पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • 45000 Rupees Were Taken On Interest By Mortgaging The Farm, 90,000 Were Paid, If The Land Was Asked For The Back, The Threatened Farmer Gave Up His Life.

एटा में किसान ने की आत्महत्या:खेत गिरवी रखकर 45000 रुपए ब्याज पर लिए, 90,000 चुका दिए थे, जमीन वापस मांगी तो मिली धमकी, परेशान किसान ने दे दी जान

एटा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
किसान की आत्महत्या के बाद पोस्मार्टम हाउस के बाहर परिजन। - Dainik Bhaskar
किसान की आत्महत्या के बाद पोस्मार्टम हाउस के बाहर परिजन।

एटा जनपद में ब्याज पर रुपए देकर किसानों की जमीन औने-पौने दामों में हड़पी जा रही है। फिल्मी साहूकार की तरह ये किसानों को धमकाते हैं और जमीन पर कब्जा कर लेते हैं। ऐसा ही एक वाकया जैथरा थाना छेत्र में सामने आया है। यहां सूदखोर के उत्पीड़न से तंग एक किसान ने जान दे दी है। यह किसान मूल धन का दो गुना लौटा चुका था। इसके बाद भी सूदखोर उसकी जमीन वापस नहीं कर रहे थे। मृतक किसान संतोष कुमार की पत्नी शीला देवी ने जैथरा थाना में तीन सूदखोरों के खिलाफ के से दर्ज कराया है। फिलहाल तीनों सूदखोर फरार हैं।

​​​​​​​90,000 लेकर भी नहीं दिया खेत
मामला एटा जनपद के जैथरा थाना छेत्र के ग्राम उदय पुरा का है। यहां किसान संतोष कुमार ने कुछ वर्ष पूर्व ब्याज का काम करने वाले वीरेंद्र मिश्रा, अनुज मिश्रा, मनोज मिश्रा से खेती के लिए 45000 रुपये ब्याज पर लिए थे। जिसके एवज में किसान ने अपनी जमीन के कागज रखे थे। परिवार का आरोप है कि धीरे धीरे हमने 45000 रुपये के 90000 रुपये जमा करवा दिए। जब संतोष अपने खेत के कागज वापस मांगने गया तो उसे भगा दिया। उसके खेत पर कब्जा कर लिया। उसके बाद सूदखोरों ने किसान को धमकाकर उसकी बंधक रखी जमीन का इकरारनामा अपने नाम करवा लिया।

खेत पर हल चलवा दिया
इसके 4 दिन पहले सूद खोरों ने उक्त किसान की जमीन पर जबरन कब्जा करके खेत जोत लिया। किसान विरोध करने पहुंचा तो उसको भयभीत करके भगा दिया। अपनी जमीन छिन जाने से किसान परेशान और गुमशुम रहने लगा। और फिर विषाक्त पदार्थ खा कर आत्म हत्या कर ली।
किसान के आत्म हत्या कर लेने से पूरे परिवार में कोहराम मच गया। मृतक किसान की पत्नी शीला देवी ने उक्त तीनों सूदखोरों के खिलाफ एटा जनपद के जैथरा थाने में शिकायत दी है। पुलिस ने आईपीसी की धारा 306, 447,504 के तहत एफआईआर दर्ज कराई है। घटना के बाद से ही तीनो सूद खोर फरार हैं।