आगरा...चंबल सेंचुरी का दायरा घटाने की मांग:पूर्व मंत्री ने जनजागरण रैली को किया रवाना,ग्रामीणों ने की पुष्प वर्षा, ग्रामीणों में जगी विकास की उम्मीद

आगरा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा की बाह तहसील में निकाली गयी जनजागरण बाइक रैली - Dainik Bhaskar
आगरा की बाह तहसील में निकाली गयी जनजागरण बाइक रैली

आगरा की बाह तहसील के ब्लॉक पिनाहट क्षेत्र में चंबल सेंचुरी का दायरा घटाने की मांग को लेकर पूर्व कैबिनेट मंत्री के नेतृत्व में तीन दिवसीय बाइक रैली व जन जागरण यात्रा का आयोजन हुआ। रैली में हजारों की संख्या में समर्थकों एवं ग्रामीणों की भीड़ उमड़ी, यात्रा का गांव गांव में ग्रामीणों द्वारा पुष्प वर्षा कर स्वागत सम्मान किया गया। ग्रामीणों का कहना था कि अगर चंबल सेंचुरी का दायरा घटा कर कम कर दिया गया तो क्षेत्र का काफी विकास हो पायेगा।

आपको बता दें तहसील बाह क्षेत्र से सटी चंबल नदी के सेंचुरी एरिया को घड़ियाल, मगरमच्छ,जलीय जीवों सहित वन्यजीवों के लिए संरक्षित किया गया है। चंबल सेंचुरी का दायरा नदी से करीब 8 किलोमीटर तक का है। सैकड़ों किसानों की खेती भी चंबल सेंचुरी एरिया में आती है। चंबल सेंचुरी होने के कारण किसान अपने खेतों से मिट्टी तो छोड़िए एक पेड़ का डाल भी नहीं काट सकते हैं। बीते कई वर्षों से चंबल पट्टी के किसान और ग्रामीण चंबल सेंचुरी एरिया के नियमों के चलते अपनी फसलों और अपनी जमीनों का लाभ भी नहीं ले सकते, इसके साथ ही चंबल पट्टी के गांवों में विकास कार्य भी नहीं हो पा रहे हैं। सख्त नियमों के कारण ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। ग्रामीणों की परेशानी को लेकर पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता राजा अरिदमन सिंह ने चंबल सेंचुरी एरिया में बसे गांव के हजारों ग्रामीणों के खुशहाल जीवन के लिए उत्तर प्रदेश सरकार से मध्यप्रदेश और राजस्थान की तर्ज पर चंबल सेंचुरी का दायरा कम करने की मांग उठाई है। पूर्व मंत्री ने चंबल नदी सेंचुरी एरिया का दायरा मात्र एक किलोमीटर करने एवं चंबल पट्टी के ग्रामीणों को जागरूक करने के लिए बाह तहसील के पिनाहट ,बाह, जैतपुर ब्लॉकों में दिसंबर की 6,7,8 तारीख को तीन दिवसीय जन जागरण यात्रा विशाल बाइक रैली आयोजन शुरू किया है।

