मृतक सिपाही को न्याय दिलाने लिए प्रदर्शन:आगरा में परिजनों ने एडीजी कार्यालय का घेराव किया, महिला सिपाही से प्रेम संबंधों को लेकर हत्या का आरोप...अलीगढ़ एसएसपी को जांच के आदेश

आगरा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
परिजनों ने एडीजी कार्यालय पर न्याय पाने के लिए किया प्रदर्शन। - Dainik Bhaskar
परिजनों ने एडीजी कार्यालय पर न्याय पाने के लिए किया प्रदर्शन।

अपने सिपाही भाई को न्याय दिलाने के लिए आगरा की सड़कों पर पोस्टर लगाने के बाद सोमवार को मृतक सिपाही के परिजनों ने एडीजी कार्यालय पर प्रदर्शन किया। एडीजी ने अलीगढ़ एसएसपी को जांच के आदेश दिए हैं।

होटल में मृत मिला था सिपाही का शव

अलीगढ़ में 8 मार्च 2021 को आगरा के रहने वाले 2018 बीच के सिपाही लोकेंद्र चाहर का शव होटल के कमरे में पाया गया था। जब इसकी सूचना परिजनों को मिली तो परिजन और पुलिस मौके पर पहुंच गए थे।शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया था।

मृतक सिपाही लोकेंद्र के परिजन प्रेम संबंधों के चलते हत्या का आरोप लगा रहे हैं।
मृतक सिपाही लोकेंद्र के परिजन प्रेम संबंधों के चलते हत्या का आरोप लगा रहे हैं।

परिजनों ने लगाया था हत्या का आरोप

मृतक सिपाही लोकेंद्र के भाई महेश चाहर का कहना है कि पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आत्महत्या का मामला बताया और कोई कार्रवाई नहीं की, जबकि परिजनों का कहना है महिला पुलिसकर्मी के साथ प्रेम संबंधों के चलते सिपाही लोकेंद्र चाहर की हत्या कर दी गई। लेकिन पुलिस के द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। उसका सुसाइड नोट और व्हाट्सऐप चैट भी उन्हें नहीं दी गई।

सपोर्ट इंडिया संगठन का मिला सहयोग

इस मामले में सामाजिक संस्था सपोर्ट इंडिया के नेतृत्व में मृतक लोकेंद्र चाहर के परिजन और आगरा ग्रामीण के एडीजी राजीव कृष्ण के पुलिस लाइन स्थित ऑफिस पर धरना प्रदर्शन करते हुए अपनी मांग रखी।परिजनों का कहना था कि सुसाइड नोट और व्हाट्सऐप चैट उन्हें नहीं दिखाई गई। परिजनों के कहने पर भी महिला सिपाही से संबंधों के बारे में जांच नहीं कि गई। एडीजी राजीव कृष्ण ने मृतक सिपाही के परिजनों की समस्या को सुना और मामले की पूरी जानकारी के बाद अलीगढ़ पुलिस कप्तान को जांच के आदेश दिया है।

भाई न्याय के लगाए थे शहर में पोस्टर

सप्ताह भर पहले लोकेंद्र चाहर के भाई महेश ने शहर में घूम घूमकर भाई को न्याय दिलाने की मांग करते हुए जगह जगह पोस्टर लगाए थे। उसने ऐलान किया था कि अगर उसे न्याय नहीं मिला तो वो एडीजी कार्यालय पर धरना देगा।

खबरें और भी हैं...