एमपी-एमएलए कोर्ट में पेश हुए सांसद राम शंकर कठेरिया:2009 में आगरा में हाईकोर्ट बेंच की मांग को लेकर प्रदर्शन किया था, कोर्ट ने जारी किया था NBW

आगरा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा दीवानी में भाजपा नेता और अधिवक्ताओं से एक चैंबर में बात करते इटावा के सांसद डॉ राम शंकर कठेरिया। - Dainik Bhaskar
आगरा दीवानी में भाजपा नेता और अधिवक्ताओं से एक चैंबर में बात करते इटावा के सांसद डॉ राम शंकर कठेरिया।

12 साल पुराने केस में NBW जारी होने के बाद इटावा के सांसद डॉ. रामशंकर कठेरिया आज आगरा के दीवानी न्यायालय की एमपी-एमएलए कोर्ट में पेश हुए। यहां से उन्हें निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया। इस दौरान दीवानी में उनके तमाम समर्थक मौजूद रहे।

कोर्ट के लिए किया था प्रदर्शन

2009 में आगरा मंडल के अधिवक्ता जसवंत सिंह आयोग की रिपोर्ट के आधार पर आगरा में हाईकोर्ट बेंच की मांग को लेकरआंदोलन कर रहे थे। सभी दलों ने अधिवक्ताओं का समर्थन किया था। इसी दौरान उस समय आगरा के सांसद रहे डॉ. राम शंकर कठेरिया ने अधिवक्ताओं के समर्थन में राजा की मंडी स्टेशन जाकर रेल रोकने का प्रयास किया था। उक्त प्रकरण में रेलवे द्वारा आगरा कैंट आरपीएफ थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया था।

आगरा दीवानी में समर्थकों के साथ डॉ. रामशंकर कठेरिया।
आगरा दीवानी में समर्थकों के साथ डॉ. रामशंकर कठेरिया।

दो बार जारी हुए थे वारंट

सांसद राम शंकर कठेरिया 13 सितंबर को अदालत में पेश हो हुए थे। उन्हें मुकदमे में 23 सितंबर की तारीख मिली थी। सांसद के हाजिर न होने पर वारंट इश्यू कर अदालत ने 27 सितंबर की तारीख दी थी। इसके बाद उनके अदालत में न आने पर एनबीडब्ल्यू जारी कर 29 तारीख तक पेश होने के आदेश न्यायालय ने दिए थे। डॉ राम शंकर कठेरिया एक दिन पहले ही अदालत के सामने उपस्थित हो गए। यहां से उन्हें 30 हजार के निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया।

कठेरिया बोले- लड़ता रहूंगा जनता की लड़ाई

इटावा के सांसद डॉ. राम शंकर कठेरिया ने कहा की आगरा में हाईकोर्ट स्थापना के लिए आंदोलन करते समय उनपर मुकदमा दर्ज हुआ था। अधिवक्ता आज भी प्रयास कर रहे हैं। ऊपर वाला कुछ अच्छा ही करेगा। जनता के हित में हमेशा खड़ा रहा हूं और आगे भी रहूंगा।

खबरें और भी हैं...