सेंचुरी का दायरा एक किमी करने की उठी मांग

पूर्व कैबिनेट मंत्री के नेतृत्व में पहले दिन की जन जागरण यात्रा हजारों बाइक सवारों के साथ पिनाहट ब्लॉक के गांव तांसोड से शुरू होकर कयेडी,सुखभानपुरा, बड़ापुरा, जगपुरा, मनसुखपुरा, मेदीपुरा, पापरी नागर,पलोखरा,करकौली, मंहगोली,पडुआपुरा,विप्रावली, गांव में जगह-जगह स्वागत के साथ पुष्प वर्षा हुई और कस्बा पिनाहट के गोलस वाटिका में विश्राम हुआ। जन जागरण यात्रा बाइक रैली के माध्यम से पूर्व कैबिनेट मंत्री ने गांव-गांव स्वागत के दौरान ग्रामीणों को बताया कि चंबल सेंचुरी का दायरा मध्य प्रदेश राजस्थान की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में भी मात्र 1 किलोमीटर ही होना चाहिए ताकि ग्रामीणों को कोई परेशानी ना हो और चंबल पट्टी के गांव हैं आसानी से विकास कार्य हो सके। जोकि चंबल सेंचुरी होने के कारण अभी पाबंदी के चलते नहीं हो पाते हैं। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार के पर्यावरण, वन विभाग और जलवायु परिवर्तन मंत्री को पत्र लिखकर भेजकर अवगत कराया था कि चंबल सेंचुरी में जलचर गहरे पानी में ही सुविधा पूर्वक रहते हैं ना कि बीहड़ क्षेत्र के गांव में निवास करते हैं। उक्त जीव जंतु चंबल में ही विचरण और प्रजनन करते हैं। इसलिए चंबल सेंचुरी को 8 किलोमीटर बीहड़ तक निर्धारित किया जाना किसी प्रकार भी तर्कसंगत नहीं है। जन जागरण यात्रा के दौरान पूर्व कैबिनेट मंत्री ने केंद्र एवं प्रदेश सरकार की जमकर सराहना करते हुए सरकार द्वारा चलाई जा रही विकास कार्य योजनाओं की उपलब्धियां गिनाई। उन्होंने कहा कि आज हजारों की संख्या में जन जागरण यात्रा में लोगों का जो समर्थन मिला है जिसे लेकर वह पूरी तरह से लोगों का तहे दिल से धन्यवाद किया।

इन गांव में होगा चंबल सेंचुरी का दायरा कम होने पर विकास

चंबल सेंचुरी के 8 किलोमीटर बीहड़ तक निर्धारित है। जिसका धारा कम करने के लिए पूर्व कैबिनेट मंत्री ने आवाज उठाई है दायरा कम होने पर तहसील बाह क्षेत्र के पडुआपुरा, करकौली, मंहगोली, नदगवाँ, उमरैठा, रेहा, बरेंडा, तासौड़,बघरैना, हरलालपुरा, गुड़ा,बरहा, भगवानपुरा, केंजरा, भटपुरा, रानीपुरा, उमरैठा पुरा, जेबरा, खिल्ली, गुर्जा शिवलाल, खेड़ा राठौर,बासौनी, क्योरी बीच का पुरा, विप्रावली, सहित आदि गांवों में विकास हो सकेगा और इन गांव के हजारों ग्रामीणों का जीवन में खुशियां आएंगी।

सेंचुरी क्षेत्र में अभी तक नहीं हो पा रही सुविधाएं

चंबल सेंचुरी क्षेत्र में लोगों का जीना दुश्वार हो गया है। यहाँ जीवन के लिए उपयोगी मूलभूत सुविधाएँ भी गाँव वासियों को उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। चंबल सेंचुरी एरिया होने के कारण बीहड के गांव में कोई विकास कार्य हो पाते हैं। ग्रामवासी बिजली, पानी एवं सड़क आदि की जरूरी सुविधाओं से वंचित रह कर नारकीय जीवन जीने पर मजबूर हैं। उत्तर प्रदेश की चंबल अभ्यारण सेंचुरी की सीमा को एक किलोमीटर तक किए जाने से ग्राम वासियों को मूलभूत सुविधाएँ मिल सकेंगी। क्षेत्र के निवासियों के जीवन स्तर में व्यापक सुधार आएगा। क्षेत्र के लोगों को विकास कार्यों का लाभ मिल सकेगा। बिजली, पानी, सड़क आदि की समस्याओं का समाधान हो सकेगा और क्षेत्र की जनता खुशहाल जीवन व्यतीत कर सकेगी।

बाइक रैली से पूर्व कैबिनेट मंत्री ने दिखाई सियासी धमक

तीन दिवसीय जन जागरण बाइक रैली यात्रा में भारी संख्या में समर्थकों एवं ग्रामीणों का हुजूम उमड़ पड़ा जिसे लेकर भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री ने अपनी सियासी धमक दिखाई है। जिसे देखकर विपक्षियों के कान खड़े हो गए।बाह विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे पूर्व कैबिनेट मंत्री के साथ समर्थकों और ग्रामीणों की भीड़ शक्ति प्रदर्शन के तौर पर देखी जा रही है। वर्तमान में इनकी पत्नी रानी पक्षालिका इस विधानसभा से विधायक हैं।