शिकंजे में इंस्पेक्टर राजेश पांडे:आगरा में थाना प्रभारी पर छेड़छाड़ का आरोप, सुनवाई न होने पर न्यायालय पहुंची दलित महिला, एससीएसटी कोर्ट में वाद दाखिल

आगरा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा के थाना जादीशपुरा प्रभारी राजेश पांडे के ऊपर महिला ने छेड़छाड़ और एससीएसटी एक्ट में न्यायालय में वाद दाखिल किया - Dainik Bhaskar
आगरा के थाना जादीशपुरा प्रभारी राजेश पांडे के ऊपर महिला ने छेड़छाड़ और एससीएसटी एक्ट में न्यायालय में वाद दाखिल किया

आगरा के थाना जगदीशपुरा प्रभारी पर दलित महिला ने छेड़छाड़ और जातिसूचक गालियां देने का आरोप लगाया है। अधिकारियों द्वारा सुनवाई न होने पर पीड़िता ने न्यायालय की शरण ली , न्यायालय ने मामला संज्ञान में लेते हुए आगरा पुलिस के वरिष्ठ अधिकारीयों से मामले की रिपोर्ट मांगी है।

जानकारी के अनुसार थाना जगदीशपुरा क्षेत्र की निवासी महिला का आरोप है कि बीती 5 सितंबर की रात घर जाते समय रास्ते मे अज्ञात युवकों ने छेड़छाड़ की और उसके चेहरे पर वार कर दिया। पीड़िता ने तत्काल पुलिस को सूचना दी मगर थाना प्रभारी राजेश पांडे उल्टा उसे ही अपशब्द कहने लगे। उसने मामले की जानकारी सीओ लोहामंडी को दी। सीओ ने थाना प्रभारी को शिकायत दर्ज करने के आदेश दिए। इसके बाद उसे मजरूम चिट्ठी देकर मेडिकल के लिए भेजने को कहा गया। इसी बीच वहां एक सिपाही ने उसकी मजरूम चिट्ठी गायब कर दी। इसके बाद टाल मटोल होती रही और मुकदमा दर्ज नहीं हुआ। पीड़िता 15 सितंबर को एक बार फिर अपने जानकार व्यक्ति के साथ थाने जाकर थाना प्रभारी से बात करनी चाही। थाना प्रभारी ने उसे जातिसूचक शब्द बोलते हुए अपने जानकार के खिलाफ मुकदमा दर्ज न करने की बात कही और उसे भगा दिया। पीड़िता ने डाक के माध्यम से आला अधिकारियों को शिकायत दर्ज कराई पर कोई सुनवाई नहीं हुई। सोमवार को पीड़िता ने आगरा दीवानी न्यायालय में विशेष न्यायाधीश एससीएसटी कोर्ट के समक्ष धारा 156/3 सीआरपीसी के तहत वाद दाखिल किया है।

न्यायालय ने वाद स्वीकार कर मांगी रिपोर्ट

पीड़िता के अधिवक्ता ऋषिराज चौधरी के अनुसार पीड़िता की परेशानी सच्ची है और न्यायालय उसे इंसाफ देगा। पीड़िता के वाद को स्वीकार कर न्यायालय ने आगरा पुलिस को मामले की रिपोर्ट प्रस्तुत करने के आदेश देते हुए अगली तारीख दी है।

थाना प्रभारी ने बताया साजिश

मामले में थाना प्रभारी जगदीशपुरा राजेश पांडे का कहना है कि एक अधिवक्ता द्वारा जमीन पर कब्जा करने का मामला था और अब वो जानबूझकर साजिशन ऐसा करवा रहा है। मेरी इस नाम की किसी महिला से मुलाकात या बात नहीं हुई है। हमारे आलाधिकारी और माननीय न्यालय उचित जांच करेंगे।

खबरें और भी हैं...