दूल्हा बन भगवान राम चले जनकपुरी:4 लाख लोग बने बाराती, 130 झांकियां सजीं; रघुवर का रथ आगे बढ़ते ही बारिश शुरू

आगरा2 महीने पहले

उत्तर भारत की ऐतिहासिक राम बारात चल पड़ी है। भगवान राम रथ पर सवार होकर सीता मैया को ब्याहने निकले हैं। 4 लाख लोग बाराती बने हैं। बारात में शामिल होने वाली झांकियां शाम से ही निकलना शुरू हो गई थीं। 8 बजकर 40 मिनट पर बारादरी में प्रभु श्रीराम की आरती उतारी गई।

आरती केंद्रीय राज्य मंत्री प्रोफेसर एसपी सिंह बघेल, विधायक पुरुषोत्तम खंडेलवाल, कमिश्नर अमित गुप्ता, डीएम नवनीत सिंह चहल, SSP प्रभाकर चौधरी ने उतारी। इसके बाद भगवान राम रथ पर सवार होकर बारात लेकर जनकपुरी के लिए निकल पड़े। मगर, जैसे ही रघुवर का रथ आगे बढ़ा, बारिश शुरू हो गई।

इस वजह राम जी का रथ अभी रोक दिया गया है। इस भव्य और अलौकिक नजारे को देखने के लिए दूर-दूर से लाखों लोग आगरा पहुंचे हैं। राम बारात का स्वागत करने के लिए जनकपुरी भी सज कर तैयार है। पूरे क्षेत्र को सतरंगी लाइटिंग से सजाया गया है। 3 दिन तक भव्य आयोजन होगा।

यह फोटो भगवान राम की है। भगवान जी ने करीब 5 किलो का मुकुट पहना है।
यह फोटो भगवान राम की है। भगवान जी ने करीब 5 किलो का मुकुट पहना है।
यह फोटो मयूर नृत्य की है। झांकी में यह लोगों के आकर्षण का केंद्र बना है।
यह फोटो मयूर नृत्य की है। झांकी में यह लोगों के आकर्षण का केंद्र बना है।
यह फोटो आगरा के रावत पाड़ा बाजार में लक्ष्मण के रथ की है।
यह फोटो आगरा के रावत पाड़ा बाजार में लक्ष्मण के रथ की है।
यह फोटो फ्रांस से राम बरात देखने आए पर्यटक निकोलस की है।
यह फोटो फ्रांस से राम बरात देखने आए पर्यटक निकोलस की है।
भगवान की आरती होने के डेढ़ घंटे बाद बारिश शुरू हो गई। इस वजह से रथ को रोक दिया गया है।
भगवान की आरती होने के डेढ़ घंटे बाद बारिश शुरू हो गई। इस वजह से रथ को रोक दिया गया है।
यह बारात निकलने के पहले की झांकी की है। आगरा के कलाकारों ने जमकर डांस किया।
यह बारात निकलने के पहले की झांकी की है। आगरा के कलाकारों ने जमकर डांस किया।
एक व्यक्ति ने सीएम योगी का गेटअप बनाया। वह राम बारात में लोगों का अभिवादन कर रहा है।
एक व्यक्ति ने सीएम योगी का गेटअप बनाया। वह राम बारात में लोगों का अभिवादन कर रहा है।
यह फोटो राम बारात में शामिल बारातियों की है। जगह-जगह लोग भगवान को माला पहनाकर स्वागत कर रहे हैं।
यह फोटो राम बारात में शामिल बारातियों की है। जगह-जगह लोग भगवान को माला पहनाकर स्वागत कर रहे हैं।

गुरुवार सुबह जनकपुरी पहुंचेगी बारात
श्रीराम लीला कमेटी के अध्यक्ष पुरुषोत्तम खंडेलवाल ने बताया, "इस बार प्रभु राम की बारात में 130 झांकियां शामिल हैं। बारात में सबसे आगे शहनाई, ढोल और बैंड-बाजे हैं। इसके पीछे दो ऊंट चल रहे हैं। फिर राजा दशरथ और रानी कौशल्या समेत भगवान के परिजनों का रथ चल रहा है। इसके बाद चांदी के रथ में सवार विष्णु और लक्ष्मी के स्वरूप भी राम भक्तों को लुभा रहे हैं। सबसे अंत में प्रभु श्रीराम का रथ चल रहा है। उनके आगे भरत, शत्रुघ्न और लक्ष्मण के रथ हैं। बारात 22 सितंबर की सुबह सात बजे जनकपुरी पहुंचेगी।

राम बारात में खाटू श्याम जी की झांकी भी चल रही है।
राम बारात में खाटू श्याम जी की झांकी भी चल रही है।
राम बारात में हनुमान जी की झांकी आकर्षण का केंद्र बनी है। लोग हनुमान जी के स्वरूप को देखने के लिए रोड पर एकत्र हो गए।
राम बारात में हनुमान जी की झांकी आकर्षण का केंद्र बनी है। लोग हनुमान जी के स्वरूप को देखने के लिए रोड पर एकत्र हो गए।

