रिवॉल्वर रानी को ट्रेनिंग के डेढ़ लाख देने होंगे:यूपी में 5 साल के बच्चे भी चलाते हैं कट्‌टा... वीडियो वायरल होने के बाद लेडी कांस्टेबल को देना पड़ा था इस्तीफा, विभाग ने अब ट्रेनिंग का भी खर्च मांगा

आगराएक महीने पहले
वर्दी में डायलॉग के साथ रिवॉल्वर लहराते हुए वीडियो पोस्ट किया था, तीन माह में देना पड़ा नौकरी से इस्तीफा।

पुलिस की वर्दी में रिवॉल्वर के साथ इंस्टाग्राम पर वीडियो पोस्ट करने वाली लेडी कांस्टेबल प्रियंका मिश्रा का इस्तीफा रविवार को मंजूर हो गया। तीन महीने के अंदर ही नौकरी जाने के बाद भी प्रियंका की मुश्किलें थमती नजर नहीं आ रही हैं। सोशल मीडिया में किरकिरी होने के बाद अब प्रियंका को विभाग को ट्रेनिंग के भी डेढ़ लाख रुपए भी देने होंगे।

वहीं, प्रियंका ने कहा कि जब उन्होंने इस्तीफा दिया था, तब वो मानसिक रूप से परेशान थीं। अब वो सिविल सेवा की तैयारी करेंगी। इसके साथ अगर उन्हें मॉडलिंग और एक्टिंग का कोई ऑफर मिलता है तो वह उसमें जरूर आगे बढे़ंगी।
डायलॉग के साथ रिवॉल्वर लहराते हुए वीडियो पोस्ट किया था, SSP ने किया लाइन हाजिर
कानपुर निवासी प्रियंका मिश्रा साल 2020 में पुलिस कांस्टेबल पद पर भर्ती हुई थीं। झांसी में ट्रेनिंग के बाद इसी साल आगरा के एमएम गेट थाने में पहली तैनाती मिली थी। इस दौरान उन्होंने वर्दी में रिवॉल्वर के साथ एक वीडियो बनाया था। इसमें वे एक डायलॉग पर लिपसिंक करती दिखी थीं। डायलॉग में कहा जाता है कि 'हरियाणा, पंजाब तो बेकार ही बदनाम है। आओ कभी उत्तर प्रदेश... रंगबाजी क्या होती है, हम तुम्हें बताते हैं। न गुंडई पर गाना बनाते हैं, न गाड़ी पर जाट-गुर्जर लिखवाते हैं। हमारे यहां 5-5 साल के बच्चे कट्‌टे चलाते हैं।'

24 अगस्त को यह वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गया। इसके बाद SSP ने उन्हें लाइन हाजिर कर दिया था। इस बीच इंस्टाग्राम पर यूजर्स उन्हें ट्रोल कर रहे थे। यूजर्स के कमेंट्स से आहत प्रियंका ने 31 अगस्त को एसएसपी मुनिराज को अपना इस्तीफा सौंपा। एसएसपी ने सीओ सदर को जांच सौंपी। बीते रविवार को SSP ने प्रियंका इस्तीफा मंजूर कर लिया।

नौकरी गई, अब देना होगा ट्रेनिंग के दौरान हुआ खर्चा
कांस्टेबल प्रियंका मिश्रा ने बताया कि उन्हें इस्तीफे के साथ 1.52 लाख रुपए का भुगतान करने को कहा गया है। यह भुगतान ट्रेनिंग के दौरान हुए खर्च की भरपाई के लिए देना है। उन्हें पहले से इस बारे में बताया नहीं गया था, अब वह डेढ़ लाख रुपए का इंतजाम कर रही हैं। नोटिस में कहा गया है कि महिला आरक्षी की आयु व सेवा अवधि सेवानिवृत्ति की परिधि में नहीं आती है, ऐसे में ऐच्छिक सेवानिवृत्त किया जाना संभव नहीं है।

ये है ऐच्छिक सेवानिवृत्त का नियम
लेडी कांस्टेबल प्रियंका मिश्रा ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्त का अनुरोध किया था, लेकिन नियमानुसार उन्हें स्वैच्छिक सेवानिवृत्त नहीं मिल सकती। ऐच्छिक सेवानिवृत्त पेंशन नियमावली के अनुसार, जब सरकारी कर्मचारी की आयु 45 साल या अर्ह-कारी सेवा 20 साल पूरे करने के बाद तीन माह पहले ऐच्छिक सेवानिवृत्त का प्रार्थना पत्र दे सकता है। इसके बाद राजपत्रित अधिकारी के माध्यम से ऐच्छिक सेवानिवृत्त प्रकरण में परिवार के सदस्यों सहमति के बाद ही ऐच्छिक सेवानिवृत्त किया जाता है। वहीं, महिला आरक्षी की जन्मतिथि और नियुक्ति के बाद सेवा अवधि सेवा निवृत्त और अनिवार्य सेवानिवृत्त की परिधि में नहीं आती है। इसलिए, प्रियंका को ऐच्छिक सेवानिवृत्त नहीं किया गया।

मॉडलिंग-एक्टिंग में जाने की तमन्ना
प्रियंका ने बताया कि नौकरी से इस्तीफा देने के बाद अब वो सिविल सेवा की तैयारी करेंगी। इसके साथ अगर उन्हें मॉडलिंग और एक्टिंग का कोई ऑफर मिलता है तो वह उसमें जरूर आगे बढे़ंगी। उन्होंने बताया कि विभाग की ओर से दिए गए पत्र में लिखा है कि उनसे और उनके परिजनों से बात की गई, जबकि ऐसा नहीं हुआ है। अगर कोई उनसे बात करता तो वह अपना निर्णय बदल लेतीं।

इंस्टाग्राम पर हुए 40 हजार से ज्यादा हो गए फॉलोअर्स
कांस्टेबल प्रियंका मिश्रा का वीडियो वायरल होने के समय उनके इंस्टाग्राम पर 3 हजार फॉलोअर्स थे। मगर, 20 दिन में ही उनके इंस्टाग्राम पर साढ़े 37 हजार से ज्यादा फॉलोअर जुडे़। सोमवार तक उनके अकाउंट पर 40.9 हजार फॉलोअर्स हो गए, जो अभी भी लगातार बढ़ रहे हैं।

खबरें और भी हैं...