आगरा में मेट्रो से पहले स्टेशन के नाम पर संग्राम:जामा मस्जिद के बाद मनकामेश्वर रखने की उठी थी मांग, अब डॉ. आंबेडकर चौक चर्चा में

आगरा2 महीने पहले
आगरा में बिजली घर चौराहे के पास मेट्रो स्टेशन बन रहा है, उसी स्टेशन के नाम को लेकर विवाद छिड़ा है। - Dainik Bhaskar
आगरा में बिजली घर चौराहे के पास मेट्रो स्टेशन बन रहा है, उसी स्टेशन के नाम को लेकर विवाद छिड़ा है।

आगरा में मेट्रो स्टेशन के नाम को लेकर संग्राम छिड़ा है। प्रोजेक्ट में बिजली घर चौराहे के पास बनने वाले मेट्रो स्टेशन का नाम जामा मस्जिद स्टेशन रखा गया है। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के आगरा आगमन पर पूर्व राज्यमंत्री डा. जीएस धर्मेश ने इसका नाम मनकामेश्वर स्टेशन रखने का प्रस्ताव दिया था। इसी बीच अब तीसरा नाम डॉ. आंबेडकर रखने की मांग उठने लगी है।

कुछ लोग धार्मिक स्थलों के बजाए इस स्टेशन का नाम आंबेडकर चौक रखने की मांग कर रहे हैं। मामले में मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री से भी लोगों ने ट्वीट कर मांग की है।

हिंदू समाज के लोगों का कहना है कि आगरा शिव की नगरी है। आगरा के चारों कोनों पर शिवजी के मंदिर स्थापित हैं। इसी मनकामेश्वर नाथ मंदिर स्टेशन नाम रखा जाए।
हिंदू समाज के लोगों का कहना है कि आगरा शिव की नगरी है। आगरा के चारों कोनों पर शिवजी के मंदिर स्थापित हैं। इसी मनकामेश्वर नाथ मंदिर स्टेशन नाम रखा जाए।

डिप्टी सीएम से नाम बदलने की मांग

बता दें कि 5 मई को डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य आगरा में दो दिवसीय दौरे पर आए थे। वे जब मेट्रो स्टेशन का निरीक्षण करने पहुंचे तो पूर्व राज्यमंत्री और भाजपा विधायक डॉ. जीएस धर्मेश ने उनके सामने प्रस्ताव रखा कि बिजली घर चौराहे के पास मेट्रो स्टेशन बन रहा है, उसका नाम जामा मस्जिद है। उसे बदलकर मनकामेश्वर स्टेशन कर दिया जाए। डिप्टी सीएम ने प्रस्ताव को रख लिया, लेकिन कोई सहमति नहीं दी। तभी से स्टेशन के नाम को लेकर विवाद शुरू हो गया।

कुछ लोग स्टेशन का नाम डॉ. आंबेडकर चौक रखने कर रहे हैं। मुस्लिम समाज के कुछ लोग नाम बदले जाने की सुगबुगाहट पर नाराज हैं।
कुछ लोग स्टेशन का नाम डॉ. आंबेडकर चौक रखने कर रहे हैं। मुस्लिम समाज के कुछ लोग नाम बदले जाने की सुगबुगाहट पर नाराज हैं।

नाम बदले जाने की सुगबुगाहट से मुस्लिम समाज नाराज
हिंदू पक्ष के लोग पूर्व राज्यमंत्री के प्रस्ताव का समर्थन कर रहे हैं। वहीं, मुस्लिम समाज के कुछ लोग नाम बदले जाने की सुगबुगाहट पर नाराज हैं। विवाद में अब तीसरा नाम और जुड़ गया है। कुछ लोग स्टेशन का नाम डॉ. आंबेडकर चौक रखने कर रहे हैं। जानकारों का कहना है कि स्टेशन का नाम किसी जगह के नाम, लैंड मार्क आदि पर रखा जाता है। मनकामेश्वर मंदिर और जामा मस्जिद लैंड मार्क हैं। ऐसे में इन दोनों जगहों के बजाय कोई तीसरा नाम रख देने से स्टेशन की बाहरी लोगों को भौगोलिक क्षेत्र की पहचान नहीं हो पाएगी। स्थानीय स्थल विशेष से ही स्टेशन की पहचान होनी चाहिए।

आगरा मेट्रो के अंडरग्राउंड स्टेशन का काम होगा शुरू:आगरा फोर्ट मेट्रो स्टेशन की डायफ्राम वॉल का होगा निर्माण, कल एमडी करेंगे उद्घाटन

नाम को लेकर अपने-अपने तर्क
मेट्रो स्टेशन के नाम को लेकर अलग-अलग समुदाय के लोग अपने-अपने तर्क दे रहे हैं। मुस्लिम एक्टिविस्ट समी आगाई का कहना है कि जामा मस्जिद स्टेशन के नाम पर अगर किसी को ऐतराज है तो किसी भी धार्मिक स्थल के नाम पर न रखा जाए। इसका नाम डॉ. आंबेडकर स्टेशन रख दिया जाए।

जहां मेट्रो स्टेशन प्रस्तावित है, उससे 200 मीटर की दूरी पर आंबेडकर पार्क है। इसीलिए यहां की पहचान को ध्यान में रखते हुए आंबेडकर पार्क स्टेशन रखने की मांग उठ रही।
जहां मेट्रो स्टेशन प्रस्तावित है, उससे 200 मीटर की दूरी पर आंबेडकर पार्क है। इसीलिए यहां की पहचान को ध्यान में रखते हुए आंबेडकर पार्क स्टेशन रखने की मांग उठ रही।

वहीं, मनकामेश्वर मंदिर के महंत योगेश पुरी का कहना है कि स्टेशन का नाम मनकामेश्वर नाथ के नाम पर रखे जाने के प्रस्ताव का स्वागत है। आगरा शिव की नगरी है। आगरा के चारों कोनों पर शिवजी के मंदिर स्थापित हैं। बीच में मनकामेश्वर नाथ हैं तो स्टेशन का नाम मनकामेश्वर स्टेशन रखा जाना उचित है। इसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए। युवा नेता आशीष प्रिंस ने पीएम, सीएम को ट्वीट करते हुए मेट्रो स्टेशन नाम डॉ. आंबेडकर चौक रखने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि आगरा दलितों की नगरी है, बिजलीघर पर आंबेडकर प्रतिमा भी स्थापित है।

खबरें और भी हैं...