राज्य मंत्री के क्षेत्र में चुनाव बहिष्कार:रोड नहीं तो वोट नहीं का लगाया बैनर, मंत्री, सांसद और मेयर का लगाया फोटो

आगरा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा की छावनी विधानसभा क्षेत्र के नेहरू एन्क्लेव  में चुनाव बहिष्कार का ऐलान किया गया - Dainik Bhaskar
आगरा की छावनी विधानसभा क्षेत्र के नेहरू एन्क्लेव में चुनाव बहिष्कार का ऐलान किया गया

आगरा कैंट विधानसभा के विधायक और राज्यमंत्री जी एस धर्मेश के क्षेत्र में नेहरू एन्क्लेव के स्थानीय निवासियों ने चुनाव बहिष्कार का ऐलान करते हुए चुनाव बहिष्कार का ऐलान कर दिया है , लोगों अक कहना है की 20 साल से क्षेत्र में सड़क नहीं बनी है जबकि प्रदेश में भाजपा की सरकार है और विधायक और सांसद भाजपा के मंत्री हैं ,इसके साथ ही मेयर भी भाजपा के हैं। इस बार अगर सड़क निर्माण नहीं हुआ तो हम वोट नहीं देंगे और चुनाव का बहिष्कार करेंगे।

आगरा की नेहरू एनक्लेव कॉलोनी निवासियों ने विधानसभा चुनाव का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। स्थानीय निवासी ज्ञानेंद्र सिकरवार ने बताया कि पिछले 20 साल से टूटी सड़क और जलभराव से लोग अत्यंत परेशान हैं, मुख्य मार्ग से अंत तक का रास्ता बेहद खराब है। रास्ते में जगह जगह गड्ढे बने हुए हैं। अक्सर लोग इन्ही में गिरकर चोटिल होते हैं। पिछले दिनों से हो रही लगातार बारिश के कारण रास्ते पर कीचड़ के कारण आना जाना मुश्किल हो गया है और लोगों को परेशानी हो रही है। कई बार पार्षद को बोला उनके कान पर जूं तक नही रेंगती, मेयर नवीन जैन और क्षेत्रीय सांसद को भी शिकायत की गयी लेकिन कहीं कोई सुनवाई नही हो रही है। इससे आहत होकर इस बार समस्त नेहरू एनक्लेव वासियों ने चुनाव बहिष्कार का निर्णय लिया कि जब तक रोड नहीं बनेगी तब तक कोई वोट नही डालेगा । हमने रोड नहीं तो वोट नहीं का बैनर भी लगा दिया है । कालोनी वासियों ने तय किया है की अब वोट मिलेगा तो सिर्फ काम के आधार पर, अब मतदाता जागरूक हो चुका है ,समस्या का कोई निवारण न देख समस्त कोलोनीवासियों ने कोलोनी के दोनों द्वारों पर चुनाव बहिष्कार के होर्डिंग्स लगा दिये हैं।

पूर्व में भी चुका है विरोध

राजयमंत्री के क्षेत्र में लोग पहले भी विरोध कर चुके हैं। पूर्व में सरस्वती विहार, सेवला सराय, अधूरी टंकी के पास वार्ड 15 सराय मलूक चंद के रहने वाले लोगों ने सड़क निर्माण को लेकर विधायक के लापता के पोस्टर लगाकर चुनाव बहिष्कार का ऐलान किया था , इसके साथ ही आगरा कैंटर क्षेत्र में रेलवे अंडरपास की मांग को लेकर भूख हड़ताल कर रहे लोगों से भी उनकी बहस हो चुकी है।