• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • Out Of 3.20 Lakhs, Only 89 Thousand Home Owners Deposited House Tax, The Mayor Got Angry Due To The Decrease In Income From Advertisement

आगरा...हाउस टैक्स जमा न करने वालों के घर पहुंचेगी टीम:3.20 लाख में से 89 हजार गृह स्वामियों ने ही जमा किया हाउस टैक्स, विज्ञापन से आय घटने पर मेयर हुए नाराज

आगरा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अन्य नगर निगमों की अपेक्षा आगरा में विज्ञापन कर से होने वाली कम आय को देखकर महापौर नवीन जैन ने अपनी नाराजगी जाहिर की। - Dainik Bhaskar
अन्य नगर निगमों की अपेक्षा आगरा में विज्ञापन कर से होने वाली कम आय को देखकर महापौर नवीन जैन ने अपनी नाराजगी जाहिर की।

आगरा नगर निगम के कार्यकारिणी कक्ष में नगर निगम के मूल बजट आय-व्यय वर्ष 2022-23 और जलकल विभाग के प्रस्तावित वार्षिक बजट आय-व्यय वित्तीय वर्ष 2022-23 की बैठक हुई। बैठक में निर्णय लिया गया कि हाउस टैक्स न चुकाने वाले लोगों के घर पर टीम भेजी जाएगी। वहीं, विज्ञापन से आय कम होने पर मेयर ने नाराजगी जताई।

टैक्स न चुकाने वालों के यहां जाएगी टीम
बैठक में मुख्य वित्त और लेखा अधिकारी उदय वीर सिंह ने वित्तीय वर्ष 2022-23 लगभग 77844.40 लाख का अनुमानित बजट का विवरण प्रस्तुत किया। महापौर नवीन जैन ने गृह कर से होने वाली आय के बारे में सवाल किया। अपर नगर आयुक्त विनोद कुमार गुप्ता ने बताया कि नगर निगम सीमा में लगभग 3.20 लाख घर है, जिसमें पिछले वित्तीय वर्ष में 89,630 गृह स्वामियों ने अपना हाउस टैक्स जमा कराया है। महापौर ने नगर आयुक्त को निर्देशित किया कि जिन घरों से टैक्स नहीं आ रहा है, उन क्षेत्रों में, घरों में नगर निगम की टीम भेजी जाए और उन्हें टैक्स भरने के लिए प्रेरित किया जाए। नगर आयुक्त ने महापौर को आश्वस्त किया कि उन घरों में टीम भेजने के अलावा शहर में 15 से 20 टैक्स काउंटर और खोलेंगे।

पार्षद कर्मवीर सिंह को सदन का उप सभापति चुना गया।
पार्षद कर्मवीर सिंह को सदन का उप सभापति चुना गया।

विज्ञापन पॉलिसी को लेकर नाराज हुए महापौर
अन्य नगर निगमों की अपेक्षा आगरा में विज्ञापन कर से होने वाली कम आय को देखकर महापौर नवीन जैन ने अपनी नाराजगी जाहिर की। जब उन्होंने शहर में लगाए गए यूनीपोल और होर्डिंग्स को लेकर बनाये गए मानक को लेकर सवाल किया तो संबंधित अधिकारी कोई जवाब ना दे सके। इस पर महापौर नवीन जैन ने कहा कि बड़ा अजीब सा लगता है कि बिना किसी सिस्टमैटिक पॉलिसी के उल्टे-सीधे शहर में विज्ञापन लगाए जा रहे हैं। शहर में लगाए गए यूनीपोल और होर्डिंग्स को लेकर कोई मानक नहीं बनाया गया है। महापौर ने कहा कि विज्ञापन के माध्यम से शहर को खूबसूरत और बदसूरत बनाना आपके हाथ में है। इसलिए इसके लिए मानक तय किए जाएं और उसी के अनुसार शहर में होर्डिंग्स लगाए जाएं।

जलकल के बजट पर भी हुई चर्चा
नगर निगम के मूल बजट के बाद जलकल के वार्षिक बजट पर भी विस्तार से चर्चा हुई। जिसमें जल कल जी एम आर एस यादव ने जलकल विभाग का लगभग 15337.74 (धनराशि लाख में) का बजट प्रस्तुत किया। इस बजट पर चर्चा करने के दौरान महापौर नवीन जैन ने जलकल जीएम को शहर में पानी की पाइप लाइन और सीवर की समस्या को गंभीरता से लेकर उसका समाधान करने के निर्देश दिए। इस भीषण गर्मी के मौसम में जिन क्षेत्रों में पानी नहीं मिल रहा है, वहां पर टैंकरों के माध्यम से समुचित रूप से पानी की व्यवस्था कराने को भी निर्देश दिया।

खबरें और भी हैं...