नए साल में 24 इलाकों को मिलेगा गंगाजल:98 करोड़ रुपए की लागत से शुरू होगा गंगाजल पायलट प्रोजेक्ट, दयालबाग व आसपास के इलाकों में 24 घंटे मिलेगा गंगाजल

आगराएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

आगरा में पेयजल की परेशानी को दूर करने के लिए गंगाजल प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। शहर का एक बड़ा हिस्सा अभी गंगाजल से वंचित है। ऐसे में वर्ष 2022 में दयालबाग और उसके आसपास के इलाके में गंगाजल की आपूर्ति के लिए गंगाजल पायलट प्रोजेक्ट पर काम शुरू होगा।

इस पायलट प्रोजेक्ट में दो नए पंपिंग स्टेशन व तीन नई विशाल टंकियां बनेंगी तथा पुरानी टंकी व पंपिंग स्टेशनों को दुरुस्त किया जाएगा ताकि प्रेशर के साथ 24 घंटे लोगों को पानी मिल सके। इस प्रोजेक्ट से नगला पदी से गैलाना रोड तक सभी कॉलोनियों, मोहल्लों व मल्टीस्टोरी बिल्डिंगों में 24 घंटे फुल प्रेशर के साथ गंगाजल की सप्लाई हो सकेगी।

इन इलाकों को होगा फायदा
गंगाजल पायलट प्रोजेक्ट से आगरा के कौशलपुर, नगला पदी, चंद्र नगर, विद्यानगर, सरला बाग, कबीर नगर, कबीर कुंज, तुलसी बाग, जय राम बाग, टैगोर नगर, अनुपम बाग, पुष्पांजलि बाग, नगला हवेली, अदन बाग, सरन नगर, राहुल विहार, राहुल ग्रीन, बूढ़ी का नगला, निर्भय नगर, दुर्गा नगर, वीर नगर, रणवीर नगर, आदि के साथ-साथ इस बीच मैं आने वाली सभी कॉलोनियों, मोहल्ले व सभी बहुमंजिला इमारतों को गंगाजल 24 घंटे पूरे प्रेशर के साथ मिलने लगेगा। जहां वाटर लाइन नहीं है, वहां नयी वाटर लाइन डाली जाएंगी।

2019 में आगरा को मिला था गंगाजल
वर्ष 2019 में 9 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोठी मीना बाजार मैदान से सिकंदरा वाटर वर्क्स से गंगाजल आपूर्ति का लोकार्पण किया था। सिकंदरा वाटर वर्क्स से 144 एमएलडी गंगाजल और 144 एमएलउी यमुना जल आधे शहर में सप्लाई हो रहा है। वर्ष 2020 में जनवरी माह में वाटर वर्क्स से भी 200 एमएलडी गंगाजल की सप्लाई शुरू हो गई थी।