आगरा में बदलते मौसम ने बढ़ाई लोगों की परेशानी:डेंगू और वायरल फीवर के बीच स्किन इंफेक्शन से लोग परेशान, रोजाना 400-500 मरीज पहुंच रहे हैं जिला अस्पताल

आगरा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा के जिला अस्पताल की ओपीडी में चर्म रोगों के मरीजों की भीड़ बढ़ गयी है। - Dainik Bhaskar
आगरा के जिला अस्पताल की ओपीडी में चर्म रोगों के मरीजों की भीड़ बढ़ गयी है।

आगरा मंडल में डेंगू और संदिग्ध वायरल बुखार के बीच बदलते मौसम में लोगों को चर्म रोग की परेशानी बढ़ गयी है। आगरा में लोगों को इस समय शरीर में फंगल इंफेक्शन और दाद, खाज व खुजली की परेशानी हो रही है।

शरीर पर खुजली के साथ दाने निकलने की परेशानी भी कुछ लोगों के साथ हो रही है। कई लोग एलर्जी के कारण स्किन में खुजली और रूखेपन की परेशानी से भी ग्रस्त हैं। जिला अस्पताल में रोजाना 400-500 मरीज सिर्फ स्किन इंफेक्शन के आ रहे हैं।

बारिश के चलते बढ़ी परेशानी
आगरा के जिला अस्पताल के चर्म रोग विशेषज्ञ डॉक्टर डीपी सिंह के अनुसार बारिश के मौसम में अधिक समय तक भीगे कपड़े पहनने और सड़कों और छतों से गिरने वाले बारिश के गंदे पानी की वजह से लोगों को चर्म रोगों की परेशानी ज्यादा हो रही है।

रोजाना जिला अस्पताल में 400 से 500 मरीज चर्म रोगों के आ रहे हैं। इन मरीजों में सबसे ज्यादा परेशानी यह है कि बीमारी की शुरुआत होने पर बाजार से बिना डॉक्टरी सलाह के दवाएं और तरह-तरह के मरहम का इस्तेमाल करते रहते हैं और जब परेशानी बहुत ज्यादा हो जाती है, तब मरीज जिला अस्पताल आता है।

जिला अस्पताल के ओपीडी में मरीजों की भीड़
जिला अस्पताल के ओपीडी में मरीजों की भीड़

मरीजों ने की यह मांग
जिला अस्पताल की ओपीडी में चर्म रोग के लिए सिर्फ एक ही डॉक्टर हैं। मरीजों को बिना पंखे के गर्मी में कई घंटे इंतजार करना पड़ रहा है। मरीजों का कहना है कि कम से कम दो डॉक्टर हों तो मरीजों का नम्बर जल्दी आ जाएगा। इसके अलावा ओपीडी में पंखों की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए।

डॉ डीपी सिंह
डॉ डीपी सिंह

चर्म रोग से बचने को इन बातों का रखें ध्यान

जिला अस्पताल के चिकित्सक डॉ डीपी सिंह का कहना है कि बारिश के मौसम में लोगों को भीगे कपड़े पहनने से बचना चाहिए। कोशिश रहनी चाहिए की अंडरवियर और बनियान गीली न पहनी जाए। सूती कपड़े पहनने से भी फायदा मिलता है।

बीमारी होने पर अपने बिस्तर और पहनने के कपड़े अलग रखने चाहिए। जिस जगह दिक्कत हुई है, वहां साबुन का प्रयोग बिल्कुल नहीं करना चाहिए और उस जगह को गर्म पानी से धोकर साफ करना चाहिए। दिक्कत होने पर बाहर इलाज की बजाए सबसे पहले डॉक्टर के पास जाकर परामर्श लेना चाहिए।

खबरें और भी हैं...