इन रास्तों से निकली बारात
प्रभु श्रीराम की बारात लाला चन्नोमल की बारहदरी मन: कामेश्वर गली से प्रारंभ होकर रावतपाड़ा, अग्रसेन मार्ग (जौहरी बाजार), सुभाष बाजार, लाला कोकामल मार्ग (दरेसी नंबर-1 व 2), छत्ता बाजार, कचहरी घाट, बेलनगंज, पथवारी, धूलियागंज, सिटी स्टेशन रोड, घटिया छिली ईंट, फुलट्टी बाजार, सेव का बाजार, किनारी बाजार, कसेरट बाजार होते हुए रावतपाड़ा पर विश्राम लेगी। यहां से दोबारा यमुना पार मार्ग, भगवान टाकीज होते हुए दयालबाग पहुंचेगी।

राम बारात में शामिल झांकियों का शाम 5 बजे से निकलना शुरू हुआ। इसमें बाबा बर्फानी की झांकी शामिल हुई।
राम बारात में शामिल झांकियों का शाम 5 बजे से निकलना शुरू हुआ। इसमें बाबा बर्फानी की झांकी शामिल हुई।
राम बारात में भोलेनाथ की झांकी ने सबको आकर्षित किया।
राम बारात में भोलेनाथ की झांकी ने सबको आकर्षित किया।

ये हैं मुख्य झांकियां
राम बारात में इस बार प्रमुख झांकियों में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की महासभा, रावण-कुंभकरण संवाद, विष्णु-लक्ष्मी जी के स्वरूप, कैला देवी छप्पन भोग हैं। इसके अलावा 15 लाइव झांकी हैं। इसमें ब्रज की लट्ठमार होली, शिव-पार्वती, राधा-कृष्ण और डांडिया की झांकी प्रमुख हैं।

बुधवार शाम को लाला चन्नोमल की बारादरी से श्रीराम की बारात निकाली गई।
बुधवार शाम को लाला चन्नोमल की बारादरी से श्रीराम की बारात निकाली गई।
राम बारात में 130 झांकियां शामिल हुईं। बैंड-बाजे और शहनाई भी बजाई गई।
राम बारात में 130 झांकियां शामिल हुईं। बैंड-बाजे और शहनाई भी बजाई गई।

बारात के स्वागत की हो रही तैयारी
उधर, प्रभु श्रीराम की बारात के स्वागत के लिए दयालबाग वासी पलकें बिछाए इंतजार कर रहे हैं। गुरुवार को सुबह प्रभु श्रीराम, भरत, लक्ष्मण और शत्रुघ्न के साथ यहां पहुंचेंगे और विश्राम करेंगे। इसके लिए महिला मंडल की तैयारियां जोरों पर हैं। दशरथ दुलारों के लिए बर्तन से लेकर वस्त्र खरीदे हैं। पुष्पांजलि हाइट सोसायटी को केदारनाथ धाम की थीम पर सजाया गया है। सोसायटी के चंद्रवीर सिंह ने बताया कि प्रभु राम के स्वरूप उनके घर में विश्राम करेंगे। उनके उपयोग की हर सामान नया खरीदा है। इसमें खाने-पीने के लिए बर्तन, वस्त्र समेत अन्य सामान हैं। वो बस उनके आने का इंतजार कर रहे हैं।

जनकपुरी के लिए शहर में कई स्वागत द्वार तैयार किए गए हैं।
जनकपुरी के लिए शहर में कई स्वागत द्वार तैयार किए गए हैं।

सीएम योगी पहुंच सकते हैं जनकपुरी
जनकपुरी कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को निमंत्रण दिया गया है। माना जा रहा है कि 22 सितंबर को मुख्यमंत्री आ सकते हैं। हालांकि, अभी उनका आने का आधिकारिक कार्यक्रम जारी नहीं हुआ है।

जनकपुरी में तीन दिन तक आयोजन चलेगा। मुख्य आयोजन 22 सितंबर को होगा।
जनकपुरी में तीन दिन तक आयोजन चलेगा। मुख्य आयोजन 22 सितंबर को होगा।

तीन दिन चलेगा जनकपुरी आयोजन
दयालबाग में जनकपुरी सजाई गई है। पूरे क्षेत्र में भव्य लाइटिंग की गई है। हर रास्ता रंग-बिरंगी लाइटिंग से झिलमिला रहा है। लोगों ने भी अपने घरों पर सजावट की है। जनकपुरी में मुख्य आयोजन 22 सितंबर को होगा। नेपाल के जानकी मंदिर की तर्ज पर जनक महल ने आकार ले लिया है। इसको आकृति देने में कोलकाता से आए 55 कारीगर दिन-रात जुटे हैं। पिछले 33 दिन से जनक महल को तैयार किया जा रहा है। 160 फुट चौड़े और 110 ऊंचे जनक महल को 4 हजार बांस-बल्लियों से तैयार किया गया है।

मुख्य कारीगर बिपिन कुमार ने बताया, ''जनक महल पूरी तरह से सज-धजकर तैयार हो गया है। जानकी मंदिर की तरह जनक महल में तीन बड़ी बुर्जियां, मेहराब और झरोखे बनाए गए हैं। जनक महल के आगे फव्वारे लगाए गए हैं। आयोजन के दौरान रंग-बिरंगी रोशनी नहाया यह महल आकर्षण का मुख्य बना है।''

इनपुट- गौरव भारद्वाज, अविनाश जायसवाल और जगत चौहान