• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • Admitted To Helping In Writing The Case, There Was A Conspiracy To Burn The Whole Family Alive After Setting The Car On Fire, The Accused Was Caught By The Police

ससुरालियों की मदद की थी, इसलिए फूंक डाली सफारी:आगरा में 3 दिन पहले भाजपा नेता की कार को जलाया था, आरोपी के खिलाफ नेता ने दहेज उत्पीड़न का केस दर्ज करने में की थी मदद

आगरा:2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तीन अक्टूबर रविवार की रात को भाजपा नेता प्रेम चंद कुशवाहा की गाड़ी में आग लगा दी थी। - Dainik Bhaskar
तीन अक्टूबर रविवार की रात को भाजपा नेता प्रेम चंद कुशवाहा की गाड़ी में आग लगा दी थी।

आगरा में चार दिन पहले कुशवाहा महासभा के पदाधिकारी और भाजपा नेता प्रेम चंद कुशवाहा की सफारी कार में आग लगाने और घर में सो रहे लोगों को जिंदा जलाने की साजिश रचने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ने बताया कि प्रेम चंद कुशवाहा ने उसके खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा लिखवाने में उसके ससुराल वालों की मदद की थी। तभी से वो प्रेम चंद से रंजिश मानता था।

यह थी घटना...
सदर थाना क्षेत्र के ताल फिरोज खां मधुनगर में भारतीय कुशवाहा महासभा के राष्ट्रीय महामंत्र व भाजपा नेता प्रेम चंद कुशवाहा अपने परिवार के साथ रहते हैं। तीन अक्टूबर रविवार रात करीब दो बजे प्रेम चंद कुशवाहा के बडे़ भाई टायलेट जाने के लिए उठे। उन्होंने देखा कि घर के बाहर खड़ी टाटा सफारी से धुआं निकल रहा है। उन्होंने इसकी जानकारी अपने भाई प्रेम चंद कुशवाहा को दी। प्रेम चंद कुशवाहा ने जब अपने कमरे का दरवाजा खोलना चाहा तो बाहर से पता चला कि बाहर से किसी ने कुंडी लगा रखी है। उन्होंने अपने भाई को बुलाकर दरवाजे की कुंडी खुलवाई। प्रेम चंद कुशवाहा ने बताया कि गाड़ी में आग लगाने वाले ने उनके पूरे परिवार को जिंदा जलाने की साजिश रची थी। इसके तहत ही उनके घर के बाहर की कुंडी लगाई गई और जिस कमरे में वो और उनका परिवार सोया हुआ था, उसमें भी पेट्रोल डाला गया। गनीमत रही कि कमरे में आग नहीं लगी।

प्रहलाद ने रंजिश के चलते ही प्रेम चंद की गाड़ी में आग लगाई थी
प्रहलाद ने रंजिश के चलते ही प्रेम चंद की गाड़ी में आग लगाई थी

सीसीटीवी से पकड़ा गया आरोपी
पुलिस ने गाड़ी में आग लगाने वाले को पकड़ने के लिए आसपास के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज चेक की। इसमें एक संदिग्ध युवक प्रेम चंद कुशवाहा के घर की ओर जाते दिखा। कैमरे में उसकी शक्ल साफ नहीं दिख रही थी। ऐसे में पुलिस ने प्रेम चंद कुशवाहा से उस युवक के बारे में पूछा। फोटो देखकर पीड़ित ने मलपुरा के माकरौल गांव निवासी प्रहलाद के होने की आशंका जाहिर की। शक के आधार पर पुलिस ने जब आरोपी को पकड़ा तो वह घबरा गया। पूछताछ में उसने आग लगाने की घटना को कबूल लिया।

मुकदमा दर्ज होने के बाद से मनाता था रंजिश
पीड़ित प्रेम चंद कुशवाहा ने बताया कि जब आरोपी प्रहलाद से पुलिस ने पूछताछ कि तो उसने बताया कि एक साल पहले उसका अपनी पत्नी से विवाद हो गया था। तब उसके ससुराल वालों ने मलपुरा थाने में उसके खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया था। इस मामले में वो जेल भी गया था। मुकदमा दर्ज कराने में प्रेमचंद कुशवाहा ने मदद की थी। तब से वो उनसे रंजिश मानता था। रंजिश के तहत ही उसने प्रेम चंद की गाड़ी में आग लगाई। इसके बाद उसने कमरे में पेट्रोल छिड़ककर आग लगाने का प्रयास किया, लेकिन घर में जगार होने के कारण वो कमरे में आग नहीं लगा पाया था। सदर इंस्पेक्टर प्रमोद पवार ने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

प्रेम चंद के घर था आना-जाना
पीड़ित प्रेम चंद ने बताया कि आरोपी युवक का पत्नी से विवाद के बाद अक्सर युवक उनके घर सुलह के लिए आता था। उन्होंने दो बार लड़की को वापस ससुराल भिजवाया था, लेकिन बात नहीं बनी। 15 दिन पहले ही युवक की उनसे मुलाकात हुई थी। उन्हें उम्मीद नहीं थी कि वो उनसे रंजिश मानता है और ऐसी वारदात को अंजाम देने की फिराक में है।

खबरें और भी हैं...