दूसरी शादी करने जा रहे दूल्हे पर मेहरबान आगरा पुलिस:धारा 151 में किया दूल्हे का चालान; पहली पत्नी ने एसएसपी से लगाई न्याय की गुहार

आगरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रक्षेन्द्र ने रेखा से 2012 में शादी की थी और बाद में घर से निकाल दिया था। - Dainik Bhaskar
रक्षेन्द्र ने रेखा से 2012 में शादी की थी और बाद में घर से निकाल दिया था।

आगरा में एक युवक ने पहली पत्नी से तलाक लिए बिना दूसरी शादी करने का प्रयास किया। शिकायत पर पहुंची पुलिस ने उसको रात भर हवालात में रख कर शांतिभंग की धारा में चालान कर अपनी ड्यूटी पूरी कर ली। इसके बाद परेशान पहली पत्नी ने एसएसपी आगरा से मामले की शिकायत की है। पीड़िता का आरोप है कि सत्ताधारी दल के नेताओं के दबाव में ऐसा किया गया है। मामला ताजगंज थाना क्षेत्र का है।

पीड़िता अपने परिजनों के साथ न्याय की गुहार लगाने एसएसपी कार्यालय पहुंची।
पीड़िता अपने परिजनों के साथ न्याय की गुहार लगाने एसएसपी कार्यालय पहुंची।

ताजगंज क्षेत्र के नगला मंशा में रक्षेन्द्र पुत्र कालीचरण रहता है। उसकी शादी 2012 में थाना सदर क्षेत्र निवासी रेखा पुत्री महाराज सिंह से हुई थी। रक्षेन्द्र मोबाइल की खरीद-फरोख्त का काम करता है। 2014 में उनके एक बेटी हुई। परिवार वालों का आरोप है कि इसके बाद जब दोबारा रेखा गर्भवती हुई, तो ससुराल वालों ने झगड़ा शुरू कर दिया। इसके बाद उसका लिंग परीक्षण करवा कर अबॉर्शन करवा दिया। इसके बाद 2017 में रेखा ने पति के खिलाफ महिला थाना रकाबगंज में मुकदमा दर्ज कराया गया। पीड़िता ने दिल्ली में भी एक मुकदमा दर्ज कराया। दोनों मुकदमे कोर्ट में विचाराधीन हैं।

गुरुवार को फतेहाबाद रोड स्थित होटल ताज इन में रक्षेन्द्र बिना पहली पत्नी को तलाक दिए दूसरी शादी करने जा रहा था। इसका पता चलते ही रेखा के परिजन अपने समर्थकों के साथ होटल पहुंच गए थे और हंगामा कर दिया। पहली पत्नी के सबूत देने के दौरान रक्षेन्द्र कोई जवाब नहीं दे पाया। इस पर पुलिस उसे पकड़ कर थाना ताजगंज ले आई थी। इसके बाद उसकी दुल्हन की शादी उसके भाई से करवा दी गई थी।

थाने में गुजरी थी दूल्हे की रात।
थाने में गुजरी थी दूल्हे की रात।

भाई ने भाजपा नेताओं पर लगाए आरोप

मामले में पुलिस के 151 धारा में चालान करने की जानकारी पीड़िता के भाई को हुई। इस पर उसने सोशल मीडिया पर एक भाजपा नेता और समाज के दो पदाधिकारियों द्वारा पैसे लेकर दबाव बनाने का आरोप लगाया। साथ ही पीड़िता को लेकर एसएसपी आगरा के पास गुहार लगाई।

दरअसल, पीड़िता का भाई भाजपा से जुड़ा है। उसने ही बहन के साथ जाकर शादी रुकवाई थी। पीड़िता का कहना है कि दूसरी शादी करना अपराध है। उनके द्वारा रोकने के दौरान उसे रक्षेन्द्र और उसके परिजनों ने मारपीट की। साथ ही जान से मारने की धमकी दी। मगर, पुलिस ने मामूली धाराओं को लगाकर उसे बचा लिया है। एसएसपी ने सीओ सदर से मामले की जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

खबरें और भी हैं...