• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • Central Hindi Sansthan Plans To Teach Hindi In Embassies Of India In All Countries, Institute Has Sent Proposal To Ministry Of External Affairs

हिंदी दिवस पर विशेष:आगरा का केंद्रीय हिंदी संस्थान दूतावासों में लगाएगा हिंदी की क्लास, संस्थान ने विदेश मंत्रालय को भेजा है प्रस्ताव

आगरा:एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
केंद्रीय हिंदी संस्थानअब विदेशों में भारत के दूतावासों में भी हिंदी की पाठशाला लगाने की तैयारी कर रहा है। - Dainik Bhaskar
केंद्रीय हिंदी संस्थानअब विदेशों में भारत के दूतावासों में भी हिंदी की पाठशाला लगाने की तैयारी कर रहा है।

हिंदी का डंका विदेशों में भी बज रहा है। आगरा का केंद्रीय हिंदी संस्थान विदेशी छात्रों को हिंदी पढ़ाने के साथ अब विदेशों में भारत के दूतावासों में भी हिंदी की पाठशाला लगाने की तैयारी कर रहा है। इसका पूरा खाका तैयार कर लिया गया है। अब बस विदेश मंत्रालय की मंजूरी मिलने की देर है।

विदेशों में बढ़ रहा है हिंदी का रुझान
भारत सरकार हिंदी के प्रचार-प्रसार पर खासा ध्यान दे रही है। इसका ही असर है कि विदेशों में हिंदी के प्रति लोकप्रियता बढ़ रही है। आगरा का केंद्रीय हिंदी संस्थान ने विदेशों में भारत के सभी दूतावासों में हिंदी पढ़ाने की तैयारी की है। इसके लिए भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के अधिकारियों के साथ बात कर खाका तैयार हो चुका है। प्रस्ताव तैयार कर भारत के विदेश मंत्रालय को भेज दिया गया है। पिछले दिनों मंत्रालय को इस संबंध में रिमाइंडर भी भेजा गया है। उम्मीद है कि जल्द अनुमति मिल जाएगी।

श्रीलंका में संचालित है केंद्र
श्रीलंका में हिंदी के प्रति लोगों में ललक है। इस कारण हर साल श्रीलंका से हिंदी सीखने के लिए छात्र केंद्रीय हिंदी संस्थान में एडमिशन लेते हैं। हिंदी के प्रति लगाव को देखते हुए संस्थान की ओर से श्रीलंका स्थित दूतावास में केंद्र संचालित किया जा रहा है। इसके अलावा मास्को में भी जल्द ही केंद्र खोल दिया जाएगा। इसकी प्रक्रिया अंतिम चरण में हैं। संस्थान की निदेशिका प्रो. बीना शर्मा ने बताया कि इस संबंध में प्रस्ताव बनाकर भेजा गया है। विदेश मंत्रालय की अनुमति का इंतजार है।

तीन माह का पाठ्यक्रम भी चलाने की तैयारी
विदेशों में रहने वाले लोग जो हिंदी सीखना चाहते हैं, उनके लिए भी तीन माह का पाठ्यक्रम शुरू करने की योजना है। कई ऐसे देश हैं जहां पर भारतीय की संख्या अधिक है। ऐसे में वहां के बहुत से विभागों में कार्यरत लोग हिंदी सीखने में दिलचस्पी रखते हैं। ऐसे लोगों के लिए तीन माह का ऑनलाइन कोर्स शुरू करने की तैयारी है।

वहीं, संस्थान में कोरोना के चलते विदेशी छात्रों को पिछले सत्र में ऑनलाइन ही पढ़ाई कराई गई थी। इस साल भी ऑनलाइन कक्षाएं ही संचालित होंगी। ऐसे में संस्थान ऑनलाइन कक्षाओं के माध्यम से हिंदी सिखा रहा है।

खबरें और भी हैं...