आगरा कैंट स्टेशन पर पकड़ा गांजा तस्करों का गैंग:दिव्यांग ने मुनाफे के लिए परिवार के सदस्यों को बना दिया तस्कर, पड़ोस की महिलाओं को भी कर लिया शामिल, 48 किलो गांजा बरामद

आगरा:2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जीआरपी की गिरफ्त में गांजा तस्कर गैंग की महिला सदस्य। - Dainik Bhaskar
जीआरपी की गिरफ्त में गांजा तस्कर गैंग की महिला सदस्य।

आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पर जीआरपी ने गांजा तस्करी करने वाले गैंग को पकड़ा है। इनके पास से 48 किलो गांजा बरामद किया गया है, जिसकी कीमत करीब 4.80 लाख रुपए है। गांजा तस्करी गैंग का सरगना दिव्यांग हैं। उसने मुनाफे के चलते गैंग में अपने परिवार के सदस्यों को शामिल कर लिया। जीआरपी ने पकडे़ गए पांच आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया है।

मुनाफे के चलते परिवार के सदस्यों का बना लिया गैंग
आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पर मंगलवार को जीआरपी ने चेकिंग में प्लेटफॉर्म नंबर दो पर दिव्यांग सहित पांच संदिग्ध लोगों को रोका। तलाशी में इनके पास से 48 किलो गांजा बरामद हुआ। पूछताछ में दिव्यांग आस मोहम्मद ने बताया कि वह तस्करी गैंग का सरगना है। वह अपने परिवार के साथ मिलकर यह धंधा करता है। उसने बताया कि पहले दिल्ली में वह किसी दूसरे के लिए काम करता था और पुड़िया बेचा करता था। उसे पता चला कि चार हजार रुपए किलो थोक में गांजा खरीदने पर उसे फुटकर में पुड़िया बनाकर बेचने पर 10 से 15 हजार रुपए का मुनाफा होता है। इसके बाद उसने गांजा तस्करी के काम में अपने सगे भाई परवेज, पत्नी निशा खातून व पड़ोस की दो अन्य महिलाओं को शामिल कर लिया।

दिव्यांग होने के चलते नहीं करते थे शक
आस मोहम्मद ने बताया कि वह दिव्यांग है, इसलिए उस पर कोई शक नहीं करता था। इसके अलावा उसने अपने गैंग में महिलाओं को शामिल किया, जिससे उन पर भी शक नहीं जाता था। वह विशाखापट्‌टनम से पहले तीन बार गांजा ला चुका है, लेकिन पकड़ा नहीं गया। उसने बताया कि दिल्ली में पकडे़ जाने के डर से वह लोग कैंट स्टेशन पर उतर जाते थे और यहां से बस से दिल्ली तक जाते थे। मगर, इस बार वह पकड़े गए।

ये हुए गिरफ्तार
आरिफ उर्फ परवेज, आस मोहम्मद उर्फ साजन, माया, निशा खातून निवासीगण त्रिलोकपुरी दिल्ली। प्रीति निवासी लक्ष्मी नगर दिल्ली उम्र 34 वर्ष को गिरफ्तार किया है। सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया है।

खबरें और भी हैं...