पूर्व मंत्री बशीर ने अग्रिम जमानत को दिया प्रार्थना पत्र:11 अगस्त को आगरा जिला जज की कोर्ट में होगी सुनवाई, आरोपी पूर्व मंत्री चौधरी बशीर चल रहा है फरार

आगरा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चौधरी बशीर ने 23 जुलाई को 6वीं शादी के दौरान अपनी चौथी पत्नी नगमा को तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया था। - Dainik Bhaskar
चौधरी बशीर ने 23 जुलाई को 6वीं शादी के दौरान अपनी चौथी पत्नी नगमा को तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया था।

पूर्व मंत्री चौधरी बशीर ने पत्नी द्वारा तीन तलाक के मुकदमें में अग्रिम जमानत के लिए प्रार्थना पत्र दिया है। आगरा जिला जज की कोर्ट में प्रार्थना पत्र पर 11 अगस्त को सुनवाई होनी है। अभी चौधरी बशीर फरार चल रहा है।

11 अगस्त को होगी सुनवाई
मंटोला थाने में तीन तलाक के मुकदमें में फरार चले रहे आरोपी चौधरी बशीर ने अपने अधिवक्ता रामप्रकाश शर्मा के माध्यम से अदालत में अग्रिम जमानत के लिए प्रार्थना पत्र दिया है। इसमें कहा गया है कि राजनीतिक षडयंत्र के तहत उसे झूठा फंसाया जा रहा है। उस पर लगाए गए सभी आरोप निराधार हैं। अदालत ने प्रार्थना पत्र पर सुनवाई के लिए 11 अगस्त की तारीख दी है।

23 जुलाई को दिया था तीन तलाक
चौधरी बशीर की पत्नी नगमा को पता चला कि उसका पति 23 जुलाई को शाइस्ता नाम की महिला से 6वीं शादी कर रहा है, तो वह पति के घर पहुंची और शादी रोकने की कोशिश की। इसके बाद पति चौधरी बशीर ने उसे सबके सामने 3 बार तलाक कहकर वहां से निकाल दिया। नगमा की शिकायत पर पुलिस थाना मंटोला में बशीर के खिलाफ तीन तलाक का मुकदमा दर्ज कर लिया। इसके बाद नगमा ने बशीर पर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया। पुलिस अभी तक बशीर को गिरफ्तार नहीं कर पाई है।

पत्नी का आरोप- कपड़ों की तरह बीवियां बदलता है बशीर
नगमा के मुताबिक पति चौधरी बशीर पत्‍नी बदलने के लिए कोई भी वेश धारण कर लेते हैं। नगमा ने पुलिस को इसके सबूत भी दिए हैं। नगमा के पास बशीर की शादी की कुछ तस्‍वीरें हैं। इन तस्‍वीरों के सामने आने से पहले उसे केवल यही पता था कि बशीर ने 2 निकाह किए हैं। जब तस्‍वीरें सामने आईं, तो नगमा को पता चला कि वह उनकी तीसरी नहीं, बल्कि चौथी पत्‍नी है।

पहली शादी सलेमपुर विधायक गजाला से की थी
नगमा ने बताया कि चौधरी बशीर ने 2003 में सलेमपुर विधानसभा से विधायक गजाला से प्रेम विवाह किया था। दोनों की शादी मायावती के कहने पर हुई थी। दोनों 2004 में बसपा से समाजवादी पार्टी में पहुंच गए थे और चौधरी बशीर को मंत्री बनाया गया था। 2005 में इनको एक बेटा हुआ, इसके बाद दोनों में तलाक हो गया।