पहले चरण में अपनों से ही जूझेगी BJP:कार्यकर्ता कर रहे पैराशूट प्रत्याशियों का विरोध, ब्रज क्षेत्र में मुश्किलें बढ़ीं

आगरा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पहले चरण में अपनों से ही जूझेगी BJP - Dainik Bhaskar
पहले चरण में अपनों से ही जूझेगी BJP

यूपी चुनाव पहले चरण में भाजपा ने ब्रज क्षेत्र में अपनों से ही विरोध ले लिया है। एक के बाद एक कई सीटों पर पैराशूट प्रत्याशी उतार दिए हैं, जिसका अब कार्यकर्ता विरोध कर रहे हैं। इससे अब उन प्रत्याशियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं जो दूसरे दलों से आए और टिकट पा गए। आगरा, मथुरा, हाथरस समेत ब्रज क्षेत्र के कई ज़िलों में भाजपा के दिग्गज नेताओं और कार्यकर्ताओं में इसे लेकर गुस्सा है। पार्टी को इस बार चुनाव में विरोधी दलों के साथ उन बागियों से भी जूझना होगा जो कभी भाजपा की ताकत थे। हालांकि शुक्रवार को आगरा आए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इसी डैमेज को रोकने के लिए ब्रज क्षेत्र के पदाधिकारियों के साथ बैठक भी की थी।

दो सांसदों के करीबी आगरा में भाजपा को दे रहे टक्कर

आगरा में बीजेपी ने एत्मादपुर सीट पर सपा से आए डा. धर्मपाल सिंह और खेरागढ़ सीट पर BSP से आए भगवान सिंह कुशवाह को टिकट दिया है। इन दोनों ही प्रत्याशियों का BJP में विरोध अभी तक थमा नहीं है। पार्टी कार्यकर्ताओं ने भाजपा ब्रज क्षेत्र कार्यालय पहुंचकर प्रदर्शन किया था। इसके बाद केंद्रीय राज्यमंत्री एसपी सिंह बघेल के करीबी भाजपा नेता दिगम्बर धाकरे ने पार्टी छोड़ दी। अब वो खेरागढ़ सीट पर भाजपा प्रत्याशी के खिलाफ निर्दलीय खड़े होकर ताल ठोंक रहे हैं। वहीं एत्मादपुर सीट पर इटावा के सांसद प्रो. रामशंकर कठेरिया के करीबी एवं पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष भाजपा से टिकट न मिलने पर बसपा से टिकट ले आए हैं। वह भाजपा प्रत्याशी को सीधी टक्कर दे रहे हैं। वहीं पूर्व सांसद प्रभुदयाल कठेरिया ने टिकट न मिलने से नाराज होकर पार्टी छोड़ दी और AAP की सदस्यता लेकर अपने बेटे को AAP के टिकट पर आगरा ग्रामीण सीट से चुनाव लड़ा रहे हैं।

हाथरस और सादाबाद सीट पर भाजपा में बगावत
हाथरस और सादाबाद सीट पर भी भाजपा में बगावत शुरू हो गई है। भाजपा ने हाथरस में निवर्तमान विधायक की टिकट काटकर आगरा की पूर्व मेयर अंजुला सिंह माहौर को टिकट दी है। स्थानीय लोगों ने अंजुला माहौर का पुतला भी फूंका। सादाबाद सीट पर बसपा से आए पूर्व कैबिनेट मंत्री रामवीर उपाध्याय को भाजपा द्वारा टिकट दिए जाने का विरोध हो रहा है।

मथुरा में एस के शर्मा ने छोड़ी भाजपा
भाजपा को मथुरा की मांट सीट पर भी झटका लगा है। यहां पार्टी के पुराने कार्यकर्ता एसके शर्मा ने रोते हुए पार्टी छोड़ दी। वो करीब 40 साल पुराने संघ कार्यकर्ता हैं। यहां बीजेपी ने अपने ही पुराने कार्यकर्ता राजेश चौधरी को प्रत्याशी बनाया है। लेकिन एसके शर्मा के आंसू पौंछने में पार्टी नाकाम रही। अब वो चुनाव मैदान में उतर आए हैं और मथुरा सीट पर भाजपा को सीधी टक्कर देंगे।

खबरें और भी हैं...