वारा आ गया। नाथद्वारा से आराेपी संताेष मावली हाेकर डबाेक भटेवर राेड से गुजरात जाने की साेच रहा था। तभी लाेगाें ने पकड़कर पुलिस काे साैंप दिया।

रियल हीरो बोले- मोबाइल पर बात करते देख पहचान कर पुलिस को की इत्तला

बड़ारड़ा निवासी भग्गानाथ, धन्नानाथ, देवानाथ व शंकरनाथ सामाजिक काम से मंगलवार शाम उदयपुर जिले के डबाेक थाना क्षेत्र के भंवरियाजी बावजी गए थे। तभी देर शाम रात 8 बजे अाराेपी संताेष भटेवर राेड से उदयपुर डबाेक की तरफ पैदल ही माेबाइल पर बात करता अा रहा था।

पुलिस के साेशल मीडिया पर जारी किए आराेपी के फाेटाे व वीडीयाे देखकर भग्गानाथ ने आराेपी काे भटेवर राेड से डबाेक आते समय माेबाइल पर बात करते देख पहचान कर बाइक काे राेका और आराेपी से पूछताछ की।

इस पर आराेपी ने खुद काे केसूली खमनाेर का बताते हुए उदयपुर जाने की बात कहीं। इस पर भग्गानाथ ने आराेपी काे पास बुलाया और बैठाकर पूछा कि कांकराेली में क्या करके आया है, इस पर आराेपी के हावभाव देखकर शक हुआ ताे पकड़कर बैठा दिया।

आराेपी जाने लगा ताे भग्गानाथ ने अपने सहयाेगियाें की सहायता से रात सवा 8 बजे कांकराेली पुलिस से सूचना दी। इस पर पुलिस ने डबाेक उदयपुर पुलिस काे सूचना देकर माैके पर भेजा। करीब साढ़े 9 बजे डबाेक उदयपुर पुलिस ने आराेपी काे डिटेन कर राजसमंद कांकराेली पुलिस काे सूचना दी। जहां से आराेपी काे पकड़कर गिरफ्तार किया।

आरोपी ने बागरिया समाज की महिला से किया प्रेम विवाह

आराेपी संताेष ने 15 साल की उम्र में देपुर मंडियाणा निवासी बागरिया समाज की महिला से प्रेम विवाह किया था। इसकी एक लड़का व दाे लड़कियां भी हैं। संताेष की पत्नी मारवाड़ जंक्शन पर भीख मांगती है। आराेपी नाथद्वारा में दिहाड़ी मजदूरी करता और महीने में एक या दाे बार रेल से मारवाड़ जंक्शन परिवार से मिलने जाता था। नाथद्वारा में दिहाड़ी नहीं मिलने पर पिछले तीन दिन से कांकराेली आ रहा था।

जिला विशेष टीम सहित सात टीमों ने आरोपी को तलाशा, फुटेज जारी किए

एसपी सुधीर चाैधरी और एएसपी शिवलाल बैरवा के नेतृत्व में जिला विशेष टीम सहित 7 टीमाें का गठन किया था। इसमें जिला विशेष टीम का विशेष याेगदान रहा। जिला विशेष टीम में राजसमंद डीएसपी बैनीप्रसाद मीणा, कुंवारिया थानाधिकारी पेशाव रखान, साइबर सेल प्रभारी एएसआई पवनसिंह, हैड कांस्टेबल शम्भुप्रतापसिंह, कांस्टेबल विक्रम चाैधरी, शिवदर्शनसिंह, मदनसिंह, इंद्र चाेयल, रामकरण, हंसराज, सुनील टीम में शामिल थे।

वहीं कांकराेली पुलिस की टीम में थानाधिकारी याेगेंद्र व्यास, राजनगर थानाधिकारी डाॅ हनुवंतसिंह, रेलमगरा थानाधिकारी भरत याेगी, आमेट थानाधिकारी प्रेमसिंह, केलवा थानाधिकारी प्रवीण जुगतावत, सीआई बंशीलाल, सीआई श्यामराजसिंह, डीएसबी शाखा प्रभारी लक्ष्मणसिंह, रतन व्यास, नरेश पालीवाल, हैड कांस्टेबल दिलीपसिंह, विनाेद कुमार, थानाराम, नारायणलाल, विक्रमसिंह, दिनेशकुमार, डबाेक थानाधिकारी लीलाधर मालवीय सहित 76 जवानाें की टीम की मदद से आराेपी पकड़ में आया।

केस ऑफिसर स्कीम में लेकर जल्द न्याय दिलाएंगे : एसपी

पीड़िता काे त्वरित न्याय दिलाने काे केस ऑफिसर स्कीम में लेकर 7 दिन में न्यायालय के अंदर चालान पेश किया जाएगा। न्यायालय ट्रायल में पीड़िता काे न्याय दिलवाया जाएगा और पुनर्वास एवं अधिकतम अनुदान दिलाने के प्रयास कर आराेपी काे फांसी की सजा दिलवाई जाएगी। डबाेक से आराेपी का वीडियाे वायरल हाेने की जानकारी नहीं हैं। -सुधीर चाैधरी, एसपी, राजसमंद





खबरें और भी हैं...