आगरा में भाजपा विधायक बोलीं:पैसे के दम पर कराया जा रहा धरना प्रदर्शन, वो समाधि ले या कुछ करें

आगरा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा के धनौली में नाला निर्माण की मांग को लेकर धरने पर बैठे ग्रामीणों को लेकर विधायक हेमलता ने  बेतुका बयान दिया - Dainik Bhaskar
आगरा के धनौली में नाला निर्माण की मांग को लेकर धरने पर बैठे ग्रामीणों को लेकर विधायक हेमलता ने बेतुका बयान दिया

नाला निर्माण को लेकर धरने पर बैठे स्थानीय लोगों पर भाजपा विधायक ने आपत्तिजनक टिप्पणी की है। विधायक के इस बयान के बाद क्षेत्रीय लोगों में काफी आक्रोश है। बता दें कि नाला निर्माण की मांग को लेकर लगातार 63 दिनों से लगातार धरने पर बैठे आगरा के मलपुरा थाना अंतर्गत धनौली क्षेत्र के निवासियों के लिए आगरा ग्रामीण विधानसभा की भाजपा विधायक हेमलता दिवाकर के बोल बिगड़ गए। उन्होंने कहा कि वहां पैसों के दम पर धरना प्रदर्शन कराया जा रहा है। भाजपा विधायक बोलीं कि हमारा काम विकास कराना है और वो हम कर रहे हैं, कोई समाधि ले या कुछ करे।

नाला निर्माण की मांग को 63 दिन से चल रहा है धरना
नाला निर्माण की मांग को 63 दिन से चल रहा है धरना

आगरा के मलपुरा थाना अंतर्गत धनौली क्षेत्र के लोगों द्वारा बीते कई सालों से नाला निर्माण और सड़क निर्माण की मांग की जा रही है। यहां जलभराव और टूटी सड़क के चलते लोग नारकीय जीवन जीने को मजबूर हैं। तंग आकर 63 दिन पूर्व ग्रामीणों ने एकजुट होकर प्रदर्शन शुरू किया। जनप्रतिनिधियों के खिलाफ प्रदर्शन के बाद जिलाधिकारी प्रभु नारायण सिंह ने उन्हें बुलाया और दस दिन के अंदर समस्या का समाधान करने की बात कही। इसके बावजूद काम न होने पर किसान नेता ने जीवित समाधि ले ली। प्रशासन ने फिर आश्वासन दिया और उन्हें बाहर निकाल लिया। 24 नवंबर को ग्रामीणों ने आगरा जगनेर रोड जाम कर दी तो उन्हें फिर आश्वासन दे दिया गया और 6 दिसंबर को जब एक वृद्धा और पुरुष ने एक साथ समाधि ली तो तहसीलदार, सीओ और ब्लॉक प्रमुख राजू ने अगले दिन काम शुरू करवाने का आश्वासन देते हुए उन्हें बाहर निकाल लिया। आश्वासन के बाद कोई गांव में झांकने तक नहीं आया।

विधायक के बयान से ग्रामीण खफा

जिला मुख्यालय किसी काम से आईं विधायक हेमलता दिवाकर कुशवाहा से जब मीडिया ने उनके विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत धनौली निवासी लोगों की समस्या के बाबत बात की तो उन्होंने कहा की बीती सरकारों में वहां मानसून आते ही एक मंजिल तक पानी भर जाता था। करोड़ों रूपये का विकास कार्य कराया गया है। कोरोना के चलते शासन द्वारा कई कामों का पैसा स्वीकृत नहीं किया गया था लेकिन हमने मुख्यमंत्री से बात कर काम के लिए पैसे स्वीकृत करवाए हैं। वहां तीन जगह काम होना है , जो लोग धरने पर बैठे हैं वो पैसे के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं, समाजसेवियों को समाधि लेने की क्या जरूरत है, हमारा काम विकास कराना है और वो हम कर रहे हैं। अब वो समाधी लें चाहे कुछ करें। धरने में शामिल सावित्री चाहर का कहना है की मूलभूत सुविधाएं हमारा हक है और वो लेकर रहेंगे। विधायक काम करवा दें तो प्रदर्शन क्यों करेंगे। क्षेत्र में न निकलने और कोई काम न करवाने के लिए उनके खिलाफ जगह जगह प्रदर्शन हो चुके हैं।