पेट्रोल के बढ़ते रेट का इफेक्ट:बुक हो रही कारों में 50% CNG वाली, इलेक्ट्रिक स्कूटर की सेल 3 गुना बढ़ी; 2 महीने की वेटिंग

आगरा:2 महीने पहले
अब ई-बाइक के लिए 2 से 3 महीने की वेटिंग हो गई है।

पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ते दामों के चलते सीएनजी कार और इलेक्ट्रिक स्कूटर की बिक्री में दोगुनी बढ़ोतरी हुई है। आगरा समेत उत्तर प्रदेश के कई महानगर में इस बार नवरात्रि पर लोगों ने सीएनजी कार खरीदने में दिलचस्पी दिखाई है। ई-बाइक के शोरूम में भी भीड़ लग रही। आलम यह है कि अब ई-बाइक के लिए 2 से 3 महीने की वेटिंग हो गई है।

यूपी के कई महानगरों में बढ़ी डिमांड
दो माह पहले की बात करें तो आगरा में एक माह में औसतन 50 सीएनजी कारों की बिक्री होती थी। मगर, 15 सितंबर से अब तक यह आंकड़ा करीब 150 तक पहुंच गया। आलम यह है कि सीएनजी कार के लिए दो से चार माह की वेटिंग आ रही है। नवरात्रों में हुंडई, मारुति और टाटा की सीएनजी कारों की दीवाली के लिए बुकिंग हो गई।

शोरूम में सीएनजी कार का स्टॉक नहीं है। आटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन के संस्थापक मयंक बंसल ने बताया कि आगरा में सीएनजी कारों की डिमांड तेजी से बढ़ी है। तीन महीने पहले की बात करें तो आगरा में औसतन 50 सीएनजी कारों की बिक्री थी। मगर, पिछले एक माह में अचानक सीएनजी कारों की डिमांड दोगुने से ज्यादा हो गई है। नवरात्रि में ही आगरा में करीब 150 सीएनजी कारों की बुकिंग हुई है। कई कार ऐसी हैं, जिनकी तीन से चार महीने की वेटिंग है।

उन्होंने बताया कि सीएनजी कार की मांग बढ़ने का सबसे बड़ा कारण पेट्रोल के दाम में तेजी है। पेट्रोल और सीएनजी के दाम में अभी भी करीब 35 रुपए तक का अंतर है। ऐसे में जिन लोगों को डेली कार का यूज करना है, वो सीएनजी की तरफ कन्वर्ट हो रहे हैं। इसी तरह मेरठ के समुद्रा हुंडई शोरूम के संचालक शलभ अग्रवाल ने बताया कि दशहरा पर 207 कार की डिलीवरी की बुकिंग है, इसमें 100 कार सीएनजी हैं।

शोरूम में ई-बाइक देखते ग्राहक।
शोरूम में ई-बाइक देखते ग्राहक।

ई-बाइक के लिए भी करना पड़ रहा इंतजार
सीएनजी कार के साथ ई-बाइक की डिमांड में जबर्दस्त तेजी आई है। आगरा में ई-बाइक के करीब 30 शोरूम हैं। आलम यह है कि अधिकांश शोरूम पर ई-बाइक का स्टॉक नहीं है। हाईवे स्थित सुमन ऑटोमोबाइल के प्रशांत ने बताया कि ई-बाइक की बिक्री में पिछले डेढ़ माह में अचानक तेजी आ गई है।

पहले एक माह में औसतन 30 ई-बाइक की बिक्री थी, लेकिन पिछले माह में यह आंकड़ा 80 तक पहुंच गया है। स्टॉक मिल नहीं पा रहा है। 100 की डिमांड है तो कंपनी 30 या 40 ई-बाइक दे रही हैं। ऐसे में ग्राहकों को पसंद का मॉडल लेने के लिए एक सप्ताह तक इंतजार करना पड़ रहा है।

इसी तरह मारुति एस्टेट स्थित ई-बाइक संचालक भोज कुमार ने बताया कि पेट्रोल के दाम बढ़ने से ई-बाइक की तरफ लोगों को रुझान बढ़ा है। विशेषकर नौकरी पेशा लोगों का। उन्होंने बताया कि एक माह में शहर में करीब दो हजार ई-बाइक की बिक्री होने का अंदाजा है, जो कि पहले 500 तक रहती थी। दीवाली के लिए लोग अभी से बुकिंग करा रहे हैं।

एक माह में शहर में करीब दो हजार ई-बाइक की बिक्री होने का अंदाजा है, जो कि पहले 500 तक रहती थी।
एक माह में शहर में करीब दो हजार ई-बाइक की बिक्री होने का अंदाजा है, जो कि पहले 500 तक रहती थी।

सस्ता है ई-बाइक का सफर
डीलर भोज कुमार शर्मा ने बताया कि जहां पेट्रोल 100 रुपए है, वहीं ई-बाइक का सफर 10 से 15 रुपए का है। उन्होंने बताया कि एक बार चार्ज होने करीब दो यूनिट खर्च होती हैं और ई-बाइक 40 किमी चलती है। ऐसे में बाइक और स्कूटी की तुलना में ई-बाइक काफी सस्ती पड़ रही है। उन्होंने बताया कि अब कंपनियों ने 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली बाइक भी लांच कर दी हैं।

बिक्री बढ़ी तो बढ़ गए दाम
ई-बाइक के डिमांड बढ़ने पर कंपनियों ने दाम में बढ़ोतरी कर दी है। एक डीलर ने बताया कि जो ई-बाइक तीन माह पहले 44 हजार की थी, वो अब 50 हजार की हो गई है। कंपनियों ने हर मॉडल पर करीब पांच से छह हजार रुपए बढ़ा दिए हैं।

खबरें और भी हैं...