मोबाइल की लड़ाई में दम्पती ने जान दे दी:आगरा में पत्नी ने नया फोन मांगा तो पति ने फांसी लगा ली, बाद में पत्नी ने भी हाथ की नस काटकर सुसाइड किया; 13 महीने की बेटी अनाथ हुई

आगरा5 महीने पहले
आरती और आकाश की मौत के बाद उनकी 13 माह की बेटी अनाथ हो गई है।- फाइल फोटो

उत्तर प्रदेश के आगरा में एक मामूली सी बात पर एक परिवार बिखर गया। मामला थाना जगदीशपुरा क्षेत्र का है। महंगा मोबाइल न दिलाने पर पत्नी ने पति से झगड़ा किया। झगड़ा इस कदर बढ़ा कि पति ने फांसी लगाकर सुसाइड कर लिया। जब यह बात पत्नी को मालूम हुई तो उसने हाथ की नस काटकर अपनी जान दे दी। जब घर वालों ने दोनों को देखा तो उनकी मौत हो चुकी थी। दंपती के 13 माह की बेटी है। परिवार वालों ने दोनों शवों का अंतिम संस्कार एक चिता पर किया है।

पत्नी से बेहद प्यार करता था आकाश

थाना जगदीशपुरा में राहुल नगर निवासी आकाश कोटेक महिंद्रा कंपनी में जॉब करता था। उसकी 6 मार्च 2018 को ट्रांस यमुना की रहने वाली आरती सिंह के साथ शादी हुई थी। शादी के समय आरती सिर्फ 12वीं पास थी। उसने पति के सामने आगे पढ़ाई जारी करने की इच्छा जताई तो आकाश ने उसकी बातों का मान रखा और आगरा-दिल्ली हाईवे स्थित एक कॉलेज में उसका एडमिशन कराया। कॉलेज में ड्रेस कोड पैंट और शर्ट था। लेकिन ससुराल में इसका विरोध किया गया। आकाश ने कॉलेज वालों से बात कर पत्नी को सूट-सलवार में भेजना शुरू कर दिया। वह कॉलेज पहुंचकर पैंट-शर्ट पहन लेती थी।

छह माह पहले आरती एक कॉल सेंटर में भी जॉब करने लगी थी। 5 दिन पहले उसका एंड्रॉयड मोबाइल फोन खो गया। जब उसने अपने पति आकाश से नया मोबाइल दिलाने के लिए कहा तो आकाश ने टाल दिया। जिसके बाद से लगातार पति पत्नी के बीच में विवाद चल रहा था।

पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शवों को परिजनों के हवाले कर दिया। इसके बाद दोनों का अंतिम संस्कार कर दिया गया।
पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शवों को परिजनों के हवाले कर दिया। इसके बाद दोनों का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

आकाश ने जल्द मोबाइल दिलाने का वादा किया था

रविवार को आरती नए मोबाइल के जिए जिद पकड़कर बैठ गई। आकाश ने जल्द मोबाइल दिलाने का वादा किया। लेकिन दोनों के बीच विवाद इस कदर बढ़ गया कि पति आकाश ने साड़ी के फंदे से लटक कर अपनी जान दे दी। जब आरती ने उसका शव देखा तो उसने भी अपने हाथ की नस काट ली। जब तक परिजनों को इस घटना का पता चला, तब तक पति-पत्नी दम तोड़ चुके थे। परिजनों ने पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

अनाथ हुई 13 माह की मासूम
लगभग साढ़े तीन साल के आकाश और आरती के दांपत्य जीवन में उनके 13 माह की बेटी खुशी ने एक दूसरे से जोड़ रखा था। अब 13 माह की मासूम के सिर से मां-बाप का साया उठ चुका है। परिवार वाले उसकी देखभाल कर रहे हैं। पोस्टमार्टम के बाद जब रविवार की शव परिजनों को मिले श्मशान में एक चिता सजाई गई। दोनों के शव उसी चिता पर रखे गए और उनका एक साथ अंतिम संस्कार किया।

13 साल की बच्ची को नहीं मालूम कि उसके मां-बाप अब इस दुनिया में नहीं है। वह जब भी नींद से उठती है तो वह अपनी मां के बारें में पूछती है।
13 साल की बच्ची को नहीं मालूम कि उसके मां-बाप अब इस दुनिया में नहीं है। वह जब भी नींद से उठती है तो वह अपनी मां के बारें में पूछती है।

शिकायत मिली तो होगी कार्रवाई

थाना जगदीशपुरा प्रभारी राजेश कुमार पांडे ने बताया कि पति-पत्नी में विवाद के चलते जहां पति ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है, वहीं पत्नी ने नस काट कर अपनी जान दे दी। दोनों शवों को पोस्टमार्टम के बाद उनके परिजनों के हवाले कर दिया गया था। कोई शिकायत या तहरीर नहीं मिली है। मिलते ही कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...