मणप्पुरम ऑफिस में दहशत के 25 मिनट, मैनेजर की जुबानी:गन प्वाइंट पर स्ट्रांग रूम ले गए बदमाश, डर था कहीं मार न दें; एक साथी बेहोश भी हो गया; आगरा में हुई थी 17 किलो सोने की लूट

आगरा4 महीने पहले
कंपनी के मैनेजर विजय घटना के बारे में बात करते-करते रोने लगते हैं। अभी भी उनके चेहरे खौफ बरकरार है।
  • पुलिस वारदात के दो आरोपियों को एनकाउंटर में ढेर कर चुकी, तीन अभी चल रहे फरार

उत्तर प्रदेश के आगरा में शनिवार की दोपहर 5 बदमाशों ने दिनदहाड़े मणप्पुरम गोल्ड लोन कंपनी में 8.5 करोड़ रुपए का डाका डाला था। वारदात के बाद दो बदमाश एनकाउंटर में मारे जा चुके हैं। जबकि तीन फरार हैं। उनकी तलाश पुलिस टीमें कर रही हैं। इस डकैती की वारदात के बाद कंपनी के मैनेजर विजय दहशत में हैं। उनकी आंखों के सामने वो खौफनाक 25 मिनट अभी भी घूम रहे हैं।

दैनिक भास्कर ने मैनेजर विजय से बात की तो वे भावुक हो उठे। वे बदमाशों के बारे में बताते-बताते रोने लगे। कहा कि उन्हें डर था कि कहीं बदमाश उन्हें मार न दें। यह डर अन्य कर्मचारियों पर भी हावी था। एक कर्मचारी तो इस डर से बेहोश तक हो गया था।

आगरा में 25 मिनट में 8.5 करोड़ की लूट:मणप्पुरम गोल्ड के ऑफिस में घुसकर 17 किलो सोना और 5 लाख रुपए लूटने वाले 2 बदमाश एनकाउंटर में मारे गए

'पहले पांच मिनट बने रहे ग्राहक, फिर अपने असली रूप में आए'
कंपनी मैनेजर विजय नरवारिया ने कहा, मैं और मेरे तीन साथी सामान्य रूप से काम कर रहे थे। दोपहर करीब 2.05 बजे दो युवक अंदर आते हैं। दोनों ने टोपी लगाई हुई थी। वे मेरे पास आकर सोने के बदले लोन लोने की बात करते रहे। पांच मिनट तक तो वो सामान्य ग्राहक के रूप में बात कर रहे थे। इसके बाद उनके तीन और साथी अंदर आ जाते हैं। बस इसके बाद उनके तेवर बदल गए। उन्होंने तमंचा निकाल कर गाली-गलौच शुरू कर दिया और कहने लगे कि हम लूट करने आए हैं।

बदमाश सबको केबिन में ले आए। कर्मचारी सोनू की कनपटी पर तमंचा लगा दिया और मारपीट शुरू कर दी। इसके बाद उन्होंने अंदर से गेट बंद कर लिया। बदमाश स्ट्रांग रूम की चाबी मांगने लगे, मना करने पर पीटा और जान से मारने की धमकी थी। कनपटी पर तमंचा लगा होने के चलते उन्होंने चाबी दे दी। मगर, बदमाश उन्हें गन प्वाइंट पर अपने साथ स्ट्रांग रूम तक ले गए। वहां वो मारते जा रहे थे और जल्दी स्ट्रांग रूम खोलने को कह रहे थे। तमंचे की बट से भी प्रहार किए।

स्ट्रांग रूम खोलते समय मैंने अनलॉक किए बिना स्ट्रांग रूम खोला, जिससे अलार्म बज गया। अलार्म बजने से बदमाश बौखला गए। उन्हाेंने फिर मारपीट की। स्ट्रांग रूम खुलते ही वो अपने साथ लाए बैग में माल भरने लगे। पांच मिनट में उन्होंने सारा सोना करीब 18 किलो और करीब पांच लाख रुपए अलग-अलग तीन बैग में भर लिए। इसके बाद वो सबको अंदर केबिन में बंद कर गए। एक-एक करके वो दोपहर 2.30 बजे कंपनी से बाहर निकल गए। जाते-जाते वो बाहर से चैनल लगा गए थे। वो अपने साथ कंपनी में लगे सीसीटीवी कैमरे की डीवीआर भी ले गए थे। करीब 15 मिनट तक सभी कर्मचारी अंदर ही रहे।

इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। पांच मिनट में पुलिस आ गई। इसके बाद पुलिस ने उन्हें मुक्त किया। आधे घंटे में तो सभी अधिकारी आ गए थे। ऐसा लग रहा था कि वो हमें भी मार जाएंगे। हम सब बहुत घबरा गए थे। एक साथी ताे बेहोश हो गया था। अभी भी उनके मन से खौफ नहीं निकला है।

वारदात के बाद मौके पर तैनात फोर्स।
वारदात के बाद मौके पर तैनात फोर्स।

अभी तीन चल रहे फरार, तलाश जारी
कमलानगर में मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड कंपनी का ऑफिस है। शनिवार की दोपहर 4 बदमाशों ने स्टाफ को बंधक बना लिया था। जिसके बाद बदमाशों ने 17 किलो सोना और 5 लाख रुपए लूट ले गए थे। बदमाशों ने यह पूरी घटना महज 25 मिनट में अंजाम दी। बदमाश दोपहर 2.05 बजे ऑफिस में घुसे थे। इसके बाद 2.30 बजे बाहर निकल गए। वारदात के समय कंपनी में कोई ग्राहक नहीं था। अंदर 4 कर्मचारी थे। इसके बाद पुलिस ने मुठभेड़ में दो बदमाशों को एनकाउंटर में ढेर कर दिया। मृतकों की शिनाख्त फिरोजाबाद के रहने वाले मनीष पांडेय और निर्दोष कुमार के रुप में हुई है। पुलिस ने इनके पास से लूट का आधा माल और दो तमंचे व कारतूस बरामद किए थे। इनके दो साथी नरेंद्र उर्फ लाल और अंशु व एक अन्य फरार है।

खबरें और भी हैं...