अनुष्का-श्रुति जिस कंपनी की एंबेसडर, वह टैक्स चोरी में फंसी:3 साल में 100 करोड़ प्रमोशन पर खर्च किए, पर 10 करोड़ TDS नहीं जमा किया

आगरा2 महीने पहले

ज्वैलरी कंपनी GIVA में 10 करोड़ की टैक्स(TDS) चोरी पकड़ी गई है। एक्ट्रेस अनुष्का शर्मा और श्रुति हसन इसी कंपनी की ब्रांड एंबेसडर हैं। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के TDS ब्रांच ने कंपनी के आगरा में जयपुर हाउस स्थित हेड ऑफिस में सर्वे किया। इसमें पता चला कि कंपनी ने 3 साल में 100 करोड़ रुपए के ब्रांड के प्रमोशन और ब्रांडिंग पर खर्च किए। लेकिन 10 करोड़ का TDS नहीं जमा किया।

इसका पता चलते ही इनकम टैक्स (IT) विभाग ने कंपनी पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। टीम अभी भी सर्वे कर रही है। माना जा रहा है कि सर्वे पूरा होने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

  • अब पढ़िए पूरी कहानी...
बॉलीवुड अभिनेत्री अनुष्का शर्मा जीवा की ब्रांड एंबेसडर हैं।
बॉलीवुड अभिनेत्री अनुष्का शर्मा जीवा की ब्रांड एंबेसडर हैं।

इनकम टैक्स के TDS विंग ने सोमवार को जाने-माने आर्टिफिशियल ज्वेलरी ब्रांड GIVA के 4 ठिकानों पर सर्वे किया। GIVA के प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी मैसर्स इंडिज्वैल फैशंस प्राइवेट लिमिटेड के आगरा में जयपुर हाउस, नोएडा और दिल्ली के आउटलेट पर सर्वे किया गया। सोमवार दोपहर शुरू हुआ यह सर्वे मंगलवार दोपहर में खत्म हुआ।

इसमें 3 साल में 100 करोड़ रुपए से ज्यादा के ऐसे खर्चे और ट्रांजैक्शन पाए गए, जिनके TDS में हेराफेरी की गई है। इनमें या तो TDS काटा नहीं गया है या फिर कम रेट से काटा गया है। कुछ ऐसे भी लेन-देन मिले हैं, जिन पर TDS तो काटा गया है, लेकिन सरकारी खाते में जमा नहीं कराया गया। कुल मिलकर आयकर विभाग ने 10 करोड़ रुपए की TDS चोरी पकड़ी है। इसके अलावा अभी भी कंपनी के कागजातों की जांच चल रही है। माना जा रहा है कि अभी TDS की रकम और में बढ़ सकती है।

इशेंद्र ने 2019 में शुरू की थी GIVA कंपनी
GIVA की शुरुआत एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर इशेंद्र ने 2019 में की। उन्होंने अपने डायरेक्ट-टू-कंज्यूमर (D2C) फाइन ज्वैलरी ब्रांड की स्थापना NIFT ग्रेजुएट ज्वेलरी डिजाइनर निकिता प्रसाद और सचिन शेट्टी के साथ की।

शुरुआती इन्वेस्टमेंट के तौर पर उन्होंने अपने खुद के 10 लाख रुपए लगाए। इसके साथ ही दोस्तों और परिवार वालों ने भी इसमें इन्वेस्ट किया। इंडिया कोशेंट, स्नैपडील के कुणाल बहल और शेयर चैट के सह-संस्थापक अंकुश सचदेवा सहित कई बड़े इनवेस्टर्स ने भी GIVA में अपना पैसा लगाया है। फर्म अन्य प्रोडक्ट्स के बीच झुमके, हार, कंगन और पेंडेंट भी ऑफर करती है। उनके प्रोडक्ट्स की ऐवरेज कीमत 499 से 3,999 रुपए के बीच है।

इस समय ज्वेलरी कंपनी के निदेशक इशेंद्र अग्रवाल और राघवेंद्र अग्रवाल हैं। कंपनी के निदेशक जयपुर हाउस में रहते हैं। उन्होंने अपने घर के पते पर ऑफिस दिखाया हुआ था। आयकर विभाग की TDS विंग आवास पर सर्वे नहीं करती है। विभागीय टीम को जयपुर हाउस पहुंचने के बाद आवास के पते पर कार्यालय दिखाए जाने की जानकारी हुई। ऐसे में टीम ने घर ही सर्वे किया।

श्रुति हासन भी जीवा ब्रांड की ज्वेलरी का प्रमोशन करती हैं।
श्रुति हासन भी जीवा ब्रांड की ज्वेलरी का प्रमोशन करती हैं।

3 टीमों ने की कार्रवाई
आगरा और कानपुर की संयुक्त टीम ने कार्रवाई की है। आयकर विभाग की TDS विंग के कमिश्नर राकेश कुमार गुप्ता और एडिशनल कमिश्नर सतीश राजौरे के निर्देशन और डिप्टी कमिश्नर अंकित तिवारी के नेतृत्व में की गई कार्रवाई में 3 आयकर अधिकारी और आधा दर्जन से अधिक इंस्पेक्टर शामिल रहे।

अनुष्का शर्मा की ब्रांडिंग के चलते कंपनी ने 3 साल में पहचान बना ली है।
अनुष्का शर्मा की ब्रांडिंग के चलते कंपनी ने 3 साल में पहचान बना ली है।

जांच मे सामने आया कि दोनों ने 30 अप्रैल 2019 को कंपनी बनाई थी। महज तीन साल में ही कंपनी ने खुद को ब्रांड के रूप में स्थापित किया। इतना ही नहीं, अपने ब्रांड प्रमोशन के लिए उन्होंने बॉलीवुड की नामी अभिनेत्री अनुष्का शर्मा और श्रुति हासन को ब्रांड एंबेसडर बनाया। संचालक ऑनलाइन कंपनियों के जरिए ट्रेडिंग कर रहे थे। बेंगलुरु में भी कंपनी की कारोबारी गतिविधियां पाई गई हैं।

खबरें और भी हैं...