पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • First Death Due To Poisonous Alcohol, Now The Killing Of Sensations, The Administration Did Not Even Send Wood, Dead Bodies Were Pressed With Pylons, Diesel Started Fire

अलीगढ़ में अंतिम संस्कार का अनादर:पहले जहरीली शराब से मौत, अब संवेदनाओं की हत्या, प्रशासन ने लकड़ियां तक नहीं भिजवाईं, उपलों से दबाया शव, डीजल से लगाई आग

अलीगढ़16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बिना लकड़ियों के अंतिम संस्कार करते परिजन। - Dainik Bhaskar
बिना लकड़ियों के अंतिम संस्कार करते परिजन।

अलीगढ़ के अकराबाद थाना क्षेत्र में पहले जहरीली शराब से मौत तो अब संवेदनाओं की हत्या का मामला सामने आया है। दो दिन पहले हुई जहरीली शराब से मौत के शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद यूं ही परिजनों को सौंप दिया गया। प्रशासन ने इस बात की भी चिंता नहीं रही कि भट्ठे पर काम करने वाले मजदूर शव का अंतिम संस्कार कैसे करेंगे।

सिरोही भट्टे पर भट्टा मजदूर चाची-भतीजे की जहरीली शराब का सेवन करने से मौत हो गई जिसका शव पोस्टमार्टम के बाद भट्ठा मजदूरों के सुपुर्द कर दिया। भट्टा मालिक एवं प्रशासनिक अधिकारियों ने अंत्येष्टि का सामान उपलब्ध नहीं कराया।

मजदूर परिवार नही ंकर सका लकड़ियों का इंतजाम
तिलवा देवी का शव पोस्टमार्टम के बाद मजदूरों के सुपुर्द कर दिया गया। भट्टा मालिक, मुनीम व ठेकेदार ने अपने मोबाइल बंद कर लिए। भट्टा मजदूर महिला की अंत्येष्टि के लिए लकड़ियों का इंतजाम नहीं कर सके। उन्होंने एक चारपाई को तोड़कर महिला की काठी बनाई और नहर किराने शव की अंत्येष्टि के लिए पहुंचे।

उपले लेकर पहुंचे घाट
भट्टा मालिक ने शव को जलाने के लिए जितनी लकड़ियां भेजीं वह पर्याप्त नहीं थीं। मजदूरों ने देखा कि इन लकड़ियों से कुछ नहीं होने वाला तो वह गांव से उपले लेकर पहुंचे और उन्होंने शव को उपलो में दबा दिया तथा डीजल डालकर चिता में आग लगा दी।

वहीं, मृतक महिला के परिजनों ने बताया कि भट्ठा मालिक एवं प्रशासन ने मृतक महिला के अंतिम संस्कार के लिए घी एवं सामग्री उपलब्ध नहीं कराई जिसके चलते चिता में अग्नि के दौरान डीजल का उपयोग किया गया।

खबरें और भी हैं...