आगरा में भाजपा के कार्यकर्ताओं का हंगामा:विधानसभा प्रभारी और मंडल अध्यक्ष को बनाया बंधक, बोले- गुलाम नहीं हैं, जो कहा जाए वो करें

आगरा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खैरागढ़ डाक बंगले के बाहर प्रदर्शन करते भाजपाई। - Dainik Bhaskar
खैरागढ़ डाक बंगले के बाहर प्रदर्शन करते भाजपाई।

बीते विधानसभा चुनाव में आगरा की सभी 9 विधानसभा सीटें जीतने वाली भाजपा को इस बार अपने ही कार्यकर्ताओं के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। गुरुवार रात सोशल मीडिया पर आगरा के प्रत्यशियों की लिस्ट वायरल होने के बाद शुक्रवार को खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र में कार्यकर्ताओं ने पैराशूट प्रत्याशी का विरोध करते हुए जमकर हंगामा काटा।

संभावित प्रत्याशी का फूंका पुतला
वहीं बैठक में आए विधानसभा प्रभारी और मंडल अध्यक्ष को तीन घंटे तक बंधक बनाए रखा। इसके साथ ही संभावित प्रत्याशी का पुतला भी फूंका। कार्यकर्ताओं का कहना था की वे कोई गुलाम नहीं हैं जो कहा जाए वो करें, अगर टिकट दिया जाये तो पार्टी के कार्यकर्ता को दिया जाये चाहे वो वर्तमान विधायक ही क्यों न हो।

लाभार्थी योजना को लेकर बुलाई गई थी बैठक
जानकारी के अनुसार आगरा के खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र के डाक बंगले में शुक्रवार को भाजपा के विधानसभा प्रभारी प्रकाश भारद्वाज और मंडल अध्यक्षों के साथ लाभार्थियों के घर जाने की योजना बनाने के लिए बैठक बुलाई गयी थी। इस दौरान सैकड़ों कार्यकर्ता बैठक में पहुंच गए और हंगामा शुरू कर दिया।

तीन घंटे तक बैठाए रखा
कार्यकर्ता बसपा से भाजपा में शामिल हुए भगवान सिंह कुशवाह को संभावित प्रत्याशी बनाये जाने का विरोध कर रहे थे। इस दौरान प्रभारी ने उन्हें समझाने का प्रयास किया तो वो और उग्र हो गए और तीन घंटे तक उन्हें वहीं बैठा कर रखा। यही नहीं किसी तरह से प्रभारी एक साथी की बाइक पर बैठकर वहां से निकले।

कार्यकर्ता बोले- गुलाम नहीं हैं
कार्यकर्ताओं ने कहा की भाजपा शीर्ष नेतृत्व कार्यकर्ता को गुलाम न समझे, वो कहें बैठो तो हम बैठें और खड़े होने को कहा जाए तो खड़े हो जाएं। हम बाहरी व्यक्ति को किसी कीमत पर प्रत्याशी नहीं बनने देंगे और अगर पार्टी को किसे भी जाती के व्यक्ति को टिकट देना है तो पार्टी के कार्यकर्ता को ही दे, चाहे वो वर्तमान विधायक महेश गोयल ही क्यों न हों।