आगरा मेट्रो के लिए जनता से लिया जाएगा फीड बैक:मेट्रो को और बेहतर बनाने को एक दर्जन से ज्यादा विभाग और संगठनों से जानी जाएगी राय

आगरा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राइट्स द्वारा आगरा मेट्रो रेल परियोजना के लिए सामाजिक प्रभाव आकलन अध्ययन किया जाएगा। - Dainik Bhaskar
राइट्स द्वारा आगरा मेट्रो रेल परियोजना के लिए सामाजिक प्रभाव आकलन अध्ययन किया जाएगा।

रेल इंडिया टेक्निकल एंड इकोनोमिक सर्विस (राइट्स) द्वारा आगरा मेट्रो रेल परियोजना के लिए सामाजिक प्रभाव आकलन अध्ययन किया जाएगा। इस अध्ययन की शुरूआत फरवरी से की जाएगी। इस अध्ययन के दौरान आगरा मेट्रो से जुड़े विभिन्न लोगों से बातचीत कर उनके विचारों को जाना जाएगा। जनता से मिले फीड बैक को परियोजना में शामिल किया जाएगा, जिससे मेट्रो को और बेहतर बनाया जा सके।
एक दर्जन से ज्यादा संगठनों से लिया जाएगा फीड बैक
आगरा मेट्रो रेल परियोजना के लिए उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटिड की ओर से राइट्स द्वारा सामाजिक प्रभाव आकलन अध्ययन आयोजित करेगा। इसके लिए परियोजना स्तर पर सार्वजनिक परामर्श, जनगणना और सामाजिक-आर्थिक सर्वेक्षण आयोजित किया जाएगा। इस अध्ययन में जनता की भागीदारी सबसे अहम होगी। सर्वेक्षण और परामर्श फरवरी से शुरू किया जाएगा। इस अध्ययन के दौरान राइट्स की सामाजिक सर्वेक्षण टीम एक दर्जन से ज्यादा विभाग और संगठनों से फीड बैक लेगी। इसमें सरकारी विभागों, नागरिकों, परियोजना से प्रभावित लोगों, रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन (आरडब्ल्यूए) के प्रतिनिधियों, सांस्कृतिक और विरासत कल्याण संघों, ट्रेड यूनियन, मार्केट प्रतिनिधियों, शौक्षणिक संस्थानों, वैज्ञानिकों, समुदाय आधारित संगठन, गैर सरकारी संगठनों सहित परियोजना के हितधारकों आदि के साथ बातचीत करेगी।
दो कॉरिडोर का बनेगा मेट्रो नेटवर्क
ताजनगरी में 29.4 किमी लंबे दो कॉरिडोर का मेट्रो नेटवर्क बनना है, जिसमें 27 स्टेशन होंगे। ताज ईस्ट गेट से सिकंदरा के बीच 14 किमी लंबे पहले कॉरिडोर का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है. इस कॉरिडोर में 13 स्टेशनों का निर्माण होगा. जिसमें 6 एलीवेटेड जबकि 7 भूमिगत स्टेशन होंगे. इसके साथ ही आगरा कैंट से कालिंदी विहार के बीच लगभग 16 कि.मी. लंबे दूसरे कॉरिडोर का निर्माण किया जाएगा, जिसमें 14 ऐलीवेटेड स्टेशन होंगे।