आगरा में प्राचीन मंदिर धराशायी:शिव परिवार समेत अन्य देवी-देवताओं की मूर्तिंया थीं; हादसे के वक्त भक्त मंदिर में नहीं थे

आगरा3 महीने पहले

आगरा में बड़ा हादसा टल गया। 17 अगस्त की रात 1 बजे प्राचीन शिव मंदिर की इमारत धराशायी हो गई। गनीमत रही कि हादसा रात को हुआ। दिन में इमारत गिरती, तो बड़ा हादसा हो जाता है। यहां सुबह श्रद्धालुओं की भीड़ जुटती है। अब भक्त एक बार फिर इस मंदिर को बनवाने की तैयारी कर रहे हैं।

नौलक्खा सदर बाजार जोशी मोहल्ला में ये प्राचीन मंदिर है। इसकी इमारत जर्जर हो चुकी है। रात करीब 1 बजे धड़ाम की आवाज के साथ छत समेत मंदिर की इमारत ढा गई। आस-पास रहने वाले लोग दौड़कर मंदिर पर पहुंचे। मलबे में कोई दबा तो नहीं है, इसकी पुष्टि करने के लिए मलबा हटवाया गया। मूर्तियां पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुकी थीं।

मंदिर में कई देवी-देवाताओं की मूर्तियां खंडित हो गई हैं। उन्हें भी मलबा से अलग रखवाया जा रहा है।
मंदिर में कई देवी-देवाताओं की मूर्तियां खंडित हो गई हैं। उन्हें भी मलबा से अलग रखवाया जा रहा है।

प्राचीन मंदिर में कई पीढ़ियों से हो रही पूजा-अर्चना
जोशी मोहल्ला के लोगों ने बताया कि ये प्राचीन मंदिर है। कई पीढ़ियों से यहां भक्त पूजा करने आ रहे हैं। शिव परिवार के अलावा कृष्ण भगवान, वीर बजरंगी, माता रानी आदि की मूर्तियां इसमें स्थापित थीं। पुजारी प्रमोद पंडित ने बताया था कि इमारत जर्जर थी। यहां कोई ट्रस्ट या प्रबंध समिति नहीं थी।

कल से शुरू हो जाएगा मंदिर का जीर्णोद्धार
मौके पर छावनी चेयरमैन डॉ. पंकज महेंद्र भी पहुंच गए। उन्होंने कहा कि मंदिर के जीर्णोद्धार कल कृष्ण जन्मोत्सव से ही शुरू करा दिया जाएगा। महेश शर्मा, सुरेश शर्मा, अशोक शर्मा, सोमेश, हजारीलाल, मोहन लाल, गुरमीत सिंह, बॉबी सलूजा, अजय, अमित पाल आदि ने मंदिर निर्माण के लिए अपना योगदान देने की बात कही।