पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बुजुर्ग के उत्साह ने बढ़ाई मरीजों की 'इम्युनिटी':फिरोजाबाद के 80 साल के बुजुर्ग ने 10 दिन में कोरोना को हराया, हॉस्पिटल में ही मनाई शादी की 61वीं सालगिरह

फिरोजाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोविड हॉस्पिटल में केक काटकर मनाया जश्न। - Dainik Bhaskar
कोविड हॉस्पिटल में केक काटकर मनाया जश्न।

कोरोना को हराने के लिए आत्मविश्वास जरूरी है। एक 80 साल के बुजुर्ग के जुनून और जिंदादिली को देखकर तो यही लगता है। फिरोजाबाद के 80 साल के एक बुजुर्ग ने दस दिन में न सिर्फ कोरोना को हराया बल्कि हॉस्पिटल में ही अपनी 61वीं सालगिरह भी मनाई। इससे हॉस्पिटल के दूसरे मरीजों में जोश भर गया।

उत्तर प्रदेश के थाना टूंडला क्षेत्र के गांव लतुर्रा निवासी 80 वर्षीय सतीश चंद्र उपाध्याय कोरोना संक्रमित हो गए थे। बीते 10 दिन से वह कोविड हॉस्पिटल में भर्ती थे। परिजनों के मुताबिक, सतीश चंद्र पंचायत चुनाव में सक्रिय रहे थे। चुनाव समाप्त होने के बाद उन्हें कुछ तकलीफ होने लगी थी। कोरोना जांच कराने पर उनकी रिपोर्ट पॉजीटिव आई थी।

जिंदादिली से जीता दिल
अस्पताल में उन्होंने अपनी जिंदादिली और खुशमिजाजी से सभी का दिल जीत लिया। रविवार को उनकी शादी की 61वीं सालगिरह थी और उनकी रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें घर जाना था लेकिन इससे पहले कोविड हॉस्पिटल में डॉक्टर्स और स्वास्थ्यकर्मियों ने उनकी शादी की सालगिरह मनाने के लिए केक का इंतजाम किया। बुजुर्ग के आत्मविश्वास को देखते हुए अस्पताल में भर्ती अन्य मरीजों के अंदर भी हौसला बढ़ा और सभी ने उनकी शादी की सालगिरह का जश्न मनाया।

सकारात्मक सोच जरूरी
कोरोना संक्रमित सतीश उपाध्याय बताते हैं कि उम्र से फर्क नहीं पड़ता। सकारात्मक सोच और जिंदादिली व्यक्ति का हौसला बढ़ाने का काम करती है। कोरोना मरीजों को घबराना नहीं चाहिए। उसे मात देने के लिए पॉजीटिव सोच जरूरी है।

खबरें और भी हैं...