तीतर का शिकार करते 4 शिकारी गिरफ्तार:दो कारतूस, चाकू और कार बरामद, 1 शिकारी कार ड्राइवर के साथ भाग निकला

​​​​​​​ राजसमंद4 महीने पहले
पुलिस की गिरफ्त में आए 2 शिकारी महाकाल गैंग के सदस्य है।

राजसमंद जिले की देवगढ़ पुलिस ने तीतर का शिकार कर रहे 4 शिकारियों को गिरफ्तार किया है। इस दौरान मौका पाकर एक शिकारी कार ड्राइवर के साथ फरार हो गया। गिरफ्तार आरोपियों के पास से पुलिस को 2 कारतूस, चाकू और 2 मरे हुए जंगली मुर्गे मिले है। पुलिस ने एक कार को भी जब्त किया। पुलिस मौके से फरार हुए शिकारियों की तलाश कर रही है। पुलिस ने शुक्रवार को शिकारियों को कोर्ट में पेश किया, जहां से आरोपियों को 2 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया। पकड़े गए 2 आरोपी महाकाल गैंग के सदस्य है, जिनके खिलाफ पहले भी कई मामले पुलिस थानों में दर्ज है।

देवगढ़ थाना अधिकारी शैतान सिंह नाथावत ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली कि रिको एरिया बग्गड़ में 5-6 युवक 2 कार लेकर खडे़ हैं और बंदूक से फायर कर शिकार कर रहे हैं। इस पर टीम के साथ मौके पर पहुंचा। इस दौरान पुलिस को देख बंदूक लेकर खड़ा युवक कार में बैठकर फरार हो गया। पुलिस ने दूसरी कार के पास खड़े युवक को पकड़ लिया और तलाशी ली। कार में ड्राइवर सीट के नीचे रखे एक प्लास्टिक कट्टे में 2 मृत पक्षी मिले और दोनों की गर्दन आधी कटी हुई थी। कार के अंदर एक खाली बंदूक का कवर और कार की पीछे वाली सीट पर पाइंट टू-टू के दो राउंड जिंदा मिले। पूछताछ में युवकों ने दोनों पक्षी कालीघाटी, पाली रोड से शिकार करना बताया। वे रीको एरिया में तीतर का शिकार कर रहे थे। शिकार के लिए उदयपुर निवासी रेहान ने 2 फायर किए, लेकिन दोनों ही फायर मिस हो गए। पुलिस ने वन्य जीव (संरक्षण) और आर्म्स एक्ट में मामला दर्ज किया।

पुलिस ने उदयपुर के अंबामाता पुलिस थाना के गवरी चौक राता खेत निवासी सरफराज खान (24) पुत्र इश्तियाक खान, अंबामाता मल्ला तलाई गरीब नवाज कॉलोनी निवासी मोहम्मद कामरान खान (25) पुत्र मोहम्मद रफिक, महाकाल गैंग के सदस्य देवगढ़ थाना क्षेत्र के नया तलाब काछबली निवासी हनुवंतसिंह उर्फ हनी (22) पुत्र नन्हासिंह रावत औरपिपली नगर नया कुआं निवासी हरेंद्र सिंह (25) पुत्र प्रतापसिंह को गिरफ्तार किया। हनुंवत सिंह पर चोरी, नकबजनी और लूट के 8 मामले दर्ज है। शिकारी गैंग का सरगना महाकाल गैंग का सदस्य हनुवंत सिंह है। हनुवंतसिंह को जब शिकार करना होता, तो साथियों को फोन कर बुला लेता था और शिकार पर चले जाते थे। भीम डिप्टी एसपी राजेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपी पीछले एक साल से कालीघाटी संरक्षित वन्य जीव वन क्षेत्र में शिकार कर रहे थे। आरोपी वन विभाग में भी वांछित है। दो फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है। दोनों को जल्द गिरफ्तार कर बंदूक और कार को बरामद किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...