क्राइम-पेट्रोल फेम अनूप सोनी बोले-ड्रीमर के साथ प्रैक्टिकल होना जरूरी:फिल्म इंडस्ट्री में सबसे अधिक कंपटीशन है; अभिनेता नहीं होता तो क्रिमिनल लॉयर बनता

आगरा2 महीने पहले
अभिनेता अनूप सोनी शुक्रवार को आगरा में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने आए।

सोनी टीवी पर आने वाले कार्यक्रम क्राइम पेट्रोल फेम और सिने अभिनेता अनूप सोनी शुक्रवार को आगरा आए। स्पाइसी शुगर संस्था के कार्यक्रम में वो बतौर मुख्य अतिथि मौजूद थे। फिल्म जगत में सफलता की बारीकियों व कठिनाइयों के साथ अपने व्यावसायिक जीवन के महत्वपूर्ण पहलुओं को भी साझा किया।

अनूप सोनी ने कहा कि फिल्म इंडस्ट्री सबसे अधिक कंपटीशन है। जहां बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक कभी भी कोई भी आपका प्रतिद्वंदी बन सकता है। सफलता और पैसा कमाने की इच्छा के अलावा अगर आप में पैशन न हो। तो फिल्म इंडस्ट्री के बारे में कभी न सोचें। क्योंकि, इस फील्ड में एक समय आता ही है। जब आपसे आगे कोई पहुंच रहा होता है। ऐसी स्थिति में जिस मुकाम पर आप पहुंचे हैं। उस मुकाम को बनाए रखना आसान नहीं होता। वो सुझाव देते हुए बोले-सफलता को बरकरार रखना है। तो ड्रीमर के साथ प्रैक्टिकल होना भी जरूरी है।

अनूप ने कहा कि अभिनेता नहीं होता तो क्रिमिनल लॉयर बनता। बालिका वधु की प्रत्युषा व सिद्धार्थ की मौत से लेकर फिल्म इंडस्ट्री के तमाम पहलुओं पर चर्चा हुई।

ससुराल में सालियों संग हुईं खट्टी-मीठी बातें

कार्यक्रम में संस्था की अध्यक्ष पूनम सचदेवा ने अनूप सोनी से कई मुद्दों पर चर्चा की।
कार्यक्रम में संस्था की अध्यक्ष पूनम सचदेवा ने अनूप सोनी से कई मुद्दों पर चर्चा की।

कार्यक्रम के प्रारम्भ में ही एक सदस्या ने सवाल पूछ लिया कि ससुराल में आकर इतनी सालियों के बीच कैसा महसूस कर रहे हैं? सवाल सुनकर अनूप हंसते हुए जवाब दिया, बहुत अच्छा। मगर, इसके बाद जब एक सदस्या ने संबोधन में आदरणीय शब्द का इस्तेमाल किया तो मजाकिया लहजे में सम्मान के साथ उन्होंने कहा कि या तो सालियां मत कहिए या फिर आदरणीय मत लगाइए। बता दें कि अनूप सोनी अभिनेता राज बब्बर के दामाद हैं। राज बब्बर का जन्म आगरा में हुआ था। इस लिहाज से अनूप सोनी को क्लब की सदस्याओं ने ससुराल में आने की बात कही।

समाज को सुधारने के लिए घर का माहौल सुधारना होगा
क्राइम पेट्रोल का जिक्र हुआ तो धारा 498 ए व 367 के दुरुपयोग पर भी चर्चा हुई। अनूप ने कहा कि घर का माहौल सुधरेगा। तभी हम समाज को सुधार सकेंगे। घर में लड़के व लड़की को समान अधिकार समान परवरिश देनी होगी। बच्चे जो घर के सदस्यों के व्यवहार में देखेंगे। वहीं आचरण अपनाएंगे।

कार्यक्रम में संस्था की अध्यक्ष पूनम सचदेवा ने सवालों का सिलसिला शुरु किया। इस अवसर पर डॉ. रंजना बंसल, बबिता चौहान, चांदनी ग्रोवर, पावनी, शिखा जैन, बिन्दु नंदा, राजश्री मिश्रा, शिल्पा माहेश्वरी, शीतल अग्रवाल, नीरा थापर, गरिमा मंगल, पूजा ओबराय आदि उपस्थित थीं।