पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • 56 Deaths In Aligarh From Poisonous Liquor. Wreaks Havoc Across The District, Mourning In Every Village, Postmortem Of 49 Dead Bodies; DM, SSP, Many Dead Bodies Forcibly Cremated To Hide Figures

अलीगढ़ में जहरीली शराब का कहर:अब तक 56 मौतें, 51 शवों का पीएम हुआ; आंकड़े छिपा रहा प्रशासन, कई शवों का जबरन अंतिम संस्कार कराया

अलीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में जहरीली शराब से अब तक 56 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें 51 शवों का पोस्टमार्टम हो चुका है। प्रशासन ने कई शवों का बगैर पोस्टमार्टम कराए जबरन अंतिम संस्कार करा दिया। इससे नाराज मृतकों के परिजन ने डीएम कार्यालय का घेराव किया। उधर, पोस्टमार्टम हाउस में पहुंची लाशों को देखने के बाद भी DM-SSP आंकड़ों को छिपाने में जुटे हैं।

अलीगढ़ के DM चंद्रभूषण सिंह का कहना है कि इस शराब कांड में अब तक 25 लोगों की मौत हुई है और पोस्टमार्टम के लिए पहुंचे बाकी शव संदिग्ध हैं। CMO ने बताया कि बाकी मृतकों का विसरा सुरक्षित रख लिया गया है। इधर, 10 से ज्यादा लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। ये जिले के अलग-अलग अस्पतालों में जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। उधर, रविवार देर रात इस शराबकांड का आरोपी विपिन यादव भी पकड़ा गया। इसके खिलाफ पुलिस ने 50 हजार रुपए का इनाम रखा था। अभी मुख्य आरोपी ऋषि शर्मा समेत कई अन्य आरोपी फरार हैं।

सांसद ने कहा- DM इन मौतों के जिम्मेदार हैं
अलीगढ़ में शराब से हुई मौतों पर BJP सांसद सतीश गौतम ने कहा कि इन मौतों के लिए सीधे तौर पर DM चंद्रभूषण सिंह जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि जहरीली शराब से जितनी भी मौतें हुई हैं, सबके घर जाकर उनके परिजनों से मिलेंगे। सांसद ने सवाल किया कि जब DM अच्छे कामों की सराहना लेते हैं, तो इसके लिए जिम्मेदार कैसे नहीं होंगे? जिलाधिकारी जिले का मालिक होता है, तो सब कुछ उसकी नाक के नीचे हो रहा है।

अब तक क्या-क्या हुआ ?
अलीगढ़ में गुरुवार देर रात लोधा के करसुआ, खैर के अंडला और जवां के छेरत में लोगों ने अलग-अलग ठेकों से देसी शराब खरीदी थी। शराब पीने के बाद रात में मौतें होने लगी। शुक्रवार रात तक 27 लोगों की मौत हो गई। प्रशासन ने देसी शराब के ठेके बंद कर दिए, इसके बावजूद चोरी से शराब बिकी। पिसावा के शादीपुर और जट्टारी में लोगों ने शराब खरीदी। इन सभी ने रात में शराब पी, जिससे शनिवार सुबह शादीपुर में 6 लोगों की मौत हो गई। इन सभी के परिजन ने 4 शवों का बिना पोस्टमार्टम के ही अंतिम संस्कार कर दिया। इसके अलावा लोधा में 11, खैर में 2, जवां में 2, टप्पल में 4, गभाना में 3 और पिसावा में 2 मौतें हुई हैं। इनके अलावा 6 से ज्यादा शवों का बगैर पोस्टमार्टम अंतिम संस्कार कराया जा चुका है।

शराब कांड के बाद पोस्टमार्टम हाउस पर शवों की लाइन लगी रही।
शराब कांड के बाद पोस्टमार्टम हाउस पर शवों की लाइन लगी रही।

छोटे अधिकारियों को कर दिया सस्पेंड
शराब कांड में अब तक सरकार ने जिला आबकारी अधिकारी धीरज शर्मा, आबकारी निरीक्षक राजेश यादव, प्रधान सिपाही अशोक कुमार, निरीक्षक चंद्रप्रकाश यादव, इंस्पेक्टर लोधा अभय कुमार शर्मा और सिपाही रामराज राना को सस्पेंड कर दिया है। वहीं, व्यवस्था के जिम्मेदार आला अफसरों पर अब तक कार्रवाई नहीं की गई है।

जहरीली शराब की बोतल दिखाते गांव के लोग।
जहरीली शराब की बोतल दिखाते गांव के लोग।

मजिस्ट्रियल जांच शुरू, एसडीएम, सीओ समेत 9 को नोटिस
शराब कांड की मजिस्ट्रियल जांच शुरू हो चुकी है। जांच कर रहे एडीएम डीपी पाल ने बताया कि शराब कांड के मामले में निलंबित हुए जिला आबकारी अधिकारी धीरज शर्मा, खैर एसडीएम अंजनि कुमार, एसडीएम कोल रंजीत सिंह, सीओ खैर शिवप्रताप सिंह, सीओ गभाना कर्मवारी सिंह, सीओ सिविल लाइन विशाल चौधरी, इंस्पेक्टर खैर प्रवेश कुमार, इंस्पेक्टर लोधा अभय शर्मा और इंस्पेक्टर जवां चंचल सिरोही को नोटिस जारी किया गया है।

खबरें और भी हैं...